कोराना के खिलाफ जंग में योगी सरकार ने झोंकी ताकत, अब तक करीब 5 करोड़ की मेडिकल स्क्रीनिंग, 3 लाख की कोरोना जांच
Lucknow News in Hindi

कोराना के खिलाफ जंग में योगी सरकार ने झोंकी ताकत, अब तक करीब 5 करोड़ की मेडिकल स्क्रीनिंग, 3 लाख की कोरोना जांच
मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ (फाइल फोटो)

सीएम योगी आदित्यनाथ (CM Yogi Adityanath) की टीम-11 की बैठक के दौरान अफसरों ने बताया कि यूपी में अब तक 4 करोड़ 85 हजार से ज्यादा लोगों की मेडिकल स्क्रिनिंग हो चुकी है. अब तक 3 लाख लोगों की जांच हो चुकी है. यही नहीं 8 लाख 86 हजार 400 से अधिक घरों तक जांच के लिए मेडिकल टीमें पहुंचीं.

  • Share this:
  • fb
  • twitter
  • linkedin
लखनऊ. कोरोना (COVID-19) को लेकर अनलॉक-1 (Unlock-1.0) के शुरू होते-होते उत्तर प्रदेश (Uttar Pradesh) की योगी सरकार (Yogi Government) ने मेडिकल स्क्रीनिंग (Medical Screeing) और कोरोना जांच (Corona Test) को लेकर युद्ध स्तर पर पूरी ताकत झोंक दी है. बुधवार को टीम-11 की बैठक में सीएम योगी आदित्यनाथ (CM Yogi Adityanath) ने प्रदेश में हो रही कोरोना जांचों की समीक्षा की. अफसरों ने बताया कि यूपी में अब तक 4 करोड़ 85 हजार 700 से ज्यादा लोगों की मेडिकल स्क्रिनिंग हो चुकी है. यूपी में तेजी से जांच का दायरा बढ़ा है. अब तक 3 लाख लोगों की जांच हो चुकी है. यही नहीं 8 लाख 86 हजार 400 से अधिक घरों तक जांच के लिए मेडिकल टीमें पहुंचीं.

वरिष्ठ अफसरों के अनुसार सीएम योगी के निर्देश पर स्वास्थ्य महकमे की एक लाख मेडिकल टीमें दिन-रात स्क्रीनिंग कर रही हैं. यही नहीं मेडिकल टीमों की मदद के लिए सीएम योगी ने आशा बहुओं की भी टीमें उतार दी हैं. ये गांव-गांव लोगों के घरों तक संपर्क कर रही हैं.

निगरानी समितियां निभा रहीं अहम रोल



इसके अलावा प्रदेश में हर कोरोना संदिग्ध की सूचना देने, उनकी जांच कराने व उन पर नजर रखने के लिए हर ग्राम पंचायतों व हर वार्डों में निगरानी समितियां बनाई गई हैं. ये निगरानी समितियां किसी भी प्रवासी के आने या किसी के संक्रमित होने की जानकारी देती हैं. यही नहीं ये निगरानी समितियां मेडिकल स्क्रिनिंग में भी सरकार की मदद कर रही हैं.



2000 वेंटीलेटर केवल कोरोना मरीजों के लिए सुरक्षित

प्रदेश स्तर पर स्वास्थ्य सुविधाओं की बात करें तो प्रदेश में कोविड अस्पतालों में अब कोरोना मरीजों के लिए 1 लाख 1, 236 बेड उपलब्ध हैं. प्रदेश में एल-1 के 403 अस्पतालों में 72934 बेड उपलब्ध है. वहीं एल–2 के 75 अस्पतालों में 16212 बेड, जबकि एल–3 के 25 अस्पतालों में 12090 बेड उपलब्ध हैं. केवल कोरोना मरीजों के लिए 2000 से ज्यादा वेंटिलेटरों की व्यवस्था की गई है.

30 लाख प्रवासी लौटे, रोज हाे रहीं 10 हजार लोगों की जांच

अफसरों ने बताया कि अब तक यूपी में 30 लाख से अधिक प्रवासी कामगार व श्रमिक पहुंच चुके हैं. इसे देखते हुए यूपी में तेजी से जांच का दायरा बढ़ा है. अब तक 3 लाख लोगों की जांच हो चुकी है. रोजाना करीब 10 हजार लोगों की कोरोना जांच हो रही है. 15 जून तक ये संख्या बढ़कर प्रतिदिन 15 हजार टेस्ट हो जाएगी, वहीं 30 जून तक रोजाना 20 हजार टेस्ट का लक्ष्य है.

इसके अलावा 15 लाख क्षमता के क्वारेंटाइन सेंटरों में हर प्रवासी श्रमिक व कामगार की मेडिकल स्क्रीनिंग और जांच की गई है. क्वारेंटाइन सेंटरों में प्रवासियों के आने के साथ ही भोजन व आवासीय सुविधा उपलब्ध कराई गई. उनकी क्वारेंटाइन सेंटरों में ही मेडिकल स्क्रिनिंग कराई गई. इस मेडिकल स्क्रिनिंग में जो स्वस्थ मिले, उन्हें राशन पैकेट के साथ होम क्वारेंटाइन में भेज दिया गया. जो अस्वस्थ मिले, उन्हें अस्पतालों में भर्ती कराया गया.

ये भी पढ़ें:

69000 सहायक शिक्षकों की भर्ती प्रक्रिया पर HC की लखनऊ बेंच ने लगाई रोक

69000 शिक्षक भर्ती: कौन से हैं वो 4 सवाल जो सरकार के लिए बने गले की फांस
First published: June 3, 2020, 12:54 PM IST
अगली ख़बर

फोटो

corona virus btn
corona virus btn
Loading