Home /News /uttar-pradesh /

कोरोना से मिली सरकारी स्कूलों को संजीवनी तेजी से बढ़ा दाखिले का दौर

कोरोना से मिली सरकारी स्कूलों को संजीवनी तेजी से बढ़ा दाखिले का दौर

सरकारी

सरकारी स्कूल में पढ़ाई करते छात्र

कोरोना काल में जहां हर किसी को अनेकों दिक्कतों का सामना करना पड़ा.वहीं सरकारी इंटर कॉलेजों को इससे संजीवनी मिली है .  इस बार कॉलेजों में प्रवेश को लेकर मारामारी देखने को मिल रही है.अभिभावक प्राइवेट स्कूलों की तरफ कम रुख कर रहें हैं.तो वहीं यूपी बोर्ड के सरकारी और एडेड कॉलेजों में बड़ी संख्या में दाखिले हो रहें हैं.

अधिक पढ़ें ...

    कोरोना काल में जहां हर किसी को अनेकों दिक्कतों का सामना करना पड़ा.वहीं सरकारी इंटर कॉलेजों को इससे संजीवनी मिली है . इस बार कॉलेजों में प्रवेश को लेकर मारामारी देखने को मिल रही है.अभिभावक प्राइवेट स्कूलों की तरफ कम रुख कर रहें हैं.तो वहीं यूपी बोर्ड के सरकारी और एडेड कॉलेजों में बड़ी संख्या में दाखिले हो रहें हैं. इसका नतीजा है कि बंपर दाखिलों से बड़े सरकारी कॉलेजों को एडमिशन विंडो बंद कर छात्रों को लौटाना पड़ रहा है. कोरोना काल के दौरान प्राइवेट स्कूल और कॉलेज ने बराबर फीस ली थी किसी भी तरह की फीस में कटौती नही की गई थी. जिससे अभिभावकों को बंद स्कूल के दौरान भी अपने बच्चो के लिए पूरी फीस जमा करनी पड़ी थी .
    लॉकडाउन के कारण सारे स्कूल कॉलेज बंद रहे. लम्बे समय तक सभी बच्चों ने ऑनलाइन और इंटरनेट के माध्यम से अपनी पढ़ाई और क्लास अटेंड की.
    अभिभावकों का कहना है कि जब बच्चें स्कूल जाके नहीं पढ़ रहे है तो फीस में थोड़ी सहूलियत देनी चाहिए क्योकि कोरोना काल के कारण सभी के काम और बिज़नेस पर भी असर आया है.साथ ही महंगाई कम होने का नाम नहीं ले रही है.सरकारी स्कूलों की फीस अभिभावक आसानी से दे सकते है और वह उनपर बोझ नही बन रही है

    कालीचरण इंटर कॉलेज के प्रिंसिपल डॉ. महेंद्र नाथ राय ने लोकल 18 की टीम को बताया कि कोरोना की चुनौती को स्वीकार करते हुए ऑनलाइन पढ़ाई जारी रखी. फीस छात्रों से ली नहीं जाती, इसे देखते हुए इस बार काफी दाखिले हुए.वहीं प्राइवेट स्कूलों की बात की जाए तो प्रवेश ना के बराबर हैं.

    Tags: Lucknow city, Lucknow news

    विज्ञापन

    राशिभविष्य

    मेष

    वृषभ

    मिथुन

    कर्क

    सिंह

    कन्या

    तुला

    वृश्चिक

    धनु

    मकर

    कुंभ

    मीन

    प्रश्न पूछ सकते हैं या अपनी कुंडली बनवा सकते हैं ।
    और भी पढ़ें
    विज्ञापन

    टॉप स्टोरीज

    अधिक पढ़ें

    अगली ख़बर