प्रियंका गांधी का सोनभद्र दौरा सिर्फ राजनीतिक स्टंट है: डॉ दिनेश शर्मा

कांग्रेस महासचिव प्रियंका गांधी इससे पहले 19 जुलाई को भी सोनभद्र दौरे के लिए वाराणसी होते हुए मिर्जापुर तक पहुंची थीं लेकिन उम्भा में हालात ठीक न होने की वजह से उन्हें रोककर चुनार के किले में रखा गया था.

Shivani Sharma | News18 Uttar Pradesh
Updated: August 13, 2019, 12:41 PM IST
प्रियंका गांधी का सोनभद्र दौरा सिर्फ राजनीतिक स्टंट है: डॉ दिनेश शर्मा
यूपी के डिप्टी सीएम डॉ दिनेश शर्मा ने प्रियंका के सोनभद्र दौरे को राजनीतिक स्टंट बताया है.
Shivani Sharma | News18 Uttar Pradesh
Updated: August 13, 2019, 12:41 PM IST
प्रियंका गांधी (Priyanka Gandhi) के सोनभद्र (Sonbhadra) दौरे पर यूपी में सियासी घमासान मचा है. इस दौरे के एलान के साथ ही बीजेपी ने इसे लेकर कड़ा विरोध किया था और अब प्रदेश के उपमुख्यंत्री दिनेश शर्मा ने भी प्रियंका के सोनभद्र दौरे की कड़ी आलोचना की है. डॉ दिनेश शर्मा ने कहा है कि प्रियंका को उम्भा गांव जाना सिर्फ एक राजनीतिक स्टंट है. उन्होंने ये भी कहा है कि प्रियंका को पछतावे की भावना लेकर सोनभद्र जाना चाहिए क्योंकि इस सारे ज़मीन विवाद की जड़ कांग्रेस के कुछ नेता ही हैं. लिहाज़ा अब क्य़ा प्रियंका अपने इस दौरे पर इन आरोपों का जवाब देंगी?

प्रियंका गांधी इससे पहले 19 जुलाई को भी सोनभद्र दौरे के लिए वाराणसी होते हुए मिर्जापुर तक पहुंची थीं लेकिन उम्भा में हालात ठीक न होने की वजह से उन्हें रोककर चुनार के किले में रखा गया था. अब एक बार फिर जब प्रियंका सोनभद्र जा रही हैं तो बीजेपी इसे नाटक करार दे रही है.

प्रियंका के दौरे पर चर्चाएं तेज

लखनऊ के सत्ता के गलियारे में चर्चा है कि प्रियंका गांधी सोनभद्र के बहाने यूपी में कांग्रेस की ज़मीन तैयार करना चाहती हैं. बीजेपी ने प्रियंका के सोनभद्र दौरे को महज़ दिखावा बताया है तो कांग्रेस बीजेपी के इस सवाल पर पलटवार करते हुए कह रही है कि प्रियंका गांधी यूपी को लेकर बेहद गंभीर हैं. सोनभद्र में अब तक पीड़ित परिवारों को उनकी ज़मीन पर हक नहीं मिल सका है. लिहाज़ा प्रियंका एक बार फिर इन पीड़ित परिवारों से मिलकर सरकार के सामने इस मुद्दे को उठाना चाहती हैं.

बता दें सोनभद्र नरसंहार के बाद मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ द्वारा सोनभद्र और मिर्जापुर जिले में कृषि सहकारी समितियां बनाकर जमीन हथियाने से जुड़े मामलों की जांच के लिए गठित उच्च स्तरीय रेणुका कमेटी को जांच सौंपी गई है. अपर मुख्य सचिव रेणुका कुमार की अध्यक्षता में गठित कमेटी की जांच में खुलासा हुआ था कि सोनभद्र नरसंहार की घटना के मूल में रही आदर्श कृषि सहकारी समिति की तरह ही सोनभद्र और मिर्जापुर में 39 कृषि सहकारी समितियां हैं, इनमें बड़ी मात्रा में जमीनों को कब्ज़ा किया गया है.

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए लखनऊ से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: August 13, 2019, 12:41 PM IST
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...