Assembly Banner 2021

आफत की बारिश ने ली 44 की जान, जानिए कब तक जारी रहेगा इसका कहर

भारी बारिश बनी मुसिबत

भारी बारिश बनी मुसिबत

मुख्यमंत्री ने अधिकारियों से कहा है कि वे भारी बारिश के कारण जान गंवाने वाले लोगों के परिजनों को चार-चार लाख रुपये की आर्थिक मदद सुनिश्चित करें. साथ ही घायलों के उपचार की समुचित व्यवस्था करें.

  • Share this:
लखनऊ. उत्तर प्रदेश (Uttar pradesh) के ज्यादातर इलाकों में पिछले लगभग दो दिन से हो रही आफत की बारिश (Rain) का सिलसिला शुक्रवार को भी जारी रहा. प्रदेश में पिछले 24 घंटों के दौरान भारी बारिश के चलते हुए हादसों में 44 लोगों की मौत हो गयी जबकि बताया जा रहा है कि शनिवार को भी बारिश का क्रम जारी रहेगा.

आंचलिक मौसम केन्द्र के डायरेक्टर जेपी गुप्ता ने शुक्रवार को बताया कि अभी दक्षिण-पश्चिमी उत्तर प्रदेश में चक्रवात का प्रभाव बना हुआ है और साथ ही बंगाल की खाड़ी से आ रही पूर्वी हवा की वजह से यह बारिश हो रही है. उन्होंने बताया कि प्रदेश के पूर्वी हिस्सों में लगभग सभी स्थानों पर पश्चिमी भागों में कुछ जगहों पर बारिश हो रही है.

हादसों में कुल 44 लोगों की मौत
प्रदेश में जगह-जगह हो रही बारिश आफत बनकर टूटी है. पिछले 24 घंटों के दौरान राज्य में बारिश के कारण दीवार ढहने, मकान गिरने, बिजली गिरने और सर्पदंश समेत विभिन्न वर्षाजनित हादसों में कुल 44 लोगों की मौत हो गयी.
सबसे ज्यादा रायबरेली में हुई मौतें


राहत आयुक्त कार्यालय से मिली जानकारी के मुताबिक प्रतापगढ़ और रायबरेली में सबसे ज्यादा छह-छह मौतें हुई हैं. इसके अलावा अमेठी में पांच, चंदौली और वाराणसी में चार-चार, बाराबंकी, महोबा और प्रयागराज में तीन-तीन, अम्बेडकर नगर में दो, गोरखपुर, सोनभद्र, अयोध्या, सहारनपुर, जौनपुर, कौशाम्बी, कानपुर और आजमगढ़ में एक-एक व्यक्ति की हादसों में मौत हो गयी.

शनिवार तक बंद रहेंगे स्कूल
भारी बारिश के कारण विभिन्न जिलों में आम जनजीवन अस्त व्यवस्त हो गया. लगातार हो रही बारिश के कारण प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने सभी मंडलायुक्तों और जिलाधिकारियों को निर्देश दिए कि वे प्रभावित लोगों तक तत्काल राहत पहुंचाना सुनिश्चित करें. राजधानी लखनऊ सहित प्रदेश के विभिन्न जिलों में जिला प्रशासन ने भारी बारिश के मद्देनजर स्कूलों को शनिवार तक बंद रखने के आदेश दिए हैं.

मरने वालों को 4 लाख का मुआवजा
एक अधिकारी ने शुक्रवार को बताया कि मुख्यमंत्री ने संबद्ध अधिकारियों से कहा है कि वह बारिश से प्रभावित क्षेत्रों और बाढ़ की स्थिति का सामना कर रहे इलाकों का दौरा करें, मुख्यमंत्री ने अधिकारियों से कहा है कि वे भारी बारिश के कारण जान गंवाने वाले लोगों के परिजनों को चार-चार लाख रुपये की आर्थिक मदद सुनिश्चित करें. साथ ही घायलों के उपचार की समुचित व्यवस्था करें.

योगी ने यह निर्देश भी दिया कि जिन जगहों पर जलभराव है, उसे दुरुस्त करने के तत्काल उपाय किए जाएं.
(एजेंसी इनपुट के साथ)

ये भी पढ़ें:

कल्याण सिंह पर आरोप तय होने से दुखी है संत समाज, ना भोजन किया ना फलाहार
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज