लापरवाही! Corona मरीज का बदला शव, पता चला तो हुआ हंगामा, DM ने दी सफाई
Lucknow News in Hindi

लापरवाही! Corona मरीज का बदला शव, पता चला तो हुआ हंगामा, DM ने दी सफाई
टीएस मिश्रा अस्पताल पर कोरोना पॉजिटिव मृतक का शव बदले का आरोप लगा है.

लखनऊ (Lucknow) के कृष्णानगर निवासी 65 वर्षीय मरीज की कोरोना वायरस संक्रमण (Coronavirus Infection) की वजह से कानपुर रोड स्थित टीएस मिश्रा अस्पताल (TS Mishra Hospital) में इलाज के दौरान मौत हो गयी, लेकिन जब अंतिम संस्कार के समय परिजनों को शव दिखाया गया तो हंगामा मच गया.

  • Share this:
रूदाही. इस समय देश के साथ उत्‍तर प्रदेश में भी कोरोना वायरस संक्रमण (Coronavirus Infection) बेकाबू होता दिखाई दे रहा है. इस बीच, स्वास्थ्य विभाग की एक बड़ी लापरवाही सामने आई है. कानपुर रोड स्थित टीएस मिश्रा अस्पताल (TS Mishra Hospital) पर कोरोना पॉजिटिव मृतक का शव बदले जाने का आरोप लगा है. इस मामले में परिजनों ने हंगामा करते हुए डीएम से न्याय की गुहार लगाई है. हालांकि हंगामा मचने के कुछ देर बाद डीएम ऑफिस ने बताया कि मामले का निस्तारण हो गया है, लेकिन परिजनों का कहना था कि उन्हें अभी तक वास्तविक शव नहीं मिल पाया है.

ये है पूरा मामला
राजधानी लखनऊ के कृष्णानगर निवासी यतीन्द्र कुमार मिश्रा (65) छह दिन पहले कोरोना पॉजिटिव पाए गए थे. इसके बाद उन्हें कानपुर रोड स्थित टीएस मिश्रा अस्पताल में भर्ती कराया गया था. बेटे महेंद्र तिवारी ने बताया कि वहां पर उनकी स्थिति लगातार बिगड़ती जा रही थी. अंततः शनिवार की शाम को उन्होंने दम तोड़ दिया. इसकी जानकारी अस्पताल प्रशासन ने देते हुए रविवार को भैंसा कुंड पर कोरोना प्रोटोकॉल के तहत अंतिम संस्कार करने की जानकारी दी. महेंद्र ने बताया कि रविवार को जब वह अपने परिवार और रिश्तेदार के साथ भैंसा कुंड गए थे, तब उनके पिता का चेहरा दिखाया गया था, लेकिन वह उनके पिता का शव नहीं था. इसकी शिकायत जब स्वस्थ्य विभाग की टीम से की गई तो वे टालमटोल करने लगे. इसके बाद लखनऊ डीएम से फोन कर मामले में मदद मांगी गई.

डीएम ऑफिस ने कहा मामला खत्‍म, परिवार ने कही ये बात
हालांकि महेंद्र ने रविवार रात 9.30 बजे तक अपने पिता का शव न मिल पाने की बात कही है. जबकि डीएम ऑफिस ने कहा कि मामला सुलझ गया. इस संबंध में डीएम से सम्पर्क किया गया तो वे शासन की मीटिंग में थे. उनके मातहत ने बताया कि इस संबंध में पीड़ितों और अस्पताल प्रशासन से बात हुई है. मामला हल हो गया है. जल्दी ही मृतक का शव उन्हें उपलब्ध कराया जाएगा. वहीं, इस संबंध में जब सीएमओ डॉ. आरपी सिंह से सम्पर्क किया गया तो उन्होंने फोन नहीं उठाया.



शिकायत करने पर होगी जांच
डीएम ऑफिस से बताया गया कि इस मामले में अगर पीड़ित परिवार लिखित में शिकायत करता है तो मामले की जांच कराई जाएगी और जो भी दोषी होगा उस पर कड़ी कार्रवाई की जाएगी. डीएम ऑफिस ने इसे बेहद संवेदनशील मामला बताया है.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज