उत्तर प्रदेश में आंधी-बारिश का कहर, 14 की मौत, कई घायल

अवध क्षेत्र में सात लोगों की मौत हो गई. अकेले सीतापुर में 6, गोंडा में 3 और फ़ैजाबाद में एक की मरने की सूचना है. जबकि कन्नौज व कौशांबी में दो-दो और हरदोई में एक की जान चली गई.

News18 Uttar Pradesh
Updated: June 14, 2018, 11:41 AM IST
उत्तर प्रदेश में आंधी-बारिश का कहर, 14 की मौत, कई घायल
यूपी में आंधी-तूफान का कहर (फाइल फोटो)
News18 Uttar Pradesh
Updated: June 14, 2018, 11:41 AM IST
उत्तर प्रदेश में बुधवार शाम आई तेज आंधी, बारिश और बिजली गिरने से अलग-अलग जिलों में 14 लोगों की मौत हो गई, जबकि कई 28 घायल हैं. सूबे के सीतापुर, फ़ैजाबाद, चित्रकूट, गोंडा, हरदोई, कौशांबी और कन्नौज जिले में आंधी और बारिश ने जमकर कहर बरपाया.

अवध क्षेत्र में सात लोगों की मौत हो गई. अकेले सीतापुर में 6, गोंडा में 3 और फ़ैजाबाद में एक की मरने की सूचना है. जबकि कन्नौज व कौशांबी में दो-दो और हरदोई में एक की जान चली गई.

यह भी पढ़ें: NCR, पश्चिमी यूपी में कई जगह आंधी-तूफान का कहर, 15 की मौत, कई घायल

गोंडा जिले के नवाबगंज क्षेत्र के अंबरपुर गांव में तेज आंधी की वजह से पेड़ की डाल गिरने से दो चचेरी बहनें कोमल व श्वेता की दबकर मौत हो गई. सीतापुर जिले के सदरपुर क्षेत्र के धर्मपुर में छप्पर की दीवार गिरने से अरबी (20) की मौत हो गई. वहीं, सदरपुर क्षेत्र के सद्दूपुर में टीनशेड व दीवार गिरने से नजर मोहम्मद के पुत्र सुहेल (12) की दबकर मौत हो गई. महोली में छत से गिरकर भन्नू की जान चली गई.

दूसरी तरफ फ़ैजाबाद के कैंट क्षेत्र में पेड़ गिरने से मुमताज नगर निवासी श्रीमती (45) की मौत हो गई. वहीं, अयोध्या में 50 से अधिक पेड़ धराशायी हो गए, जबकि छह से अधिक लोग जख्मी हुए हैं.

मानसून के तेवर कमजोर
देश के उत्तरी व उत्तर-पश्चिमी इलाके में सक्रिय चक्रवात की वजह से मानसून की रफ़्तार धीमी हो गई है. जिसकी वजह से यूपी में मानसून चार से पांच दिन की देरी से पहुंचने की संभावना है. आंचलिक मौसम विभाग के निदेशक जेपी गुप्ता ने बताया कि वैसे तो यूपी में मानसून 15 जून करीब दश्तक देता है. लेकिन पश्चिमी उत्तर प्रदेश में जारी उठापठक की वजह से इसकी रफ़्तार धीमी हुई है.
पूरी ख़बर पढ़ें
अगली ख़बर