होम /न्यूज /उत्तर प्रदेश /

जैश के संदिग्ध आतंकी नदीम को कस्टडी रिमांड पर लेगी UP ATS, आज कोर्ट में लगाएगी अर्जी 

जैश के संदिग्ध आतंकी नदीम को कस्टडी रिमांड पर लेगी UP ATS, आज कोर्ट में लगाएगी अर्जी 

JeM के संदिग्ध आतंकी नदीम को कस्टडी रिमांड में लेने के लिए यूपी एटीएस आज कोर्ट में लगा सकती है अर्जी

JeM के संदिग्ध आतंकी नदीम को कस्टडी रिमांड में लेने के लिए यूपी एटीएस आज कोर्ट में लगा सकती है अर्जी

Suspected Jaish-e-Mohammad Terrorist: नदीम 2018 से ही जैश और तहरीक-ए-तालिबान पाकिस्तान के आतंकियों से व्हाट्सएप, टेलीग्राम, आईएमओ, फेसबुक मैसेंजर, क्लब हाउस जैसे सोशल मीडिया प्लेटफॉर्म के जरिए संपर्क में था. विदेशी आतंकियों से नदीम ने वर्चुअल नंबर बनाने की ट्रेनिंग ली थी, जिसके बाद नदीम ने इन आतंकियों को करीब 30 से ज्यादा वर्चुअल नंबर ,वर्चुअल सोशल मीडिया आईडी बनाकर उपलब्ध कराई थी.

अधिक पढ़ें ...

हाइलाइट्स

सहारनपुर के गंगोह का रहने वाला नदीम 2018 से ही आतंकी संगठनों के संपर्क में थे
पाकिस्तान में जैश के कैंप में ट्रेनिंग लेने के लिए वीजा लेने की कर रहा था तैयारी

लखनऊ. उत्तर प्रदेश के सहारनपुर से गिरफ्तार जैश-ए-मोहम्मद के संदिग्ध आतंकी नदीम को यूपी एटीएस कस्टडी रिमांड पर लेने के लिए मंगलवार को कोर्ट में अर्जी लगा सकती है. एटीएस नदीम के खिलाफ केस की मजबूत पैरवी के लिए उसे कस्टडी रिमांड पर लेकर पूछताछ के साथ ही साक्ष्य जुटाना चाहती है. एटीएस के मुताबिक थाना गंगोह इलाके में रहने वाला नदीम पाकिस्तान के आतंकी संगठन जैश और तहरीक-ए-तालिबान की विचारधारा से प्रभावित होकर भारत में फिदायीन हमले की तैयारी कर रहा था.

गौरतलब है कि नदीम की गिरफ्तारी के दो दिन बाद उसकी निशानदेही पर यूपी एटीएस ने जैश के एक और संदिग्ध आतंकी हबीबुल सैफुल्ला को भी गिरफ्तार किया है. यूपी एटीएस हबीबुल सैफुल्ला से भी पूछताछ कर रही है. जानकारी के मुताबिक हबीबुल वर्चुअल आईडी के सहारे विदेशी आतंकी संगठनों के संपर्क में था और भारत को इस्लामिक देश बनाने के लिए मुस्लिम युवाओं को जिहाद के लिए उकसा रहा था.

मोबाइल से मिले हैं अहम साक्ष्य
यूपी एटीएस के एडीजी नवीन अरोड़ा ने बताया कि नदीम जैश-ए-मोहम्मद और तहरीक-ए-तालिबान पाकिस्तान के आतंकियों से सीधे संपर्क में था. नदीम को एटीएस ने इंटरसेप्ट किया और उसके मोबाइल की जांच की, जिसमें फिदायीन विस्फोट की ट्रेनिंग से जुड़ी पीडीएफ फाइल बरामद हुई. नदीम के मोबाइल से पाकिस्तान और अफगानिस्तान के जैश ए मोहम्मद और तहरीक-ए-तालिबान पाकिस्तान के आतंकियों से चैट और वॉइस मैसेज भी मिले हैं.

2018 से ही आतंकी संगठनों से जुड़ा
नदीम 2018 से ही जैश और तहरीक-ए-तालिबान पाकिस्तान के आतंकियों से व्हाट्सएप, टेलीग्राम, आईएमओ, फेसबुक मैसेंजर, क्लब हाउस जैसे सोशल मीडिया प्लेटफॉर्म के जरिए संपर्क में था. विदेशी आतंकियों से नदीम ने वर्चुअल नंबर बनाने की ट्रेनिंग ली थी, जिसके बाद नदीम ने इन आतंकियों को करीब 30 से ज्यादा वर्चुअल नंबर ,वर्चुअल सोशल मीडिया आईडी बनाकर उपलब्ध कराई थी. पाकिस्तानी आतंकी सैफुल्लाह ने मोहम्मद नदीम को फिदायीन हमला करने के लिए तैयार किया था. हमला कैसे करें इसकी पूरी ट्रेनिंग सोशल मीडिया के जरिए नदीम को उपलब्ध कराई गई थी. सरकारी भवन या पुलिस परिसर पर फिदायीन हमला करने की ट्रेनिंग दी गई थी.

नूपुर शर्मा की हत्या का मिला था टास्क
एटीएस से शुरुआती पूछताछ में नदीम ने बताया कि उसे अफगानिस्तान और पाकिस्तान में सक्रिय आतंकी स्पेशल ट्रेनिंग के लिए पाकिस्तान बुला रहे थे. जिस पर वह वीजा लेकर पाकिस्तान जाने और वहां जैश के साथ ट्रेनिंग लेकर सीरिया और अफगानिस्तान जाने की योजना भी बना रहा था. पूछताछ में नदीम ने कबूला कि पाकिस्तान के जैश आतंकी ने उसे नूपुर शर्मा की हत्या का टास्क भी दिया था. एटीएस के एडीजी ने बताया कि नदीम के कुछ भारतीय संपर्कों की जानकारी भी मिली है जिस पर कार्रवाई शुरू कर दी गई है.

Tags: Lucknow news, UP ATS, UP latest news

अगली ख़बर