यूपी उपचुनाव: सपा-बसपा के गढ़ भेदने को तैयार BJP, बनाया ये 'मास्टर प्लान'!

उपमुख्यमंत्री केशव प्रसाद मौर्य को कानपुर की गोविन्द नगर विधानसभा सीट की जिम्मेदारी दी गई है. इस सीट के विधायक सत्यदेव पचौरी कानपुर के सांसद चुने गए हैं.

News18Hindi
Updated: July 2, 2019, 6:37 PM IST
यूपी उपचुनाव: सपा-बसपा के गढ़ भेदने को तैयार BJP, बनाया ये 'मास्टर प्लान'!
उपमुख्यमंत्री केशव प्रसाद मौर्य को कानपुर की गोविन्द नगर विधानसभा सीट की जिम्मेदारी दी गई है. (पीएम मोदी और अमित शाह की फाइल फोटो)
News18Hindi
Updated: July 2, 2019, 6:37 PM IST
पवन गौड़

लोकसभा चुनाव में उत्तर प्रदेश में गठबंधन को धूल चटाने के बाद बीजेपी अब उपचुनाव की तैयारियों में जुट गई है. इस बार बीजेपी की निगाह ऐसी सीटों पर हैं, जो सपा-बसपा का गढ़ मानी जाती रही हैं. चाहे वो आज़म खान के सांसद बनने से खाली हुई रामपुर हो या बसपा की गढ़ माने जाने वाली जलालपुर विधानसभा.

उपचुनाव जीतने के लिए 13 मंत्रियों को दी जिम्मेदारी
बीजेपी के केन्द्रीय नेतृत्व ने इन उपचुनावों को जीतने का जिम्मा प्रदेश सरकार और संगठन को दिया है, इसलिए सभी सीटों पर उपचुनाव जीतने के लिए 13 मंत्रियों के साथ पदाधिकारियों को भी जिम्मेदारी दी गई है. रामपुर की ज़िम्मेदारी उत्तर प्रदेश के उपमुख्यमंत्री और चुनावी रणनीति में माहिर माने जाने वाले दिनेश शर्मा और जलालपुर की ज़िम्मेदारी उत्तर प्रदेश के कैबिनेट मंत्री और बसपा छोड़कर आए बृजेश पाठक को दी गई है.

प्रत्याशियों के चयन में परिवारवाद दरकिनार
बीजेपी नेतृत्व प्रत्याशियों के चयन में भी काफी सावधानी बरतेगा. प्रत्याशियों के चयन में परिवारवाद को पूरी तरह से दरकिनार करने की बात तय की गई है. इन उपचुनावों को लेकर प्रदेश बीजेपी की गंभीरता का अंदाजा इस बात से लगाया जा सकता है कि केन्द्र सरकार में कैबिनेट मंत्री बने बीजेपी प्रदेश अध्यक्ष डॉ. महेन्द्र नाथ पाण्डेय हफ्ते में एक बार लखनऊ आकर मुख्यमंत्री और पदाधिकारियों के साथ बैठक कर रहे हैं.

रामपुर और जलालपुर को लेकर पार्टी ने बनाई विशेष रणनीति
Loading...

बीजेपी ने उन सीटों पर जीत हासिल करने की रणनीति बनाई है, जिन्हें वह पहले नहीं जीती थी. जिन मंत्रियों और पदाधिकारियों को उपचुनाव में लगाया गया है कि उनसे यह साफ कह दिया गया है कि वे अपनी पूरी ताकत और रणनीति बनाकर इन सीटों को जीतें. खासतौर पर रामपुर और जलालपुर को लेकर पार्टी विशेष रणनीति पर काम कर रही है. बाहरी प्रत्याशी पर भी पार्टी में विचार चल रहा है.

बीजेपी के मंत्रियों ने अपने-अपने विधानसभा क्षेत्रों में जाकर स्थानीय संगठन के साथ मिलकर विधानसभा चुनाव जीतने की रणनीति भी बनानी शुरू कर दी है. उपमुख्यमंत्री केशव प्रसाद मौर्य को कानपुर की गोविन्द नगर विधानसभा सीट की जिम्मेदारी दी गई है. इस सीट के विधायक सत्यदेव पचौरी कानपुर के सांसद चुने गए हैं.


इन मंत्रियों को मिली है जिम्मेदारी

केशव प्रसाद मौर्य ने शनिवार को कानपुर जाकर क्षेत्रीय संगठन के साथ बैठक भी की. इसी तरह उपमुख्यमंत्री डॉ. दिनेश शर्मा को रामपुर, मंत्री सुरेश राणा को इगलास, श्रीकांत शर्मा को टूंडला, भूपेन्द्र सिंह को गंगोह, डॉ. महेन्द्र सिंह को मानिकपुर, धुन्नी सिंह को हमीरपुर, आशुतोष टंडन को लखनऊ कैंट, दारा सिंह चौहान को जैदपुर, ब्रजेश पाठक को जलालपुर, रमापति शास्त्री को बलहा और उपेन्द्र तिवारी को प्रतापगढ़ विधानसभा सीट की जिम्मेदारी दी गई है.

ये सभी मंत्री एक बार अपनी-अपनी जिम्मेदारी वाले विधानसभा सीटों पर जाकर स्थानीय संगठन के साथ बैठक कर चुके हैं. इसके साथ ही जो विधायक सांसद बने हैं, उन्हें भी अपनी विधानसभा सीट पर घोषित होने वाले प्रत्याशियों को जिताने की जिम्मेदारी दी गई है.

ये भी पढ़ें--

UP में BJP के शासनकाल में कोई राजनीतिक हत्या नहीं हुई: शाह

दिल्ली के पास बन रहा देश का सबसे बड़ा हवाई अड्डा

रवि किशन ने गाया भोजपुरी गीत तो लोकसभा अध्यक्ष ओम बिरला ने बीच में टोका

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए लखनऊ से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: July 2, 2019, 5:38 PM IST
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...