रिपोर्ट: लॉकडाउन ने दी UP की अर्थव्यवस्था को बड़ी चोट, उद्योगों का बुरा हाल, कृषि सेक्टर ने संभाला

मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ (File Photo)
मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ (File Photo)

यूपी सरकार (UP Government) की तरफ से जारी आधिकारिक रिपोर्ट में पिछले वित्त वर्ष की की तुलना में इस बार पहली तिमाही में 22.5 फीसदी की गिरावट हुई है. सबसे ज्यादा नुकसान उद्योग सेक्टर पर पड़ा है.

  • News18Hindi
  • Last Updated: October 30, 2020, 3:37 PM IST
  • Share this:
लखनऊ. कोरोना महामारी (COVID-19) के चलते लागू किए गए लॉकडाउन (Lockdown) ने पूरे देश की अर्थव्यवस्था (Economy) का बुरा असर डाला है. देश के सबसे बड़े राज्यों में शुमार उत्तर प्रदेश (Uttar Pradesh) भी इससे अछूता नहीं रहा है. सरकार की तरफ से जारी आधिकारिक रिपोर्ट में इस बार पिछले वित्त वर्ष की तुलना में पहली तिमाही में 22.5 फीसदी की गिरावट हुई है. सबसे ज्यादा नुकसान उद्योग सेक्टर पर पड़ा है. खास बात ये रही कि कृषि सेक्टर ने लॉकडाउन में भी प्रदेश की अर्थव्यवस्था को संभाले रखा, यही नहीं इस सेक्टर में वृद्धि भी दर्ज की गई.

उत्तर प्रदेश के नियोजन विभाग के अर्थ एवं संख्या प्रभाग ने वित्तीय वर्ष 2019-20 की पहली तिमारी यानी अप्रैल से जून से 2020-21 की पहली तिमाही की तुलना सकल और निवल राज्य घरेलू उत्पाद के अनुमान स्थिर (2011-12) व प्रचलित भावों पर तैयार किए हैं. प्रभाग के निदेशक के अनुसार वर्ष 2020-21 में स्थिर भावों पर सकल राज्य घरेलू उत्पाद (जीएसडीपी) की वृद्धि दर 2019-20 की पहली तिमाही की अपेक्षा माइनस (-22.5 प्रतिशत) रही।

वर्ष 2020-21 की पहली तिमाही में जीएसडीपी 1,99,567 करोड़ रुपये रहने का अनुमान है, जबकि वर्ष 2019-20 में यह 2,57,639 करोड़ रुपये थी. स्थिर भावों पर प्राथमिक (कृषि व उससे जुड़ी गतिविधियां) क्षेत्र में सकल राज्य घरेलू मूल्य वर्धन (जीएसवीए) की वृद्धि दर 2019-20 की पहली तिमाही की तुलना में 4.5 प्रतिशत होने का अनुमान है. वहीं, द्वितीयक (मैन्युफैक्चरिंग व उद्योग) तथा तृतीयक (सेवा) क्षेत्र की वृद्धि दर -42.9 प्रतिशत और -22.8 प्रतिशत रहने का अनुमान है. प्रचलित भावों पर भी जीएसडीपी में 22 फीसद की गिरावट अनुमानित है.




बता दें वित्तीय वर्ष 2019-20 की आखिरी तिमाही (जनवरी-मार्च 2020) में यूपी के सकल और निवल राज्य घरेलू उत्पाद में 2018-19 की आखिरी तिमाही की तुलना में 2.7 फीसद वृद्धि का अनुमान लगाया गया. स्थिर (2011-12) भावों पर वर्ष 2019-20 की चौथी तिमाही में प्रदेश का सकल राज्य घरेलू उत्पाद 3,18,626 करोड़ रुपये अनुमानित किया गया है, जो कि वर्ष 2018-19 की समान अवधि के सापेक्ष 2.7 प्रतिशत की वृद्धि को दर्शाता है. स्थिर भावों पर वर्ष 2019-20 की चौथी तिमाही में प्रदेश का निवल राज्य घरेलू उत्पाद 2,78,005 करोड़ रुपये अनुमानित किया गया है, जो कि वर्ष 2018-19 के आखिरी तीन माह के सापेक्ष 2.7 प्रतिशत अधिक है.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज