Home /News /uttar-pradesh /

UP Assembly Election: 'एकला चलो' की राह पर मायावती, इस रणनीति पर कर रहीं हैं काम

UP Assembly Election: 'एकला चलो' की राह पर मायावती, इस रणनीति पर कर रहीं हैं काम

मायावती ने गठबंधन को लेकर स्थिति की साफ

मायावती ने गठबंधन को लेकर स्थिति की साफ

UP Political News: मायावती ने संगठन को मजबूत करने की कमान खुद संभाली है. वह खुद प्रत्येक मंडल की समीक्षा कर रही हैं. मुख्य सेक्टर प्रभारियों को माह के अंत तक बूथ स्तर तक संगठन को दुरस्त करने को कहा है.

    लखनऊ. आगामी विधानसभा चुनावों (UP Assembly Election 2022)की तैयारियों को लेकर सभी राजनीतिक दल अपनी अपनी रणनीति बनाने में लगे हुए हैं. बीजेपी (BJP) और सपा (SP) दोनों छोटे-छोटे राजनीतिक दलों के साथ गठबंधन के प्रयास में जुटे हैं. लेकिन बसपा (BSP) सुप्रीमो मायावती (Mayawati) ने ये रविवार को साफ कर दिया है कि उत्तरप्रदेश और उत्तराखंड में बसपा किसी भी पार्टी के साथ गठबंधन नहीं करेगी और वो अकेले चुनाव मैदान में उतरेगी. साथ ही संगठन को मजबूत करने की रणनीति पर काम शुरू कर दिया है. इसके लिए पार्टी से नाराज होकर या फिर किसी गलतफहमी में निकाले गए कैडर के नेताओं की घर वापसी शुरू हो गई है. प्रयागराज, वाराणसी मिर्जापुर मंडल में यह काम शुरू हो गया है. इतना ही नहीं पश्चिमी यूपी में बाहर गए पुराने नेताओं से सेक्टर प्रभारी संपर्क कर रहे हैं और उन्हें पार्टी में लाने की तैयारी है.

    दरअसल, पिछले साढ़े चार साल में कई कद्दावर नेता या तो पार्टी छोड़ चुके हैं या फिर मायावती ने उन्हें बाहर का रास्ता दिखा दिया हैं. ऐसे में जब विधानसभा चुनाव में कुछ ही महीनों का वक्त बचा है तो संगठन को फिर से मजबूत करना पार्टी  के लिए सबसे बड़ी चुनौती है. लिहाजा मायावती ने संगठन को मजबूत करने की कमान खुद संभाली है. वह खुद प्रत्येक मंडल की समीक्षा कर रही हैं. मुख्य सेक्टर प्रभारियों को माह के अंत तक बूथ स्तर तक संगठन को दुरस्त करने को कहा है, जिससे अगले दो महीनों में विधानसभा चुनाव की तैयारियां शुरू कर दी जाएं.

    अकेले चुनाव लड़ने का ऐलान 
    उधर मायावती ने रविवार को ट्वीट कर गठबंधन की ख़बरों पर विराम लगा दिया। दरअसल, बसपा प्रमुख मायावती ने आज असदुद्दीन ओवैसी की पार्टी AIMIM के साथ गठबंधन की खबरों का खंडन करते हुए कहा कि पंजाब को छोड़कर अगले साल के शुरुआत में होने वाले उत्तर प्रदेश और उत्तराखंड विधानसभा चुनावों में बसपा किसी भी पार्टी के साथ किसी तरह का चुनाव से पहले गठबंधन नहीं करेगी. यानी मायावती ने सभी तरह की अफवाहों पर विराम लगाते हुए ये स्पष्ट कर दिया कि बसपा विधानसभा चुनावों में अकेले उतरने जा रही है.

    सतीश मिश्रा को मिली अहम जिम्मेदारी
    एक के बाद एक ट्वीट कर मायावती ने बताया कि बसपा को लेकर कई तरह की अफवाहें लगातार फैलाई जा रही है. उन पर भी रोक लगाना जरूरी है. उसके लिये उन्होंने अपने सबसे भरोसेमंद चेहरे और पार्टी के महासचिव व राज्यसभा सांसद सतीश चंद्र मिश्रा को पार्टी राष्ट्रीय मीडिया कॉर्डिनेटर भी नियुक्त कर दिया है. जिस से मीडिया में चल रही भ्रामक खबरों को रोका जा सके. सतीश मिश्रा इस मामले में अनुभवी और माहिर खिलाड़ी हैं.

    Tags: BSP, BSP UP, Lucknow news, Mayawati, UP Assembly Election, UP Assembly Election 2022

    विज्ञापन

    विज्ञापन

    टॉप स्टोरीज

    अधिक पढ़ें

    अगली ख़बर