उत्तर प्रदेश: सुप्रीम कोर्ट के फैसले ने बचाई 1 लाख शिक्षकों की नौकरी

देश की सर्वोच्च अदालत ने उत्तर प्रदेश के करीब 1 लाख सहायक अध्यापकों के लिए राहत की सांस वाला फैसला सुनाया है.

News18 Uttar Pradesh
Updated: July 16, 2019, 6:18 PM IST
उत्तर प्रदेश: सुप्रीम कोर्ट के फैसले ने बचाई 1 लाख शिक्षकों की नौकरी
सुप्रीम कोर्ट यह फैसला 2011 और उसके बाद यूपी में हुई सभी टीईटी परीक्षाओं और नियुक्तियों पर लागू होता है.
News18 Uttar Pradesh
Updated: July 16, 2019, 6:18 PM IST
देश की सर्वोच्च अदालत ने उत्तर प्रदेश के करीब 1 लाख सहायक अध्यापकों के लिए राहत की सांस वाला फैसला सुनाया है. सुप्रीम कोर्ट ने इलाहाबाद हाईकोर्ट के 30 मई 2018 के उस फैसले को रद्द कर दिया है जिसमें यह कहा गया था जिन लोगों का टीईटी रिजल्ट पहले आया और बीएड या बीटीसी का रिजल्ट बाद में आया उनका टीईटी प्रमाण पत्र वैध नही माना जाएगा.

इलाहाबाद हाईकोर्ट के इस फैसले को सुप्रीम कोर्ट में चुनौती दी गई थी. सुप्रीम कोर्ट यह फैसला 2011 और उसके बाद यूपी में हुई सभी टीईटी परीक्षाओं और नियुक्तियों पर लागू होता है. दरअसल यह याचिका टीईटी प्रमाण पत्र की वैधता को लेकर डाली गई थी. इस याचिका पर सुनवाई करते हुए सर्वोच्च अदालत ने इलाहाबाद हाईकोर्ट के फैसले को रद्द कर दिया है.

हाईकोर्ट के निर्णय में कहा गया था कि जिन शिक्षकों के प्रशिक्षण का परिणाम टीईटी रिजल्ट के बाद आया है, उनका चयन निरस्त कर दिया जाए. इसके बाद शिक्षकों ने सुप्रीम कोर्ट का रुख किया था. सुप्रीम कोर्ट के इस आदेश का असर वर्तमान में चल रही 68,500 शिक्षकों की भर्ती पर भी पड़ेगा.
ये भी पढ़ें:

खत्म हुई मुलायम-चंद्रशेखर की दोस्ती की विरासत, BJP के साथ नया अध्याय लिखेंगे नीरज शेखर

मेरठ में पुलिस और बदमाशों के बीच मुठभेड़, CO और गनर को लगी गोली
First published: July 16, 2019, 6:02 PM IST
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...