Home /News /uttar-pradesh /

UP Election: महाराष्ट्र में 'हम साथ-साथ हैं' तो यूपी में 'हम आपके हैं कौन', जानें कांग्रेस, NCP और शिवसेना का चुनावी प्लान

UP Election: महाराष्ट्र में 'हम साथ-साथ हैं' तो यूपी में 'हम आपके हैं कौन', जानें कांग्रेस, NCP और शिवसेना का चुनावी प्लान

यूपी चुनाव में कांग्रेस, एनसीपी और शिवसेना के राह अलग हैं.

यूपी चुनाव में कांग्रेस, एनसीपी और शिवसेना के राह अलग हैं.

UP Chunav 2022: उत्तर प्रदेश विधानसभा चुनाव (UP Election) में सियासत के कई रंग देखने को मिल रहे हैं. कुछ पार्टियों की स्थिति ऐसी है कि महाराष्ट्र में जहां मिलकर सरकार चला रहे हैं, वहीं यूपी (UP Chunav) आते ही उनकी राह अलग हो गई है. शायद इसीलिए कहा जाता है कि सियासत में कुछ भी संभव है. महाराष्ट्र में महाविकास अघाड़ी सरकार है, जिसमें शिवसेना (Shiv Sena), एनसीपी (NCP) और कांग्रेस (Congress) गठबंधन में हैं. मगर जब बात यूपी चुनाव की आती है तो ये तीनों पार्टियां अलग-अलग खेमे में नजर आ रही हैं. यानी शिवसेना, एनसीपी और कांग्रेस जहां महाराष्ट्र में साथ-साथ हैं, वहीं उत्तर प्रदेश की सियासत में अलग-अलग राह पर चल रही हैं.

अधिक पढ़ें ...

लखनऊ: उत्तर प्रदेश विधानसभा चुनाव (UP Election) में सियासत के कई रंग देखने को मिल रहे हैं. कुछ पार्टियों की स्थिति ऐसी है कि महाराष्ट्र में जहां मिलकर सरकार चला रहे हैं, वहीं यूपी (UP Chunav) आते ही उनकी राह अलग हो गई है. शायद इसीलिए कहा जाता है कि सियासत में कुछ भी संभव है. महाराष्ट्र में महाविकास अघाड़ी सरकार है, जिसमें शिवसेना (Shiv Sena), एनसीपी (NCP) और कांग्रेस (Congress) गठबंधन में हैं. मगर जब बात यूपी चुनाव की आती है तो ये तीनों पार्टियां अलग-अलग खेमे में नजर आ रही हैं. यानी शिवसेना, एनसीपी और कांग्रेस जहां महाराष्ट्र में साथ-साथ हैं, वहीं उत्तर प्रदेश की सियासत में अलग-अलग राह पर चल रही हैं.

उत्तर प्रदेश में कांग्रेस जहां अकेले चुनावी मैदान में उतरी है, वहीं शिवसेना ने भी अकेले चुनाव लड़ने का ऐलान किया है. साथ ही एनसीपी ने सपा को समर्थन देने का ऐलान किया है. इस तरह से देखा जाए तो जहां ये तीनों पार्टियां (कांग्रेस, शिवसेना और एनसीपी) महाराष्ट्र में एक साथ मिलकर सरकार चला रही हैं, वहीं यूपी की सियासत में इनके रास्ते अलग हैं. यूपी में ये तीनों पार्टियां सियासी अखाड़े में एक-दूसरे के आमने-सामने होंगी. शिवसेना के संजय राउत ने साफ तौर पर ऐलान किया है कि शिवसेना, सपा, बसपा या कांग्रेस किसी के साथ भी गठबंधन नहीं करेगी.

हालांकि, यहां ध्यान देने वाली बात है कि महाविकास अघाड़ी के तीनों साथियों में से कांग्रेस को छोड़ शिवसेना और एनसीपी का उत्तर प्रदेश की सियासत में बहुत ज्यादा वजूद नहीं रहा है. शिवसेना पहली बार ही उत्तर प्रदेश के चुनाव में अकेले उतरने जा रही है. इससे पहले वह भाजपा की वजह से यूपी के सियासी अखाड़े में नहीं उतरती थी. वहीं, एनसीपी अक्सर कुछ ही सीटों पर चुनाव लड़ती रही है. लेकिन उत्तर प्रदेश में कांग्रेस इन तीनों में सबसे बड़ी पार्टी रही है. कांग्रेस पिछले चुनाव में सपा संग गठबंधन में थी, मगर इस बार वह अकेले ही चुनाव लड़ रही है.

उत्तर प्रदेश की 403 विधानसभा सीटों के लिए सात चरणों में मतदान 10 फरवरी से शुरू होगा. उत्तर प्रदेश में अन्य चरणों में मतदान 14, 20, 23, 27 फरवरी, 3 और 7 मार्च को होगा. वहीं यूपी चुनाव के नतीजे 10 मार्च को आएंगे. 2017 के चुनाव में बीजेपी ने यहां की 403 में से 312 सीटों पर जीत दर्ज की थी. सपा और कांग्रेस ने साथ मिलकर चुनाव लड़ा था. सपा ने 47 और कांग्रेस ने 7 सीटें ही जीती थीं. मायावती की बसपा 19 सीटें जीतने में कामयाब रही थी.

Tags: Assembly elections, UP chunav, Uttar Pradesh Elections, Uttar pradesh news

विज्ञापन

राशिभविष्य

मेष

वृषभ

मिथुन

कर्क

सिंह

कन्या

तुला

वृश्चिक

धनु

मकर

कुंभ

मीन

प्रश्न पूछ सकते हैं या अपनी कुंडली बनवा सकते हैं ।
और भी पढ़ें
विज्ञापन

टॉप स्टोरीज

अधिक पढ़ें

अगली ख़बर