उन्नाव रेपकांड: पीड़िता के पिता को फर्जी मामले में जेल भेजने के आरोपी एसओ को बेल

उत्तर प्रदेश के उन्नाव के विधायक रेपकांड में तत्कालीन थानाध्यक्ष (एसओ) को जमानत मिल गई है. एसओ माखी अशोक भदौरिया को हाईकोर्ट की लखनऊ बेंच ने ज़मानत दे दी है.

News18 Uttar Pradesh
Updated: March 12, 2019, 10:46 AM IST
उन्नाव रेपकांड: पीड़िता के पिता को फर्जी मामले में जेल भेजने के आरोपी एसओ को बेल
उन्नाव रेप केस के आरोपी कुलदीप सिंह सेंगर (फाइल फोटो)
News18 Uttar Pradesh
Updated: March 12, 2019, 10:46 AM IST
उत्तर प्रदेश के उन्नाव के विधायक रेपकांड में तत्कालीन थानाध्यक्ष (एसओ) को जमानत मिल गई है. एसओ माखी अशोक भदौरिया को हाईकोर्ट की लखनऊ बेंच ने ज़मानत दे दी है. रेप पीड़िता के पिता को फर्ज़ी मामले में जेल भेजने के आरोप में एसओ जेल में थे. मामले में बीजेपी विधायक कुलदीप सिंह सेंगर जेल में हैं.

उन्‍नाव रेप कस में पीड़िता के पिता की हत्‍या के मामले में सीबीआई ने लखनऊ की स्‍पेशल कोर्ट में 7 जुलाई 2018 को चार्जशीट दाखिल कर दी थी. इस चार्जशीट में विधायक कुलदीप सेंगर के भाई अतुल समेत पांच लोगों को आरोपी बनाया गया है. अतुल और उसकी साथियों ने पीड़िता के पिता को पीटा था. यही नहीं बाद में फर्जी मुकदमें में उन्‍हें जेल भिजवा दिया गया था. इस मामले में माखी पुलिस थाने के थानाध्यक्ष अशोक भदौरिया आरोपी हैं. जेल में हालत बिगड़ने पर नौ अप्रैल को पीड़िता के पिता की मौत हो गई थी.

गौरतलब है कि उन्नाव के माखी इलाके में रहने वाली एक नाबालिग लड़की ने बांगरमऊ के बाहुबली विधायक कुलदीप सिंह सेंगर पर दुष्कर्म करने का आरोप लगाया है. पीड़िता के मुताबिक जून 2017 में नौकरी के नाम पर ग्राम प्रधान की पत्नी उसे विधायक कुलदीप सिंह सेंगर के आवास पर ले गई थीं, जहां विधायक ने उसके साथ रेप किया था.

पीड़िता ने आरोप लगाया था कि न्याय के लिए वह उन्नाव पुलिस के हर अधिकारी के पास गई, लेकिन कोई सुनवाई नहीं हुई. पीड़िता के मुताबिक आरोपी विधायक उस पर पुलिस में शिकायत नहीं करने का दबाव बनाता रहा. रेप पीड़िता ने आरोप लगाया कि विधायक के भाई अतुल और मनोज ने उस पर दबाव बनाने के लिए 3 अप्रैल को उसके पिता से मारपीट की थी. बताया जाता है कि विरोध करने पर पीड़िता के मृत पिता के खिलाफ एक फर्ज़ी मुकदमा दर्ज किया गया था.

पुलिस की निष्क्रियता और विधायक की दबंगई के त्रस्त होकर पीड़िता लखनऊ पहुंची और सीएम आवास के बाहर मिट्टी का तेल डालकर आत्मदाह करने का प्रयास किया था. घटना के बाद एडीजी लखनऊ जोन राजीव कृष्ण ख़ुद सक्रिय हुए और पीड़िता को सपरिवार अपने ऑफिस बुला लिया था. पीड़िता से बातचीत के बाद एडीजी ने उन्नाव के माखी कोतवाल को भी दस्तावेजों के साथ तलब कर लिया था. एडीजी ने कहा लखनऊ की टीम इस पूरे मामले की जांच करेगी.

रिपोर्ट - ऋषभ मणि त्रिपाठी

ये भी देखिएः
योगी के मंत्री के सामने विधायक ने कहा- जूता निकालें, तो सांसद ने उन्हें जूते से जमकर पीटा



कुंभः 7664 लोगों ने 20 लाख वर्ग फीट में चित्रकारी कर बनाया भारत का विश्व रिकॉर्ड



एक क्लिक और खबरें खुद चलकर आएंगी आपके पास, सब्सक्राइब करें न्यूज़18 हिंदी  WhatsApp अपडेट्स
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...