उन्नाव कांडः 8 दिन बाद बेटी का चेहरा देख छलका मां का दर्द- नहीं जानती बिटिया ठीक है कि नहीं

'हमको कुछ अच्छा नहीं लगता, आज पूरे आठ दिन बाद बिटिया का चेहरा देखा, समझ नहीं आया कि वो ठीक है या नहीं. एक बार आंख खोलती तो थोड़ी तसल्ली होती.'

News18 Uttar Pradesh
Updated: August 3, 2019, 5:48 PM IST
उन्नाव कांडः 8 दिन बाद बेटी का चेहरा देख छलका मां का दर्द- नहीं जानती बिटिया ठीक है कि नहीं
रेप पीड़िता पिछले 8 दिनों से अस्पताल में जिंदगी और मौत की जंग लड़ रही है
News18 Uttar Pradesh
Updated: August 3, 2019, 5:48 PM IST
उन्नाव कांड की रेप पीड़िता पिछले 8 दिनों से अस्पताल में जिंदगी और मौत की जंग लड़ रही है. वहीं उसकी मां ने अपना दर्द बयां किया कि है. हर रोज मां इस आस में डॉक्टरों का मुंह देखती है कि काश कोई कह दे कि तुम्हारी बेटी अब ठीक है उसे ले जा सकते हो.

पीड़िता ने की मां ने एक अखबार से बात की और कहा कि- 
हमको कुछ अच्छा नहीं लगता, आज पूरे आठ दिन बाद बिटिया का चेहरा देखा, समझ नहीं आया कि वो ठीक है या नहीं. एक बार आंख खोलती तो थोड़ी तसल्ली होती. डॉक्टर की बात समझ मे नहीं आती. पता नहीं कब कहेगा कि बिटिया ठीक हो गयी है.


इस मां को डॉक्टर की बात पर यकीन नहीं होता कि उसकी बिटिया ठीक है. वह कहती हैं कि डॉक्टर बताते हैं कि पहले से बेहतर है पर हम कैसे माने की वो बेहतर है? मेरी बेटी जब आंख खोलेगी तब हम कहेंगे कि बिटिया बेहतर है.

विधायक ने एक-एक कर पूरे परिवार को मार दिया

पीड़िता की मां ने का आरोप है कि पीड़िता के चाचा के बेटे को विधायक के लोग ने फिर धमकाया था. मां ने भी कहती है कि विधायक ने हमारे पूरे परिवार को खत्म कर दिया. एक-एक कर सबको मार दिया, आगे भी हमारा ही नुकसान होगा. हम लड़ेंगे तो भी हमारा नुकसान होगा. नहीं लड़ेंगे तो भी नुकसान होगा क्योंकि हमारे पास बल नहीं है.

न्याय मिलने के सवाल पर पीड़िता की मां कहती है,
हमारे देवर को जितने फर्जी केस में फंसाया है उसे उन सब से बरी कर दे बस सरकार से यही बिनती है. हमारे परिवार में उनके सिवा कोई कमाने वाला नहीं बचा है. हमारे पति को मार दिया. अब क्या वो वापस आएंगे. आगे कैसे गुजारा चलेगा कुछ समझ में नहीं आता
.

अस्पताल के खाने को लेकर की शिकायत
Loading...

पीड़िता की मां अस्पताल के खाने के बारे में शिकायत करती हैं. उन्होंने कहा कि अस्पताल में खाना बहुत खराब मिलता है. उबला खाना मिलता है. बाहर से लेने जाते हैं तो पहले पुलिस से अनुमति लो. पूछ-पूछ के जाना पड़ता है. अच्छे खाने का इंतजाम करवा दो बिटिया.

ये भी पढ़ें: 

उन्नाव केस: पीड़िता की हालत नाजुक, वकील से हटा वेंटीलेटर

उन्‍नाव पीड़‍िता एक्‍सीडेंट: आरोपियों को 3 दिन की CBI रिमांड

 
First published: August 3, 2019, 5:48 PM IST
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...