लाइव टीवी

गन्ना किसानों के लिए जो अखिलेश, अजित सिंह ने सोच सके वो सीएम योगी ने कर दिखाया: बीजेपी

News18 Uttar Pradesh
Updated: November 2, 2019, 4:19 PM IST
गन्ना किसानों के लिए जो अखिलेश, अजित सिंह ने सोच सके वो सीएम योगी ने कर दिखाया: बीजेपी
बीजेपी ने गन्ना किसानों के हाल को लेकर सपा और राष्ट्रीय लोकदल प्रमुखों पर निशाना साधा है.

बीजेपी (BJP) प्रवक्ता डॉ चंद्रमोहन ने कहा कि पूर्व मुख्यमंत्री अखिलेश यादव (Akhilesh Yadav) और राष्ट्रीय लोक दल (RLD) के अध्यक्ष अजित सिंह (Ajit Singh) ने गन्ना किसानों (Sugarcane farmers) को केवल सब्जबाग ही दिखाए. वहीं भाजपा सरकार के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ लगातार गन्ना किसानों से जुड़ी योजनाओं की निगरानी करते रहे.

  • Share this:
लखनऊ. भारतीय जनता पार्टी (BJP) का कहना है कि गन्ना किसानों के लिए मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ (CM Yogi Adityanath) कितने संवेदनशील हैं, इसकी एक झलक बागपत (Baghpat) की रमाला चीनी मिल (Ramala Sugar Mill) में दिखाई पड़ जाती है. मुख्यमंत्री 4 नवंबर को बागपत की रमाला सहकारी चीनी मिल की क्षमता विस्तार का लोकार्पण करने जा रहे हैं. प्रदेश में भारतीय जनता पार्टी सरकार की कमान संभालने के बाद सीएम योगी आदित्यनाथ ने प्रदेश के गन्ना किसानों की बदहाली दूर करने का कार्य युद्ध स्तर पर शुरू कर दिया था. पार्टी के प्रदेश प्रवक्ता डॉ. चन्द्रमोहन ने कहा कि सीएम योगी द्वारा कराए जा रहे कई कार्यों में एक पूर्व प्रधानमंत्री स्वर्गीय चरण सिंह की कर्म भूमि रहे बागपत जिले की रमाला चीनी मिल का क्षमता विस्तार रहा.

साल भर में रमाला चीनी मिल की बढ़ा दी क्षमता

उन्होंने कहा कि मुख्यमंत्री ने पिछले वर्ष ही रमाला चीनी मिल की क्षमता बढ़ाने की घोषणा की थी. एक ओर जहां पूर्व मुख्यमंत्री अखिलेश यादव और राष्ट्रीय लोक दल के अध्यक्ष अजित सिंह ने गन्ना किसानों को केवल सब्जबाग ही दिखाए. किसानों की बेहतरी के लिए प्रयास करने की बजाय अपना हित साधन करते रहे. वहीं भाजपा सरकार के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ लगातार गन्ना किसानों से जुड़ी योजनाओं की निगरानी करते रहे. इसी का नतीजा है कि मुख्यमंत्री 4 नवंबर को बागपत की रमाला सहकारी चीनी मिल की क्षमता विस्तार का लोकार्पण करने जा रहे हैं.

रोजाना 50 हजार क्विंटल गन्ना पेराई होगी

प्रदेश प्रवक्ता डा. चन्द्रमोहन ने कहा कि इस चीनी मिल की क्षमता 27500 क्विंटल गन्ना पेराई प्रतिदिन से बढ़ाकर 50 हजार क्विंटल कर दिया गया है. इसके अलावा रमाला चीनी मिल में 27 मेगावाट का बिजली उत्पादन संयत्र भी लगाया गया है. चीनी मिल की बढ़ी क्षमता से करीब 90 लाख क्विंटल गन्ना पेराई होगी और अनुमानित 9.5 क्विंटल चीनी का उत्पादन होगा. चीनी मिल को 35 हजार किसान गन्ना की आपूर्ति करेंगे और करीब 2500 लोगों को प्रत्यक्ष और अप्रत्यक्ष रूप से रोजगार मिलेगा.

पूर्वी यूपी में गन्ना किसानों के लिए किए बड़े काम

प्रदेश प्रवक्ता डॉ चन्द्रमोहन ने कहा कि गन्ना विकास के लिए प्रदेश सरकार की तरफ से संचालित योजनाएं न केवल पश्चिमी यूपी में बल्कि अभूतपूर्व रूप से पूर्वी यूपी में भी रंग दिखाने लगी हैं. गन्ने की वैज्ञानिक खेती के प्रति किसानों को जागरूक करने और गन्ना विकास योजनाओं को उन तक पहुंचाने का नतीजा ही है कि गोरखपुर में गन्ना के क्षेत्रफल में 1000 हेक्टेयर का इजाफा हुआ है. पिपराइच और बस्ती की मुंडेरवा चीनी मिल के शुरू होने, दूसरी चीनी मिलों के पेराई सत्र की अवधि बढ़ने, समय पर गन्ना मूल्य का भुगतान होने से किसानों में गन्ना की खेती के प्रति रुझान बढ़ रहा है.
Loading...

पूर्व की सरकारों में गन्ना की खेती थी बुरा सपना

प्रदेश प्रवक्ता ने कहा कि वहीं विपक्षी पार्टियों के शासन में यूपी में गन्ना की खेती एक बुरा सपना बनकर रह गई थी. पिछली सपा शासनकाल के मुख्यमंत्री अखिलेश यादव ने गन्ना किसानों की हालत बद से बदतर कर दी थी. मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ की सरकार ने न केवल गन्ना किसानों का सम्मान बढ़ाया है बल्कि इन्हें उत्तर प्रदेश को सर्वोत्तम प्रदेश बनाने की प्रक्रिया में बराबर का भागीदार भी बनाया है.

ये भी पढ़ें:

UPPCL में PF घोटाला:: बिजली कर्मचारियों ने रखी CBI जांच की मांग

पिछले 2 सालों में यूपी पुलिस में 360 डिग्री में सुधार किया: डीजीपी

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए लखनऊ से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: November 2, 2019, 4:19 PM IST
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...