• Home
  • »
  • News
  • »
  • uttar-pradesh
  • »
  • LUCKNOW UP CABINET MINISTER SIDDHARTH NATH SINGH SAID THOSE WHO STOP BARAAT IN ALIGARH WILL NOT SPARED ALSO HIGH LEVEL INVESTIGATION UPAS

अलीगढ़: बारात रोकने और मारपीट करने वालों को बख्शेंगे नहीं, उच्चस्तरीय जांच होगी: सिद्धार्थनाथ सिंह

यूपी सरकार के प्रवक्ता और कैबिनेट मंत्री सिद्धार्थनाथ सिंह ने अलीगढ़ के टप्पल में हुए बवाल पर अहम बयान दिया है. (File Photo)

UP News: अलीगढ़ के टप्पल में बवाल पर यूपी सरकार के प्रवक्ता सिद्धार्थ नाथ सिंह ने कहा कि जिन लोगों ने बारात रोकने की कोशिश की, मारपीट की, उन्हें किसी भी कीमत पर छोड़ा नहीं जाएगा. हम इस पूरे मामले की उच्चस्तरीय जांच भी कराएंगे.

  • Share this:
अलीगढ़. उत्तर प्रदेश के अलीगढ़ (Aligarh) जिले में मस्जिद (Mosque) के सामने से बारात निकालने को लेकर हुए बवाल के बाद दो समुदायों में तनाव की स्थिति पैदा हो गई है. मामले में पुलिस ने कई लोगों के खिलाफ एफआईआर दर्ज की है और एहतियातन इलाके में भारी फोर्स की तैनाती कर दी गई है. सिद्धार्थ नाथ सिंह ने कहा कि योगी सरकार में किसी को कानून हाथ में लेने की इजाजत नहीं है. सरकार ऐसे लोगों पर बड़ी कार्रवाई करेगी. मामला सामने आते ही दबंगों के खिलाफ एफआईआर दर्ज कर ली गई, उनकी गिरफ्तारी के प्रयास किए जा रहे हैं.

घटना टप्पल थाना क्षेत्र के नूरपुर गांव की है. पुलिस के अनुसार नूरपुर गांव में बीते 26 मई को बहुसंख्यक समुदाय के एक युवक की बारात (Marriage Procession) गाजे-बाजे के साथ एक मस्जिद (Mosque) के सामने से गुजर रही थी. दूसरे समुदाय के लोगों ने मस्जिद के आगे गाना बजाने पर आपत्ति जाहिर की थी. मामले में बहुसंख्यक समाज के लोगों थाने में मुकदमा दर्ज करवाया है जिसमें आरोप लगाया है कि अल्पसंख्यक समुदाय के लोगों ने बारात पर पथराव किया और लाठी से हमला किया.कहा गया है कि बारात में शामिल कई लोगों को चोट आई है और उनकी गाड़ियों के शीशे टूट गए

इनके खिलाफ दर्ज हुई एफआईआर
पुलिस ने इस मामले में वकील, कलुआ, मुस्तकीम, शरफू, अंसार, सोहेल, फारूक, अमजद, तौफीक, शाजोर, लेहरु और कुछ अन्य लोगों के खिलाफ भारतीय दंड विधान (IPC) और दलित एक्ट की धाराओं में मुकदमा दर्ज किया है.

पीड़ित लोगों ने पलायन की जताई इच्छा
जिस घर में शादी थी, उनके परिवार के सदस्यों ने सोमवार को एक वीडियो जारी किया है. उन्होंने अपने घरों के बाहर 'मकान बिकाऊ है' होने का पर्चा चिपका दिया है. कहा गया है कि वो किसी और जगह पर पलायन करना चाहते हैं क्योंकि अल्पसंख्यक समुदाय के लोग उन्हें परेशान करते हैं. इसके बाद अलीगढ़ से बीजेपी सांसद सतीश गौतम और विधायक अनूप प्रधान ने गांव का दौरा किया. उनहोंने पीड़ित पक्ष को भरोसा दिया कि किसी को भी अपनी सुरक्षा की चिंता करने की जरूरत नहीं है. सतीश गौतम ने कहा, ‘मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ के शासनकाल में किसी भी व्यक्ति के पलायन का कोई सवाल ही नहीं उठता. इस मामले में दोषी लोगों को ऐसी सजा दी जाएगी जो मिसाल बनेगी.’

उधर, अल्पसंख्यक समुदाय के सदस्यों ने कहा कि उन्हें इस बात की उम्मीद थी कि सांसद उनकी बात भी सुनेंगे, लेकिन यह उम्मीद बेकार गई. उन्होंने 26 मई को मस्जिद के सामने से बारात निकाले जाने को लेकर उनके द्वारा किसी भी तरह का हमला किए जाने के आरोपों से इनकार किया पुलिस का कहना है कि वो इस मामले की जांच कर रही है और जिसने भी माहौल खराब करने की कोशिश की है उसके खिलाफ सख्त कार्रवाई की जाएगी.