योगी सरकार के 4 साल: बसपा सुप्रीमो मायावती का तंज, कहा- उपलब्धियों में सच्चाई नहीं

बसपा सुप्रीमो मायावती ने योगी सरकार पर निशाना साधा है

बसपा सुप्रीमो मायावती ने योगी सरकार पर निशाना साधा है

Yogi Govt 4 years in UP: उत्तर प्रदेश में बीजेपी सरकार के 4 साल पूरे होने पर मायावती (Mayawati) ने सरकार पर निशाना साधा है. बसपा सुप्रीमो ने सरकार के दावों को हवा-हवाई बताया. 

  • Share this:

लखनऊ. उत्तर प्रदेश में भाजपा सरकार अपने 4 (UP BJP Govt 4 Years) साल पूरे होने का जश्न मना रही है. इस दौरान सरकार ने जनता को पिछले 4 साल में किए गए कामों का ब्योरा पेश किया है. सरकार अपनी उपलब्धियों को बताते नहीं थक रहे लेकिन अब विपक्षियों ने योगी सरकार (CM Yogi Adityanath) पर निशाना साधना शुरू कर दिया है. इसी कड़ी में बसपा सुप्रीमो मायावती (Mayawati) ने ट्वीट करके भाजपा सरकार पर  सख्त टिप्पणी की. मायावती ने अपने ट्वीट में कहा कि यूपी में भाजपा सरकार के 4 साल पूरे होने पर सरकार द्वारा बताई जा रही उपलब्धियों में सच्चाई बहुत कम है.

बसपा सुप्रीमो मायावती के ऑफिशियल ट्विटर अकाउंट से कई ट्वीट किए गए. मायावती ने सरकार के दावों को हवाहवाई बताया. बसपा सुप्रीमो मायावती ने ट्वीट में लिखा, 'यूपी में भाजपा सरकार के 4 साल पूरे होने पर काफी शाहखर्ची करके बड़े-बड़े विज्ञापनों और प्रेसवार्ता आदि के माध्यम से जो उपलब्धियां सरकार द्वारा आज गिनाई गई हैं उनमें सच्चाई बहुत कम है. इनके सरकारी दावे अगर जमीनी हकीकत में गरीब जनता को लाभ देते तो यह उचित होता.'

मायावती ने दावों को बताया हवा हवा-हवाई

मायावती ने अपने ट्वीट में लिखा,' उत्तराखण्ड में बीजेपी ओर पंजाब में कांग्रेस सरकार के 4 वर्ष पूरे होने पर वहां भी जो दावे किए जा रहे हैं वे हवा-हवाई ज्यादा और सही मायने में जनहित व जनकल्याण से काफी दूर है.  इन तीनों राज्यों की दुखी व पीड़ित जनता यहां अपने राज्यों में सुखद परिवर्तन लाने को बेचैन है.'
ये भी पढ़ें: बिहार: बीजेपी ने विधान परिषद में बदल दिया अपना चेहरा, CM नीतीश कुमार ने की थी सिफारिश

उत्तराखंड के सीएम को दी नसीहत

बसपा सुप्रीमो मायावती ने उत्तराखंड के मुख्यमंत्री तीरथ सिंह रावत द्वारा जींस पर दिए गए बयान पर भी निशाना साधा. उन्होंने अपने ट्वीट में लिखा, 'उत्तराखण्ड के नए सीएम द्वारा देश की महिलाओं के अपने पसंद के पहनावे के सम्बंध में जो टिप्पणी की गई है वह अनुचित ही नहीं बल्कि अशोभनीय, अमर्यादित व गैर-जरूरी.  इसकी बजाए वे अपने प्रदेश के जनहित व जनसमृद्धि की संवैधानिक जिम्मेदारी पर समुचित ध्यान दें, बीएसपी की यह सलाह है.'

अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज