डेढ़ करोड़ छात्रों में इस बार भी समय पर जूते-मोजे नहीं बांट पाएगी सरकार

पिछले साल जब इस योजना को शुरू किया गया तब भी विभाग की लापरवाही से नवंबर-दिसंबर तक जूतों की सप्लाई होती रही थी. इतना ही नहीं छात्रों को दिए गए जूते इतने घटिया निकले कि चंद महीनों में ही फटने लगे थे.

News18 Uttar Pradesh
Updated: June 14, 2018, 12:14 PM IST
डेढ़ करोड़ छात्रों में इस बार भी समय पर जूते-मोजे नहीं बांट पाएगी सरकार
फाइल फोटो
News18 Uttar Pradesh
Updated: June 14, 2018, 12:14 PM IST
उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने बेसिक शिक्षा विभाग को निर्देश दिए हैं कि प्राइमरी स्कूल के छात्रों को जुलाई के पहले हफ्ते में ही जूते-मोजे बांट दिए जाएं. इसके तहत प्रदेश के डेढ़ करोड़ से अधिक छात्रों को जूते-मोजे बांटे जाने हैं. लेकिन टेंडर को लेकर चल रहे विवाद के कारण ऐसा कैसे हो पाएगा? यह बड़ा सवाल है.

असल में यह सारी समस्या बेसिक शिक्षा विभाग की मनमानी की वजह से सामने आई है. एक तरफ तो विभाग ने टेंडर में शर्त रखी कि कोई भी कंपनी अगर कुल बांटे जाने वाले जूते-मोजे के 25 प्रतिशत से कम की सप्लाई करेगी तो उसकी जमानत राशि जब्त कर ली जाएगी. लेकिन जब टेंडर में एक कम्पनी ने सबसे कम 115.54 रुपये की दर से 60 प्रतिशत काम अकेले करने की सहमति दे दी तो विभाग खुद ही अपनी बात से पलट गया. अब विभाग ने 10 कंपनियों को टेंडर देने का निर्णय करके सभी से 10-10 परसेंट जूते की सप्लाई लेने की बात कही है.

यह भी पढ़ें: नहीं सुधर रहा बेसिक शिक्षा विभाग, फिर शुरू हुआ बच्चों को जूते बांटने के लिए टेंडर का खेल

इसी वजह से सबसे कम दाम देने वाली कंपनी ने पहले मुख्यमंत्री के यहां शिकायत दर्ज कराई और फिर हाईकोर्ट की लखनऊ बेंच में रिट फाइल की. बेसिक शिक्षा विभाग और वाली कंपनियों के बीच विवाद के चलते अब तक फर्मों ने काम नहीं शुरू किया है. अब देखना यह है कि यह विवाद कब सुलझेगा और कब छात्रों को जूते-मोजे मिलेंगे?

यह भी पढ़ें: घटिया क्वालिटी के जूते-मोजे बांटने पर HC ने कहा- अफसरों ने करदाताओं का पैसा बर्बाद किया

जून का आधा महीना बीत चुका है. ऐसे में इतना लगभग तय है कि इस बार भी समय से छात्रों को जूते-मोजे नहीं मिल पाएंगे. मालूम हो कि पिछले साल जब इस योजना को शुरू किया गया तब भी विभाग की लापरवाही से नवंबर-दिसंबर तक जूतों की सप्लाई होती रही थी. इतना ही नहीं छात्रों को दिए गए जूते इतने घटिया निकले कि चंद महीनों में ही फटने लगे थे.

(रिपोर्ट: शैलेश अरोड़ा)

यह भी पढ़ें:

यूपी में छात्रों को बांटे गए घटिया स्कूल बैग और जूते, चंद महीने में ही फटे

खबर का असर: छात्रों को घटिया स्कूल बैग और जूते देने के मामले में हुए जांच के आदेश
पूरी ख़बर पढ़ें
अगली ख़बर