यूपी कांग्रेस में अंतर्कलह पर बड़ा खुलासा, इस नेता के इशारे पर हुई जितिन प्रसाद के खिलाफ नारेबाजी
Lucknow News in Hindi

यूपी कांग्रेस में अंतर्कलह पर बड़ा खुलासा, इस नेता के इशारे पर हुई जितिन प्रसाद के खिलाफ नारेबाजी
लखीमपुर खीरी जिला कांग्रेस कमेटी के जितिन प्रसाद पर आरोप मामले में नया खुलासा हुआ है.

लखीमपुर खीरी में पूर्व केंद्रीय मंत्री जितिन प्रसाद (Jitin Prasad) के खिलाफ विरोध प्रदर्शन को लेकर खीरी के कांग्रेस जिलाध्यक्ष प्रहलाद पटेल के ऑडियो में बड़ा खुलासा हुआ है. पता चला है कि जितिन प्रसाद के खिलाफ साजिश के तहत ये सब हुआ.

  • Share this:
लखनऊ. उत्तर प्रदेश में कांग्रेस पार्टी अब तक महासचिव प्रियंका गांधी (Priyanka Gandhi) के नेतृत्व में जनहित से जुड़े विभिन्न मुद्दों पर मुख्य विपक्षी पार्टी की तरह सत्ताधारी बीजेपी सरकार के खिलाफ मोर्चाबंदी करती नजर आ रही थी. लेकिन अब अचानक पार्टी नेताओं के बीच अंतर्कलह से जूझती दिख रही है. आरोप-प्रत्यारोप के दौर ने कांग्रेस को जकड़ना शुरू कर दिया है. दरअसल पिछले दिनों कांग्रेस के 23 शीर्ष नेताओं द्वारा पार्टी में ऊपर से नीचे तक एक बड़े बदलाव की मांग को लेकर कांग्रेस अध्यक्ष सोनिया गांधी को पत्र लिखा गया. ये वही पत्र था, जिस पर राहुल गांधी ने टिप्पणी की थी. इसके बाद इस पत्र से जुड़े इन 23 नेताओं के खिलाफ पार्टी के अंदर ही मोर्चा खुल गया.

लखीमपुर में जितिन का विरोध हुआ
यूपी के लखीमपुर खीरी में तो कांग्रेस नेता जितिन प्रसाद के खिलाफ नारेबाजी, प्रदर्शन और उन पर कार्रवाई की मांग तक सामने आ गई. इस स्थिति को वरिष्ठ कांग्रेसी नेता कपिल सिब्बल ने दुर्भाग्यपूर्ण बताया.


विरोध के पीछे सामने आई साजिश


अब पता चला है कि जितिन प्रसाद के विरोध को लेकर लखीमपुर खीरी के जिलाध्यक्ष पर दबाव बनाया गया और भाड़े पर लाए गए मजदूरों से प्रदर्शन कराया गया है. इसका खुलासा खुद खीरी के जिलाध्यक्ष प्रहलाद पटेल ने वायरल आडियो में करके यूपी के सहप्रभारी धीरज गुर्जर समेत कई नेताओं पर गंभीर आरोप लगाये हैं.

राष्ट्रीय सचिव धीरज गुर्जर ने लिखकर भेजा निंदा प्रस्ताव
कांग्रेस के खीरी से जिलाध्यक्ष प्रहलाद पटेल बताते है, 'कांग्रेस के राष्ट्रीय सचिव धीरज गुर्जर ने जितिन प्रसाद के खिलाफ निंदा प्रस्ताव जारी करने के लिए खुद प्रस्ताव का पत्र लिखकर भेजा था. जिसमें कुछ लाइनें हटाने वाली थीं. हमने कहा कि हम इस पर दस्तखत नहीं कर पाएंगे. 3 बार लाइनें हटवाई गईं. गंगवार जी प्रभारी हैं, उन पर भी तलवार लटकाई गई. हम लोगों पर भी. थोड़ी सी कमी मंत्री जी की ये रही कि ये लोग पत्ता नहीं खोलते, हम लोगों से बात भी नहीं करते. बताते भी नहीं कि क्या हो रहा है? क्या नहीं हो रहा है? हम इधर से भी नहीं उधर से भी नहीं. बात ये है कि जिलाध्यक्ष पद छोड देंगे और क्या करेंगे? इन परिस्थितयो में हम कैसे अध्यक्ष बन पाएंगे.'

उपाध्यक्ष सूरज सिंह और रवि तिवारी ने बुलाए भाड़े पर मजदूर
इतना ही नही खीरी कांग्रेस कार्यालय में जितिन प्रसाद के खिलाफ नारेबाजी के सवाल पर खीरी जिलाध्यक्ष प्रहलाद पटेल बताते हैं, 'उपाध्यक्ष सूरज सिंह और रवि तिवारी ने प्लानिंग के तहत कुछ मजदूरों को बुलाकर नारेबाजी करवाई. जब तक हम लोग मना करते तब तक सूरज सिंह ने वीडियो बनाकर वायरल कर दिया. अब या तो धीरज गुर्जर उत्तर प्रदेश संभाल लें. हम लोग तो बेकार हैं. हमने मंत्री जी के खिलाफ निंदा प्रस्ताव लिख दिया, जिस पर हाईकमान निर्णय करे तो ठीक भी है. कोई दिक्कत नही है. लेकिन इस तरह की गंदगी अगर कांग्रेस में रहेगी तो कांग्रेस कहां उठ पाएगी? प्रश्न ये उठता है कि नकवी जी तो कराएंगे वही जिले में होगा क्या?'
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज