अपना शहर चुनें

States

UP By Election 2020 : कांग्रेस ने किया 7 प्रत्याशियों का ऐलान, इस सीट पर सस्पेंस बरकरार

कांग्रेस ने अपने उम्मीदवारों का ऐलान कर दिया है.
कांग्रेस ने अपने उम्मीदवारों का ऐलान कर दिया है.

Uttar Pradesh By Election 2020: उपचुनाव के लिए कांग्रेस (Congress) ने 7 में से 6 सीटों पर प्रत्याशियों के नाम की घोषणा कर दी. वहीं मल्हनी सीट पर उम्मीदवार के नाम का ऐलान बाकी है.

  • Share this:
Rajiv Pratap Singh

लखनऊ. उत्तर प्रदेश में होने वाले विधानसभा उपचुनाव (UP By Election 2020) की सरगर्मी जोरों पर है. कांग्रेस (Congress) ने उपचुनाव के लिए अपने उम्मीदवारों का ऐलान कर दिया है. शुक्रवार को कांग्रेस ने 7 में से 6 सीटों पर प्रत्याशियों के नाम की घोषणा कर दी. बता दें कि कांग्रेस ने बुलंदशहर से सुशील चौधरी को अपना बनाया प्रत्याशी. इसी तरह नौगांवा से डॉ. कमलेश सिंह, टुंडला से स्नेहलता, घाटमपुर से कृपाशकर, देवरिया से मुकुंद भाष्कर त्रिपाठी, बांगरमऊ से आरती बाजपेयी को चुनावी मैदान में उतारा है. वहीं मल्हनी सीट पर अभी प्रत्याशी का नाम तय नहीं हुआ है. माना जा रहा है कि कांग्रेस जल्द ही मल्हनी सीट पर भी अपने प्रत्याशी के नाम की घोषणा कर देगी.

बता दें कि उत्तर प्रदेश की 7 सीटों पर उपचुनाव होना है. शुक्रवार को यूपी उप चुनाव के लिए नामांकन शुरू हो गया. 16 अक्टूबर तक प्रत्याशी अपना नामांकन दाखिल कर सकते हैं. यूपी की 7 सीटों पर 3 नवंबर को उपचुनाव होंगे और 10 नवंबर को सभी सीटों के परिणाम का ऐलान कर दिया जाएगा. वहीं, इस बार 40 की जगह 30 स्टार प्रचारक ही शामिल हो सकेंगे.



उपचुनाव में राजनीतिक शुरू
उत्तर प्रदेश की सात सीटों पर उपचुनाव  हो रहे हैं, जिसमें से छह सीटों पर भाजपा का कब्जा रहा है. समाजवादी पार्टी के पास एक सीट है, लेकिन बीजेपी के लिए उपचुनाव किसी चुनौती से कम नहीं है. हाथरस मुद्दे को लेकर विपक्ष हावी है. सरकार को जवाब देना पड़ रहा है. समाजवादी पार्टी के कार्यकर्ता जहां सड़कों पर उतरे, वहीं कांग्रेस के नेताओं ने हाथरस से दलित एजेंडे को बल दिया. विपक्ष का दावा है कि सरकार की पोल खुल गई है. समाजवादी पार्टी  के नेता सुनील साजन कहते हैं कि हाथरस की घटना का असर तो पड़ेगा ही. इस घटना ने पूरे उत्तर प्रदेश को देश दुनिया के सामने शर्मसार कर दिया. इतना ही नहीं इस घटना से एक और बात साफ हो गई है कि बीजेपी जो हिंदुत्व वाली पार्टी बोलती है वो पिछड़ों और दलितों को हिंदू ही नहीं मानती है.

ये भी पढ़ें: Bareilly Murder Case: FIR दर्ज नहीं करना पड़ा भारी, यूपी पुलिस के दो इंस्पेक्टर सस्पेंड



समाजवादी पार्टी के नेता सुनील साजन का कहना है कि जिस तरह से उस बेटी को रात में जलाया गया उससे ये बात साफ हो गई है कि पिछड़ों और दलितों के खिलाफ योगी सरकार साजिश रच रही है, जबकि इन्हीं पिछड़ों और दलितों के बदौलत बीजेपी सत्ता में आई थी. अब ये उपचुनाव में अपनी ताकत का एहसास करांएगे और बीजेपी को हराएंगे. वहीं उपचुनाव के पिच पर ताल ठोक रहे कांग्रेसी जो हाथरस की घटना में लीड ले चुके हैं, पूरे हमलवार हैं. कांग्रेस प्रवक्ता जावेद अहमद कहते हैं कि उत्तरप्रदेश में बेटियों के साथ जिस तरह से जघन्यतम कांड हो रहे हैं सरकार उसको रोकने में पूरी तरह असफल हो गई हैं.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज