अपना शहर चुनें

States

यूपी में पहले चरण में 4.85 करोड़ लोगों को लगेगी कोरोना वैक्सीन, मतदाता सूची से तय होगी प्राथमिकता

कोविड-19 वैक्सीन (Covid-19 Vaccine) को लेकर वैसे तो बहुत से विकल्प हैं लेकिन सभी के बाजार में आने में समय लग सकता है.
कोविड-19 वैक्सीन (Covid-19 Vaccine) को लेकर वैसे तो बहुत से विकल्प हैं लेकिन सभी के बाजार में आने में समय लग सकता है.

Corona Vaccine: प्रदेश सरकार ने जो रणनीति तैयार की है उसके मुताबिक पहले चरण के लिए हेल्थ केयर वर्कर एवं फ्रंटलाइन वर्करों के अलावा अन्य जिन लोगों को यह वैक्सीन लगेगी, वे लोग होंगे जिनकी उम्र 50 वर्ष से कम है और वे गंभीर बीमारी से ग्रसित हैं.

  • News18Hindi
  • Last Updated: December 16, 2020, 10:59 PM IST
  • Share this:
लखनऊ. उत्तर प्रदेश (Uttar Pradesh) में कोरोना वैक्सीनेशन (Corona Vaccination) को लेकर पहले चरण की तैयारी पूरी हो चुकी है. जानकारी के मुताबिक पहले चरण में 4.85 करोड़ लोगों को टीका लगाया जाएगा. सबसे पहले हेल्थ केयर वर्कर और फ्रंटलाइन वर्करों को वैक्सीन लगाई जाएगी. इसके लिए 7.65 लाख हेल्थ केयर और 22.30 लाख फ्रंटलाइन वर्करों की लिस्ट तैयार हो चुकी. कोरोना वैक्सीनेशन अभियान की शुरुआत कोरोना वारियर्स से की जाएगी.

कोरोना वारियर्स के बाद मतदाता सूची से आयु निर्धारित कर प्राथमिकता तय की जाएगी. उसी के अनुसार टीकाकरण होगा. प्रदेश सरकार ने जो रणनीति तैयार की है उसके मुताबिक पहले चरण के लिए हेल्थ केयर वर्कर एवं फ्रंटलाइन वर्करों के अलावा अन्य जिन लोगों को यह वैक्सीन लगेगी, वे लोग होंगे जिनकी उम्र 50 वर्ष से कम है और वे गंभीर बीमारी से ग्रसित हैं. तीसरे नम्बर पर ऐसे ही लोगों को वैक्सीन लगाया जाना है जो 50 वर्ष से अधिक उम्र के हैं और जिन्हें कोई न कोई रोग है.

मतदाता सूची से तय होगी प्राथमिकता  



इसके बाद बचे लोगों की सूची तैयार होगी जो लोकसभा या विधानसभा चुनाव की मतदाता सूची के आधार पर होगी. इसके तहत 50 वर्ष से अधिक उम्र के लोगों की सूची तैयार की जा रही है. वैक्सीनेशन अभियान सुबह नौ बजे से शाम के पांच बजे तक चलाया जाएगा.


डॉक्टर्स, नर्स व पैरा मेडिकल स्टाफ की छुट्टियां रद्द 

उत्तर प्रदेश सरकार ने इस महीने शुरू होने जा रहे कोरोना वैक्सीनेशन के मद्देनजर चिकित्सा एवं स्वास्थ्य विभाग के सभी अधिकारियों एवं कर्मचारियों की सभी प्रकार की छुट्टियां तत्काल प्रभाव से रद्द कर दी हैं. इसमें संविदा एवं दैनिक वेतन भोगी कर्मचारी भी शामिल हैं. चिकित्सा, स्वास्थ्य एवं परिवार कल्याण महानिदेशक की ओर से मंगलवार देर रात इस बारे में आदेश जारी किया गया. इसके मुताबिक दिसंबर माह के अलावा अगले वर्ष 31 जनवरी तक सभी प्रकार की छुट्टियां रद्द कर दी गई हैं.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज