• Home
  • »
  • News
  • »
  • uttar-pradesh
  • »
  • यूपी में दंगे और साम्प्रदायिक तनाव वाली घटनाओं में आई कमी, जानिए क्या कह रहे NCRB के आंकड़े

यूपी में दंगे और साम्प्रदायिक तनाव वाली घटनाओं में आई कमी, जानिए क्या कह रहे NCRB के आंकड़े

सोशल मीडिया पर सख्ती से यूपी में दंगे और सांप्रदायिक तनाव वाली घटनाओं में आई कमी

सोशल मीडिया पर सख्ती से यूपी में दंगे और सांप्रदायिक तनाव वाली घटनाओं में आई कमी

UP Crime Report: नेशनल क्राइम रिकार्ड ब्यूरो (एनसीआरबी) के ताजा आंकड़े बता रहे है कि यूपी सांप्रदायिक तनाव वाली घटनाओं में खासा कमी आयी है, लेकिन इसमें बड़ी भूमिका सोशल मीडिया ने निभाई है.

  • Share this:

लखनऊ. चुनाव नजदीक आते ही सोशल मीडिया (Social Media) पर शिकायतों, झूठी सूचनाओं और अफवाहों पर पुलिस (Police) की पैनी नजर है. ऐसे मामलों में पुलिस ने एक हजार से ज्यादा मुकदमे दर्ज किए हैं और 35 हजार से ज्यादा पोस्ट के खिलाफ संबंधित कंपनी को कार्यवाई के लिए रिपोर्ट किया है. इतना ही नहीं सौ से ज्यादा लोगों को गिरफ्तार किया गया है. सोशल मीडिया पर लगाम और सख्त पुलिसिंग की वजह से पिछले तीन सालों में कोई दंगा या सांप्रदायिक तनाव नहीं हुआ है.

नेशनल क्राइम रिकार्ड ब्यूरो (एनसीआरबी) के ताजा आंकड़े बता रहे है कि यूपी सांप्रदायिक तनाव वाली घटनाओं में खासा कमी आयी है, लेकिन इसमें बड़ी भूमिका सोशल मीडिया ने निभाई है. सीएम योगी के निर्देश पर सोशल मीडिया पर झूठ या अफवाह फैलाने वालों पर सख्ती से कार्यवाई की जा रही है. जिस वजह से कानून-व्यवस्था को चुस्त करने में पुलिस को काफी मदद मिली है. नवम्बर 2019 में सुप्रीम कोर्ट द्वारा श्रीराम जन्मभूमि के फैसले के बाद सिर्फ पांच दिनों में सोशल मीडिया पर आपत्तिजनक टिप्पणी करने वाले पर 78 मुकदमे दर्ज किए गए. साथ ही 14,380 सोशल मीडिया पोस्ट पर कार्यवाई के लिए संबंधित कम्पनी को रिपोर्ट किया गया.

CAA प्रोटेस्ट के दौरान इतने मामले आए सामने
प्रदेश में सीएए को लेकर सोशल मीडिया के विभिन्न प्लेटफार्मों पर किए गए आपत्तिजनक, भ्रामक, पोस्ट, मैसेज और वीडियो आदि को लेकर 2019 में 10 से 27 दिसंबर के बीच कुल 95 मुकदमे दर्ज कर 120 आरोपियों को गिरफ्तार किया गया. इस दौरान कुल 21,388 सोशल मीडिया पोस्ट के ऊपर कार्यवाई के लिए संबंधित कम्पनी को रिपोर्ट किया गया. पिछले साल लॉकडाउन के दौरान सोशल मीडिया पर आपत्तिजनक टिप्पणी करने पर 889 मुकदमे दर्ज किए गए, इनमें से 225 मुकदमे अफवाह या भ्रामक सूचना से संबंधित टिप्पणी, 454 मुकदमे सांप्रदायिक सद्भाव को प्रभावित करने वाली टिप्पणी और 210 मुकदमे अन्य विभिन्न प्रकार की टिप्पणियों के बारे में भी किए गए.

सोशल मीडिया के माध्यम से शिकायतों का भी हुआ निस्तारण
पुलिस ने सोशल मीडिया पर शिकायत करने वालों की भी मदद की है. सोशल मीडिया पर चार सालों में 29 लाख 25 हजार शिकायतें मिलीं हैं, जिनमें से छह लाख 25 हजार 160 शिकायतें कार्यवाई योग्य मिलीं और कार्यवाई भी की गई. इसके अलावा थानों में शिकायतों की हीलाहवाली करने पर 14,462 मुकदमे सोशल मीडिया के माध्यम से दर्ज कराया गया है. सोशल मीडिया के माध्यम से पुलिस ने लोगों की मदद भी की है. पिछले साल लॉकडाउन के दौरान सिर्फ अप्रैल में करीब एक लाख 70 हजार ट्वीट पुलिस को मिले, जिनमें से अधिकांश आपातकालीन संचलन की अनुमति, भोजन-खाद्य पदार्थ की आपात व्यवस्था, चिकित्सीय सहायता, कोरोना संदिग्ध व्यक्तियों की सूचना और लॉकडाउन के उल्लंघन से संबंधित थे.

पढ़ें Hindi News ऑनलाइन और देखें Live TV News18 हिंदी की वेबसाइट पर. जानिए देश-विदेश और अपने प्रदेश, बॉलीवुड, खेल जगत, बिज़नेस से जुड़ी News in Hindi.

हमें FacebookTwitter, Instagram और Telegram पर फॉलो करें.

विज्ञापन
विज्ञापन

विज्ञापन

टॉप स्टोरीज