UP By-Election 2020: आसान नहीं है विपक्ष की राह, जानिए सपा, BSPऔर कांग्रेस की क्या है तैयारी?
Lucknow News in Hindi

UP By-Election 2020: आसान नहीं है विपक्ष की राह, जानिए सपा, BSPऔर कांग्रेस की क्या है तैयारी?
यूपी उप चुनाव केलिए बढ़ी सरगर्मियां (प्रतीकात्मक तस्वीर)

यूपी की जिन आठ सीटों पर उपचुनाव (UP Byelection 2020) होने हैं, उसमें से छह बीजेपी और दो समाजवादी पार्टी के कब्जे वाली हैं. कहा जा रहा है कि इन आठ सीटों के नतीजों से विधानसभा में बहुमत पर तो कोई विशेष असर नहीं पड़ेगा, लेकिन आगामी विधानसभा चुनाव के लिए बड़ा राजनीतिक संदेश जरूर होगा.

  • News18Hindi
  • Last Updated: September 9, 2020, 3:34 PM IST
  • Share this:
लखनऊ. 2022 के विधानसभा चुनाव (UP Assembly Election 2022) से पहले होने वाले आठ सीटों पर उपचुनाव (UP Byelection 2020) सभी दलों के लिए अहम है. उपचुनाव की तारीखों की सुगबुगाहट के साथ ही राजनीतिक सरगर्मी भी तेज हो गई है. यूपी की जिन आठ सीटों पर उपचुनाव होने हैं, उसमें से छह बीजेपी और दो समाजवादी पार्टी के कब्जे वाली हैं. कहा जा रहा है कि इन आठ सीटों के नतीजों से विधानसभा में बहुमत पर तो कोई विशेष असर नहीं पड़ेगा, लेकिन आगामी विधानसभा चुनाव के लिए बड़ा राजनीतिक संदेश जरूर होगा. इन उपचुनावों को सेमिफिनल के तौर पर भी देखा जा रहा है.

उपचुनाव सभी के लिए चुनौती

दरअसल, कोरोना काल में उपचुनाव राजनीतिक दलों के लिए किसी चुनौती से कम नहीं है. कोरोना संक्रमण ने राजनीतिक दलों को जनता से सीधा संवाद करना थोड़ा मुश्किल कर दिया है, लेकिन उपचुनाव आठ सीटों पर होना है जो एक बड़ा संदेश देगा, लिहाजा राजनीतिक दल अपनी रणनीति बना रहे हैं. जिन आठ सीटों पर उपचुनाव होना है उनमें से छह सीटों पर बीजेपी का कब्जा रहा है. बाकी दो समाजवादी पार्टी की सीटे हैं. विपक्ष के अपने दावे हैं. समाजवादी पार्टी सुप्रीमो अखिलेश यादव सोशल मीडिया के माध्यम से सरकार पर हमलावर नजर आ रहे हैं.



सपा कर रही ये दावा
सपा नेता सुनील कुमार साजन कहते हैं कि योगी सरकार बिल्कुल फेल सरकार साबित हुई है. कोरोना काल के भ्रष्टाचार अब उजागर हो रहे हैं. विकास, बेरोजगारी, ध्वस्त कानून व्यवस्था जैसे मुद्दों पर सरकार के पास जवाब नहीं है. सरकार के पास एक भी काम दिखाने के लिए नहीं है. सपा कार्यकाल के दौरान किए गए कामों का फीता काटने वाली सरकार है और हम इन मुद्दों को लेकर जनता के बीच जाएंगे.  साजन कहते हैं कि हमने लगातार संगठन को मजबूत करने का काम किया है. बूथ स्तर तक के कार्यकर्ता काम कर रहे हैं और हम इनके सहारे उपचुनाव में उतरेंगे और सरकार की पोल खोलेंगे.

कांग्रेस कह रही वह भी मैदान में

दूसरी तरफ कांग्रेस भी हमलावर नजर आ रही है. कांग्रेस प्रदेश अध्यक्ष अजय कुमार लल्लू सूबे के अलग अलग इलाकों में लगातार क्रियाशीलता बनाए हुए हैं. वहीं यूपी प्रभारी प्रियंका गांधी लगातार प्रदेश की घटनाओं को लेकर ट्वीट करते हुए अपनी मौजूदगी बनाए हुए हैं. कांग्रेस नेता सुरेंद्र राजपूत कहते हैं कि कांग्रेस टीम का पुनर्गठन हो रहा है. हमारी कमेटियां चुनावी मोड में हैं. कार्यकर्ता सड़क पर सरकार के घटिया कारनामों को उजागर कर रहे हैं. पूर्व विधायक मारे जा रहे हैं. उन्नाव की घटना ने साफ कर दिया है कि किस तरह अधिकारी दोषियों के साथ खड़े नजर आ रहे हैं. योगी सरकार की संरक्षण में सब हो रहा है. किसानों को भुगतान नहीं हो रहा है. युवाओं को रोजगार नहीं मिल रहा है. सरकार बिल्कुल नाकारा साबित हो चुकी है और हम इन सभी मुद्दों के साथ उपचुनाव में उतरेंगे.

बीजेपी का दावा विपक्ष सिर्फ ट्विटर पर

हमलावर विपक्ष पर बीजेपी प्रदेश उपाध्यक्ष विजय बहादुर पाठक कहते हैं कि कोरोना काल में बीजेपी सरकार और संगठन लगातार काम कर रहे थे, जबकि विपक्ष ट्वीटर की राजनीति कर रहा था. विपक्ष का काम है आलोचना करना, बस वे वही कर रहे हैं. गरीबों के अकाउंट में पैसा देने का मामला हो, किसानों को अकाउंट में पैसा भेजने का काम, गरीबों को अनाज देने का काम, कोरोना काल में भी बीजेपी लगातार जनता से संवाद कर रही थी. संवाद के माध्यम से जनता की हर जरुरतों को पूरा किया जा रहा था. हमें मैदान में उतरना नहीं हैं, बल्कि हम मैदान में हैं. डिजिटल माध्यम से कार्यकर्ताओं से हम लगातार संपर्क में हैं और जनता की एक जरुरतों का अपडेट है. अभी भी हम अपने कार्यकर्ताओं को प्रशिक्षित कर रहे हैं कि कैसे जनता के हितों का ख्याल रखना है और काम करना है. ऐसे में जनता सब समझती है और हम उपचुनाव में बाजी मारने के लिए तैयारी में जुटे हैं.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज