बाबरी मस्जिद विध्वंस मामला: 9 महीने के भीतर फैसला सुनाने का आदेश

सीबीआई के विशेष जज एसके यादव 30 सितंबर को रिटायर होने वाले हैं, पिछली सुनवाई के दौरान उन्होंने . सुप्रीम कोर्ट को बताया था कि मुकदमा निपटने में छह महीने का वक्त और लगेगा. कोर्ट ने उनका कार्यकाल बढ़ा दिया है

News18Hindi
Updated: July 19, 2019, 12:32 PM IST
बाबरी मस्जिद विध्वंस मामला: 9 महीने के भीतर फैसला सुनाने का आदेश
सुप्रीम कोर्ट ने बाबरी मस्जिस विध्वंस मामले की सुनवाई कर रहे सीबीआई के विशेष जज एसके यादव के कार्यकाल को बढ़ा दिया है. (फाइल फोटो)
News18Hindi
Updated: July 19, 2019, 12:32 PM IST
सुप्रीम कोर्ट ने बाबरी मस्जिस विध्वंस मामले की सुनवाई कर रहे सीबीआई के विशेष जज एसके यादव के कार्यकाल को बढ़ा दिया है. सुप्रीम कोर्ट ने एसके यादव को नौ महीने के अंदर मामले पर फैसला सुनाने का आदेश दिया है.

इस मामले पर शुक्रवार को सुप्रीम कोर्ट में सुनवाई हुई. सीबीआई के विशेष जज एसके यादव 30 सितंबर को रिटायर होने वाले हैं, पिछली सुनवाई के दौरान उन्होंने कोर्ट को बताया था कि मुकदमा निपटने में छह महीने का वक्त और लगेगा. इसके बाद सुप्रीम कोर्ट ने उत्तर प्रदेश सरकार से जवाब मांगा था कि मामले में फैसला दिए जाने तक विशेष जज के कार्यकाल को कैसे विस्तार दिया जा सकता है. सुप्रीम कोर्ट ने कहा था कि यह बेहद जरूरी है कि सीबीआई जज एसके यादव मामले की सुनवाई पूरी करके फैसला सुनाएं.



बीजेपी के बड़े नेताओं पर चल रहा है केस

बता दें कि बाबरी मस्जिद विध्वंस मामले में लखनऊ की निचली अदालत में लालकृष्ण आडवाणी, मुरली मनोहर जोशी, उमा भारती और विनय कटियार जैसे बीजेपी के बड़े नेताओं के खिलाफ मुकदमा चल रहा है.

ये भी पढ़ें: बाबरी मस्जिद गिराने की साजिश के मामले पर आज SC में सुनवाई

 
First published: July 19, 2019, 11:56 AM IST
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...