• Home
  • »
  • News
  • »
  • uttar-pradesh
  • »
  • ...तो अखिलेश यादव अपने बयानों से कर रहे हैं 'सेल्फ गोल'? जानिए कब-कब हुई किरकिरी

...तो अखिलेश यादव अपने बयानों से कर रहे हैं 'सेल्फ गोल'? जानिए कब-कब हुई किरकिरी

UP: सपा प्रमुख अखिलेश यादव  (File Photo)

UP: सपा प्रमुख अखिलेश यादव (File Photo)

Lucknow News: अल-कायदा के आतंकियों पर दिये अपने बयान के बाद अखिलेश यादव (Akhilesh Yadav) बीजेपी के निशाने पर आ गये हैं. बीजेपी उन पर तुष्टिकरण का आरोप लगा रही है.

  • Share this:
लखनऊ. सपा के राष्ट्रीय अध्यक्ष और पूर्व मुख्यमंत्री अखिलेश यादव (Akhilesh Yadav) के एक और बयान से राजनीतिक हलकों में घमासान शुरू हो गया है. उनका ताजा बयान लखनऊ (Lucknow) से गिरफ्तार अल-कायदा के संदिग्ध आतंकियों (Al Qaeda Suspects) से जुड़ा हुआ है. रविवार को एटीएस ने लखनऊ के काकोरी इलाके से अल-कायदा के दो संदिग्ध आतंकियों को बड़ी मात्रा में विस्फोटक के साथ गिरफ्तार किया था. उनके नेटवर्क का पर्दाफाश करने के लिए प्रदेश में कई जगहों पर छापेमारी चल रही है. इसी बीच अखिलेश यादव से इस बारे में जब सवाल पूछा गया तो उन्होंने एक ऐसा बयान दे दिया है, जिसे लेकर सोशल मीडिया में काफी खलबली देखने को मिल रही है.

लखनऊ के काकोरी इलाके से एटीएस द्वारा पकड़े गये अलकायदा के संदिग्ध आतंकियों पर बोलते हुए अखिलेश यादव ने कह दिया है कि मैं यूपी की पुलिस पर और खासकर बीजेपी की सरकार पर भरोसा नहीं कर सकता. उनके इस बयान के बाद काफी खलबली मची हुई है. सोशल मीडिया पर बीजेपी ने इसे प्रचारित करना शुरू कर दिया है. यूपी बीजेपी ने ट्वीट करके क्या पूछा है, आइये जानते हैं - लखनऊ में एटीएस ने अल-कायदा के 2 आतंकियों को गिरफ्तार कर बड़े हमले की साजिश को नाकाम कर दिया. इस सफलता पर गर्व करने की बजाय पूर्व मुख्यमंत्री ने सवाल उठाकर उत्तर प्रदेश पुलिस को अपमानित किया है. अखिलेश जी बताएं उनके लिए देश की सुरक्षा महत्वपूर्ण है या तुष्टिकरण की राजनीति?"

वैसे यह कोई पहला मामला नहीं है. वैसे तो पक्ष-विपक्ष में बयानों को लेकर घमासान चलता रहता है, लेकिन अखिलेश यादव के बयान से कुछ ऐसे हालात पैदा हो जाते हैं जैसे लगता है वे सेल्फ गोल कर रहे हैं. पिछले समय के दो उदाहरण इसी ओर इशारा कर रहे हैं.

कोरोना वैक्सीन पर दिया गया बयान
कोरोना वैक्सीन लगवायेंगे या नहीं, इस सवाल के जवाब में अखिलेश यादव ने कहा कि वे बीजेपी की वैक्सीन नहीं लगावायेंगे. कुछ हफ्तों तक उनके इस बयान पर राजनीति होती रही लेकिन, मामला सिर के बल तब खड़ा हो गया, जब मुलायम सिंह यादव ने वैक्सीन लगवा ली. सोशल मीडिया पर इसे लेकर अखिलेश को घेरा जाने लगा. यूपी में डिप्टी सीएम केशव प्रसाद मौर्या ने ट्वीट करके अखिलेश पर निशाना साधा और कहा कि सपा संरक्षक व पूर्व मुख्यमंत्री मुलायम सिंह यादव जी स्वदेशी वैक्सीन लगवाने के लिए आपका धन्यवाद. आपके द्वारा वैक्सीन लगवाना इस बात का प्रमाण है कि सपा के राष्ट्रीय अध्यक्ष अखिलेश जी द्वारा वैक्सीन को लेकर अफवाह फैलाई गयी थी. इसके लिए अखिलेश जी को माफी मांगनी चाहिए."

वैक्सीन पर अखिलेश को लेना पड़ा U-Turn
आखिर में अखिलेश यादव को कुछ यूं U-Turn लेना पड़ा. उन्होंने 8 जून को ट्वीट करके कहा - जनाक्रोश को देखते हुए आख़िरकार सरकार ने कोरोना के टीके के राजनीतिकरण की जगह ये घोषणा करी कि वो टीके लगवाएगी. हम बीजेपी के टीके के खिलाफ थे पर ‘भारत सरकार’ के टीके का स्वागत करते हुए हम भी टीका लगवाएंगे व टीके की कमी से जो लोग लगवा नहीं सके थे उनसे भी लगवाने की अपील करते हैं.

रवि किशन पर लोकसभा में दिया गया बयान 
23 जुलाई 2019 को अखिलेश यादव ने लोकसभा में बोलते हुए कहा कि बड़े पैमाने पर कलाकारों को यूपी सरकार ने उनके सीएम रहते यश भारती पुरस्कार दिया. पुरस्कार प्राप्त करने वाले कलाकारों का नाम गिनाते हुए उन्होंने बीजेपी के सांसद और कलाकार रवि किशन का भी नाम ले लिया. अखिलेश के बोलने के तुरंत बाद रवि किशन ने लोकसभा में ही इसका खण्डन कर दिया. उन्होंने कहा कि उन्हें सपा सरकार में कोई यश भारती पुरस्कार नहीं मिला है और ना ही इससे जुड़ी कोई धनराशि उन्हें मिली है. अखिलेश यादव आजमगढ़ जबकि रवि किशन गोरखपुर से सांसद हैं.

जाहिर है अखिलेश यादव के संदिग्ध आतंकियों पर दिये गये बयान से राजनीति और तेज होगी क्योंकि यूपी में विधानसभा के चुनाव आने वाले हैं. अब देखना दिलचस्प होगा कि खुद अखिलेश यादव या उनकी पार्टी आतंकियों पर दिये इस ताजा बयान पर कैसे बचाव करती है.

पढ़ें Hindi News ऑनलाइन और देखें Live TV News18 हिंदी की वेबसाइट पर. जानिए देश-विदेश और अपने प्रदेश, बॉलीवुड, खेल जगत, बिज़नेस से जुड़ी News in Hindi.

हमें FacebookTwitter, Instagram और Telegram पर फॉलो करें.

विज्ञापन
विज्ञापन

विज्ञापन

टॉप स्टोरीज