लाइव टीवी

UP: रूरल प्रोजैक्ट शुरू करने और मजदूरों को रोजगार देने में फिसड्डी हैं ये 25 जिले, ग्रीन-ऑरेंज जोन के 15 शामिल
Kannauj News in Hindi

News18Hindi
Updated: May 21, 2020, 2:29 PM IST
UP: रूरल प्रोजैक्ट शुरू करने और मजदूरों को रोजगार देने में फिसड्डी हैं ये 25 जिले, ग्रीन-ऑरेंज जोन के 15 शामिल
यूपी में ग्रामीण क्षेत्रों में सरकारी योजनाएं शुरू करने में कई जिले पीछे चल रहे हैं. (सांकेतिक तस्वीर)

उत्तर प्रदेश (Uttar Pradesh) के ग्राम्य विकास विभाग के अनुसार पूरे प्रदेश के ग्रामीण क्षेत्रों में इस समय 58,906 में से 50,946 प्रोजैक्ट पर काम शुरू हो गया है, ये करीब 86 प्रतिशत है. इन प्रोजैक्ट में करीब 34 लाख 11 हजार 518 मजदूरों को काम दिया गया है.

  • Share this:
लखनऊ. देश में लागू लॉकडाउन (Lockdown) के बीच उत्तर प्रदेश की योगी सरकार (Yogi Government) एक साथ कई मोर्चों का डटकर सामना कर रही है. इस बीच ग्राम्य विकास विभाग ने एक सूची जारी की है, जिसमें प्रदेश के 25 ऐसे जिलों के नाम हैं, जो योजनाएं शुरू करने और मजदूरों को काम देने के मामले में सबसे पीछे हैं. इनमें से 10 जिले रेड जोन में हैं, जबकि 15 जिले ग्रीन और ऑरेंज जोन के हैं.

बता दें केंद्र सरकार द्वारा विशेष पैकेज के तहत मनरेगा के मद में 40 हजार करोड़ रुपये दिए जाने का अधिक लाभ उत्तर प्रदेश को मिलने की उम्मीद है. इस पैकेज से करीब 5800 करोड़ रुपये मिलने की उम्मीद है. माना जा रहा है कि अधिक काम होने से गांवों की अर्थव्यवस्था में सुधार के साथ ही गांवों का विकास भी तेज हो सकेगा.

ग्राम्य विकास आयुक्त के.रविंद्र नायक के मुताबिक राज्य में मनरेगा के कामों को और गति देने का काम किया जाएगा. बता दें कि 2020-21 के बजट में राज्य को मनरेगा के मद में केंद्र सरकार ने 8700 करोड़ रुपये आवंटित किए हैं. मनरेगा मद में केंद्र की कुल धनराशि का यह करीब 14.5 फीसदी है. अब केंद्र सरकार ने 40 हजार करोड़ और मनरेगा में दिए जाने की घोषणा की है. इस धनराशि से भी यदि 14.5 फीसदी धनराशि राज्य को मिलती है तो 5800 करोड़ रुपये मिल जाएंगे.



यूपी में 86 प्रतिशत प्रोजैक्ट शुरू, 34 लाख से ज्यादा मजदूरों को मिला रोजगार



लेकिन तस्वीर का दूसरा पहलू ये है कि प्रदेश के 25 जिले प्रदर्शन के मामले में सबसे पीछे हैं. जहां पूरे प्रदेश के ग्रामीण क्षेत्रों में इस समय 58,906 प्रोजैक्ट में से 50,946 प्रोजैक्ट पर काम शुरू हो गया है, ये करीब 86 प्रतिशत है. इन प्रोजैक्ट में करीब 34 लाख 11 हजार 518 मजदूरों को काम दिया गया है.

लेकिन कई जिले ऐसे हैं, जो कमतर प्रदर्शन कर रहे हैं. इनमें बुलंदशहर में 46 प्रतिशत प्रोजैक्ट ही शुरू हुए हैं और 7608 मजदूरों को रोजगार मिला है. वहीं शामली जनपद में 230 में से 117 प्रोजैक्ट ही शुरू हो सके हैं, जो करीब 51 फीसदी है. यहां कुल 1219 मजदूरों को ही रोजगार मिल सका है. इसी तरह मेरठ में 52 प्रतिशत, बिजनौर में 61 और अमरोहा में 67 प्रतिशत योजनाओं में काम शुरू हो सका है.

MNREGA1
ग्राम्य विकास विभाग की लिस्ट


ग्रीन और ऑरेंज जोन में सबसे कम  प्रदर्शन करने वाले 15 जिले

शामली, औरैया, कन्नौज, एटा, फर्रुखाबाद, महोबा, इटावा, हाथरस, संत रविदास नगर, कासगंज, श्रावस्ती, मैनपुरी, कौशाम्बी, संभल और कानपुर देहात.

रेड जोन में सबसे कम प्रदर्शन करने वाले 10 जिले

बुलंदशहर, मेरठ, बिजनौर, अमरोहा, रामपुर, अलीगढ़, बरेली, वाराणसी, लखनऊ और मथुरा.

ये भी पढ़ें:

लॉकडाउन के बीच आगरा के किसानों पर नई मुसीबत, टिड्डी दल के हमले को लेकर अलर्ट

69000 शिक्षक भर्ती: Answer Key पर आपत्तियों को लेकर HC ने सरकार से मांगा जवाब

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए कन्नौज से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: May 21, 2020, 2:29 PM IST
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
corona virus btn
corona virus btn
Loading