UP: किशोरी से सामूहिक बलात्कार के मामले में कोर्ट ने दो दोषियों को 10-10 साल कैद की सजा सुनाई

कोर्ट ने 10-10 साल कैद और 13-13 हजार रुपये जुर्माने की सजा सुनाई. ( प्रतीकात्मक तस्वीर)

कोर्ट ने 10-10 साल कैद और 13-13 हजार रुपये जुर्माने की सजा सुनाई. ( प्रतीकात्मक तस्वीर)

उन्होंने कहा, "सामूहिक बलात्कार की घटना की प्राथमिकी जालौन नगर कोतवाली (Nagar Kotwali) में सात जून 2017 को दर्ज कराई गई थी.’’

  • Share this:
जालौन. उत्तर प्रदेश के जालौन (Jalaun) की एक विशेष अदालत ने 15 साल की किशोरी के साथ सामूहिक बलात्कार करने के मामले में दोषी पाए गए दो युवकों को शनिवार को 10-10 साल कैद और 13-13 हजार रुपये जुर्माने की सजा सुनाई. पॉक्सो अदालत (Poxo court) के विशेष लोक अभियोजक विश्वजीत विश्वकर्मा ने रविवार को कहा, "अपर जिला एवं सत्र न्यायालय (पॉक्सो) के विशेष न्यायाधीश गुलाम मुस्तफा ने 15 साल की एक लड़की के साथ सामूहिक बलात्कार करने और घटना का वीडियो वायरल करने की धमकी देकर ब्लैकमेल करने का आरोप सिद्ध हो जाने पर दोषियों राहुल कुशवाहा (22) और कमल (24) को 10-10 साल कैद और 13-13 हजार रुपये जुर्माने की सजा सुनाई है." उन्होंने कहा, "सामूहिक बलात्कार की घटना की प्राथमिकी जालौन नगर कोतवाली (Nagar Kotwali) में सात जून 2017 को दर्ज कराई गई थी.’’

बता दें कि बीते महीने बांदा जिले में एक पॉक्सो अदालत ने छह साल की एक बच्ची के साथ बलात्कार के दो साल पुराने मामले में दोषी पाए गए पीड़िता के रिश्ते के चाचा को 20 साल कैद की सजा सुनाई थी. पॉक्सो अदालत के विशेष लोक अभियोजक रामसुफल सिंह ने बताया था कि अभियोजन और बचाव पक्ष के अधिवक्ताओं की दलीलें सुनने के बाद अपर जिला एवं सत्र न्यायालय (पॉक्सो) के विशेष न्यायाधीश मो. रिजवान अहमद की अदालत ने बच्ची के रिश्ते के चाचा ओमप्रकाश वर्मा को बलात्कार का दोषी करार देते हुए उसे 20 साल कैद की सजा सुनाई. साथ ही, उस पर 50 हजार रुपये का जुर्माना लगाया था.

एक साल कैद की अतिरिक्त सजा काटनी होगी

सिंह ने बताया था कि बच्ची के साथ बलात्कार की घटना 24 दिसंबर 2017 की शाम बांदा शहर कोतवाली क्षेत्र में घटी थी. उन्होंने बताया कि पीड़िता की मां ने 25 दिसंबर को कोतवाली में प्राथमिकी दर्ज करवाई थी. पुलिस ने 26 दिसंबर को वर्मा को गिरफ्तार कर जेल भेज दिया था. वर्मा तब से ही जेल में है. सिंह ने बताया कि जेल में बिताई गयी अवधि सजा में समायोजित होगी और जुर्माना न जमा करने पर उसे एक साल कैद की अतिरिक्त सजा काटनी होगी.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज