प्रवासी मजदूरों पर सियासत तेज, UP के मंत्री बोले- केजरीवाल ने हड़बड़ी में लगाया लॉकडाउन, लोगों को बॉर्डर पर लाकर छोड़ा

आनंद विहार और कौशांबी बस स्‍टैंड पर प्रवासी मजदूर की भीड.

आनंद विहार और कौशांबी बस स्‍टैंड पर प्रवासी मजदूर की भीड.

दिल्‍ली में सीएम अरविंद केजरीवाल (CM Arvind Kejriwal) के 6 दिन के लिए लॉकडाउन की घोषणा के बाद प्रवासी मजदूरों (Migrant Laborers)की भीड़ रेलवे और बस स्टैंड पर दिखने लगी है. इस बीच यूपी के कैबिनेट मंत्री सिद्धार्थ नाथ सिंह ने दिल्‍ली सरकार पर लोगों को बॉर्डर पर लाकर छोड़ने का आरोप लगाया है.

  • News18Hindi
  • Last Updated: April 20, 2021, 12:51 PM IST
  • Share this:
नई दिल्‍ली. देश की राष्‍ट्रीय राजधानी दिल्‍ली में कोरोना वायरस के बेलगाम होने के बाद मुख्‍यमंत्री अरविंद केजरीवाल (CM Arvind Kejriwal) ने 6 दिन के लिए लॉकडाउन से अफरा तफरी का माहौल पैदा हो गया है. दरअसल, लॉकडाउन की घोषणा के साथ ही प्रवासी मजदूरों (Migrant Laborers)की भीड़ रेलवे और बस स्टैंड पर जुटने लगी है. इसमें बिहार और उत्तर प्रदेश के अधिकांश मजदूर शामिल हैं. हालांकि इस बीच यूपी के कैबिनेट मंत्री सिद्धार्थ नाथ सिंह (Siddharth Nath Singh) ने दिल्‍ली सरकार पर बड़ा आरोप लगाकर सियासत तेज कर दी है.

यूपी सरकार के मंत्री ने कहा कि दिल्ली सीएम अरविंद केजरीवाल ने जल्दी में लॉकडाउन लगाया जिसकी वजह से लोग परेशान हो रहे हैं. कल रात को हमने लॉकडाउन का प्रभाव गाजियाबाद और नोएडा बॉर्डर पर देखा. दिल्ली की बसों ने लोगों को बॉर्डर पर लाकर छोड़ दिया. इस बीच यूपी के सीएम योगी आदित्‍यनाथ ने कल ही उन लोगों को उनके घर पहुंचाने का काम शुरू किया है.

दिल्‍ली में 26 अप्रैल तक लॉकडाउन

बता दें कि दिल्ली में बीते 19 अप्रैल की रात 10 बजे से 26 अप्रैल की सुबह 5 बजे तक लॉकडाउन का ऐलान किया गया है. इस बीच गाजियाबाद की सीमा पर एक प्रवासी मजदूर ने कहा कि हमारे लिए कोई काम नहीं है और कोई भी मकान मालिक या सरकार हमें लॉकडाउन के दौरान मदद नहीं करेगी. इसलिए अपने घर लौट रहा हूं. यही नहीं, एक अन्‍य प्रवासी मजदूर ने बताया कि पिछले लॉकडाउन में हम लोग यहां फंस गए थे इसलिए हम लोग अभी ही अपने घर जा रहे हैं. पिछले बार हम लोगों ने यहां बहुत परेशानी का सामना किया था.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज