Home /News /uttar-pradesh /

UP Chunav: भाजपा ने अपना दल और निषाद पार्टी को दी इतनी सीटें, क्या पिछली बार की तुलना में बढ़ गया कद

UP Chunav: भाजपा ने अपना दल और निषाद पार्टी को दी इतनी सीटें, क्या पिछली बार की तुलना में बढ़ गया कद

प्रतीकात्मक तस्वीर

प्रतीकात्मक तस्वीर

UP Election 2022: उत्तर प्रदेश (Uttar Pradesh News) में होने वाले विधानसभा चुनाव (UP Chunav 2022) के लिए भारतीय जनता पार्टी की सीट शेयरिंग का फॉर्मूला (BJP Seat Sharing Formula) सामने आ गया है. सूत्रों की मानें तो अपना दल (Apna Dal) और निषाद पार्टी (Nishad Party) के साथ बीजेपी (BJP News) की सीट शेयरिंग तकरीबन तय हो गई है. बीजेपी के साथ अपना दल 14 सीट और निषाद पार्टी 17 सीटों पर उत्तर प्रदेश विधानसभा चुनाव लड़ेगी. बताया जा रहा है कि देर रात भाजपा मुख्यालय में चली बैठक में यह फैसला हुआ है.

अधिक पढ़ें ...

लखनऊ: उत्तर प्रदेश (Uttar Pradesh News) में होने वाले विधानसभा चुनाव (UP Chunav 2022) के लिए भारतीय जनता पार्टी की सीट शेयरिंग का फॉर्मूला (BJP Seat Sharing Formula) सामने आ गया है. सूत्रों की मानें तो अपना दल (Apna Dal) और निषाद पार्टी (Nishad Party) के साथ बीजेपी (BJP News) की सीट शेयरिंग तकरीबन तय हो गई है. बीजेपी के साथ अपना दल 14 सीट और निषाद पार्टी 17 सीटों पर उत्तर प्रदेश विधानसभा चुनाव लड़ेगी. बताया जा रहा है कि देर रात भाजपा मुख्यालय में चली बैठक में यह फैसला हुआ है. हालांकि, आधिकारिक ऐलान होना अभी बाकी है.

अगर पिछले चुनाव की बात करें तो अपना दल को भाजपा ने 11 सीटें दी थीं, मगर इस बार उसे तीन सीटें अधिक दी गई हैं. सूत्रों की मानें तो सहयोगी दलों के साथ सीट शेयरिंग तकरीबन तय है, मगर किस-किस को कौन सी सीट दी जाएगी, उसको लेकर आज शाम फिर से बैठक होगी. अपना दल (एस) और बीजेपी नेताओं के बीच एक बार फिर बैठक होगी और तब जाकर आधिकारिक ऐलान होगा. आज शाम दिल्ली में अनुप्रिया पटेल और आशीष पटेल बीजेपी के वरिष्ठ नेताओं से मुलाक़ात करेंगे.

बता दें कि भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) की कोर कमेटी ने बुधवार को नई दिल्ली में एक और मैराथन बैठक की, जिसमें उत्तर प्रदेश विधानसभा चुनाव के लिए सहयोगियों के साथ सीटों के बंटवारे पर चर्चा हुई. केंद्रीय गृह मंत्री अमित शाह की अध्यक्षता में बीजेपी मुख्यालय में यह बैठक हुई. इसी बैठक में अपना दल और निषाद पार्टी के साथ सीट शेयरिंग के फॉर्मूले को फाइनल रूप दिया गया. इससे पहले मंगलवार को भी एक बैठक हुई थी.

यूपी चुनाव के लिए सीट शेयरिंग के मसले पर लेकर बुधवार को मंथन का दौर 14 घंटे तक चलता रहा और गुरुवार को 1.35 बजे समाप्त हुआ. इससे पहले मंगलवार को कोर कमेटी की पहली बैठक हुई थी, जो 10 घंटे तक चली. एएनआई ने बताया कि बैठक में मौजूद नेताओं ने 172 सीटों के लिए उम्मीदवारों को भी अंतिम रूप दिया, जहां यूपी चुनाव के पहले तीन चरणों में मतदान होगा. समाचार एजेंसी एएनआई के मुताबिक, बैठक में मौजूद नेताओं ने 172 सीटों के लिए उम्मीदवारों की लिस्ट को भी अंतिम रूप दिया, जहां यूपी चुनाव के पहले तीन चरणों में मतदान होगा.

समाचार एजेंसी के मुताबिक, इन नामों पर गुरुवार को भाजपा की केंद्रीय चुनाव समिति (सीईसी) की बैठक में चर्चा की जाएगी, जहां प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी भी मौजूद रहेंगे. एएनआई ने कहा कि केंद्रीय चुनाव समिति की बैठक के बाद सीट बंटवारे के सौदे की भी घोषणा की जाएगी. इस मामले से अवगत पार्टी पदाधिकारियों ने कहा कि बुधवार की बैठक में जिन निर्वाचन क्षेत्रों पर चर्चा की गई, उनमें अयोध्या है, जहां से मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ का नाम प्रस्तावित किया गया है. बता दें कि मुख्यमंत्री आदित्यनाथ, उनके डिप्टी केशव प्रसाद मौर्य, बीजेपी यूपी चुनाव प्रभारी धर्मेंद्र प्रधान, पार्टी के राष्ट्रीय महासचिव (संगठन) बीएल संतोष और यूपी महासचिव (संगठन) सुनील बंसल मौजूद थे. बता दें कि मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ गोरखपुर से पांच बार सांसद हैं और गोरखनाथ मठ के प्रमुख भी हैं. वह वर्तमान में राज्य की विधान परिषद के सदस्य हैं.

दरअसल, पिछले 2017 के विधानसभा चुनाव में बीजेपी ने अपना दल को 11 जबकि ओमप्रकाश राजभर की पार्टी को 8 सीटें दी थीं. हालांकि, ओम प्रकाश राजभर अब समाजवादी पार्टी (सपा) के साथ हैं. भारत निर्वाचन आयोग (ईसीआई) द्वारा घोषित कार्यक्रम के अनुसार, उत्तर प्रदेश की 403 विधानसभा सीटों के लिए सात चरणों में मतदान 10 फरवरी से शुरू होगा. उत्तर प्रदेश में अन्य चरणों में मतदान 14, 20, 23, 27 फरवरी, 3 और 7 मार्च को होगा. वहीं यूपी चुनाव के नतीजे 10 मार्च को आएंगे.

Tags: Assembly elections, Uttar Pradesh Elections, Uttar pradesh news

विज्ञापन
विज्ञापन

राशिभविष्य

मेष

वृषभ

मिथुन

कर्क

सिंह

कन्या

तुला

वृश्चिक

धनु

मकर

कुंभ

मीन

प्रश्न पूछ सकते हैं या अपनी कुंडली बनवा सकते हैं ।
और भी पढ़ें
विज्ञापन

टॉप स्टोरीज

अधिक पढ़ें

अगली ख़बर