लाइव टीवी

छुट्टा पशुओं से पीड़ित किसानों को रखवाली भत्ता दे सरकार: अजय कुमार लल्लू
Lucknow News in Hindi

News18 Uttar Pradesh
Updated: January 18, 2020, 5:03 PM IST
छुट्टा पशुओं से पीड़ित किसानों को रखवाली भत्ता दे सरकार: अजय कुमार लल्लू
उत्तर प्रदेश कांग्रेस कमेटी के अध्यक्ष अजय कुमार लल्लू

यूपी कांग्रेस कमेटी (UPCC) के अध्यक्ष अजय कुमार लल्लू (Ajay Kuma Lallu) ने शनिवार को कहा कि हम सरकार से मांग करते हैं कि जब तक गौशाला का बेहतर प्रबंधन नहीं हो पाता है. तब तक सरकार छुट्टा पशुओं पीड़ित किसानों को सरकार रखवाली भत्ता दे.

  • Share this:
लखनऊ. यूपी कांग्रेस कमेटी (UPCC) के अध्यक्ष अजय कुमार लल्लू (Ajay Kuma Lallu) ने शनिवार को आरोप लगाया कि योगी राज में उत्तर प्रदेश गौवंश की कब्रगाह बन गया है. किसान छुट्टा पशुओं से त्राहि-त्राहि कर रहे हैं. लाखों की तादाद में प्रदेश के सभी जनपदों में आवारा गौवंश किसानों की फसल को नुकसान पहुंचा रहे हैं. किसानों सहित ग्रामीण लोगों की आय का जरिया रही पशु हाट खत्म हो गई हैं. प्रदेश सरकार गोवंश संरक्षण के नाम पर खानापूर्ति कर किसानों की फसलें बर्बाद कर देने पर तुली है. उन्होंने कहा कि हम सरकार से मांग करते हैं कि जब तक गौशाला का बेहतर प्रबंधन नहीं हो पाता है. तब तक सरकार छुट्टा पशुओं पीड़ित किसानों को सरकार रखवाली भत्ता दे.

उत्तर प्रदेश कांग्रेस कमेटी के अध्यक्ष और विधायक अजय कुमार लल्लू ने कहा कि रबी सीजन में किसानों के लिए आवारा पशु तबाही का कारण बन गए हैं. प्रदेश सरकार गोवंश संरक्षण के नाम पर आबकारी से लेकर मंडी परिषद तक से भारी भरकम सेस (टैक्स) वसूल रही है. पर गौशालाओं के निर्माण और गायों की देखभाल के नाम पर जमीन पर कुछ भी नहीं हो रहा है. सरकारी गौशालाओं मे योगी सरकार में चारे एवं इलाज के अभाव में हजारों गायों की मौत हो चुकी हैं.

कागजों तक सीमित है गौ संरक्षण योजना

उन्होंने कहा कि प्रदेश सरकार ने किसानों की फसलों को अवारा पशुओं से बचाने के लिए जो गौ संरक्षण योजना की शुरूआत की, वह सिर्फ कागजों तक ही सीमित रह गया है. क्योंकि जो बजट आवंटित किया गया, वह इन आवारा पशुओं की संख्या के मुकाबले ऊंट के मुंह में जीरा साबित हो रहा है. जो बजट आवंटित है, उसमें बन्दरबांट हो रहा है. उसका दुष्परिणाम यह है कि चारे और अन्य सुविधाओं के अभाव में बड़ी संख्या में आवारा पशु इन संरक्षण गृहों में आये दिन अपनी जान गंवा रहे हैं. यह संरक्षण गृह गौवंशों के लिए जिन्दा कब्रगाह बन गये हैं.

लखनऊ सहित तमाम जिलों में गौशालाओं का हाल बेहाल

अजय कुमार लल्लू ने कहा कि अभी दो दिन पूर्व राजधानी के बंथरा में रामचैरा गोशाला में बीमार गायों को जिन्दा हालत में ही कुत्ते नोच-नोचकर काट रहे थे. यह भयावह स्थिति केवल राजधानी लखनऊ तक ही सीमित नहीं है बल्कि सुलतानपुर, बांदा, वाराणसी, सीतापुर, खीरी, कानपुर, हरदोई, अयोध्या, प्रयागराज, अम्बेडकरनगर, बहराइच, गोण्डा, देवरिया, इटावा आदि लगभग प्रदेश के अधिकांश जिलों में ऐसी ही भयावह स्थितियां हैं. गौशालाओं में व्याप्त अव्यवस्था, चारे की अनुपलब्धता और रखरखाव के अभाव में गौ वंश अपनी जान गंवा रहे हैं.

प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष ने मांग की है कि गौ संरक्षण की उन्नत व्यवस्था के लिए कांग्रेसशासित राज्य छत्तीसगढ़ से प्रदेश की योगी सरकार को प्रेरणा लेते हुए गौ वंश के संरक्षण हेतु अविलम्ब प्रभावी कदम उठाने चाहिए. फसलों को बर्बादी से रोकने के लिए तत्काल किसानों को समुचित आर्थिक मदद मुहैया कराये.ये भी पढ़ें:

बीजेपी पर अखिलेश का तंज- हमारे बुक्कल नवाब को ले लिया, हनुमान जी की पूजा में लगा दिया

सीएम योगी की गंगा यात्रा को लेकर चकाचक हो रहा हस्तिनापुर, तैयार हुई ख़ास गौशाला

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए लखनऊ से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: January 18, 2020, 5:03 PM IST
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर