UP Panchayat Chunav 2021: आम आदमी पार्टी ने जिला पंचायत के लिए जारी की प्रत्‍याशियों की पहली सूची

आम आदमी पार्टी  जिला पंचायत सदस्यों की पहली लिस्ट

आम आदमी पार्टी जिला पंचायत सदस्यों की पहली लिस्ट

UP Panchayat Chunav 2021: राजधानी लखनऊ स्थित आम आदमी पार्टी के मुख्यालय पर राज्यसभा सांसद और यूपी प्रभारी संजय सिंह ने गुरुवार को जिला पंचायत सदस्य पद के लिए 500 प्रत्याशियों की पहली सूची जारी की.

  • Share this:
लखनऊ. दिल्ली की तर्ज पर उत्‍तर प्रदेश में भी अपनी पैठ बनाने के लिये आम आदमी पार्टी (AAP) इन दिनों अपने स्तर से हर संभव प्रयास करती नजर आ रही है. यूपी में भी साल 2022 का विधानसभा चुनाव (UP Assembly Elections 2022) लड़ने का ऐलान करने वाली आम आदमी पार्टी अब अपने पक्ष में माहौल बनाने के लिये पहली बार यूपी का पंचायत चुनाव (UP Panchayat Chunav 2021) भी लड़ने जा रही है. इसी क्रम में गुरुवार को आम आदमी पार्टी ने प्रदेश में सबसे पहले जिला पंचायत सदस्य पद पर अपने समर्थित प्रत्याशियो की पहली सूची जारी कर दी है और साथ ही आम आदमी से जुड़े विभिन्न मुद्दों को लेकर योगी सरकार पर जमकर निशाना साधा है.

राजधानी लखनऊ स्थित AAP के मुख्यालय पर राज्यसभा सांसद और यूपी प्रभारी संजय सिंह ने गुरुवार को जिला पंचायत सदस्य पद के लिये अपने 500 प्रत्याशियों की पहली सूची जारी की. इस दौरान संजय सिंह ने कहा कि पिछले 6 माह से AAP प्रदेश के ग्रामीण इलाकों में लगातार अपने संगठन का विस्तार कर रही है. हर जिले और विधानसभा में बैठक कर जिला पंचायत के चुनाव को लेकर हमने अपनी पूरी तैयारी कर ली है. हमने अपने जिला पंचायत सदस्य पद के लिये पहली सूची जारी की है. जल्द ही हम प्रदेश की सभी करीब 3 हजार जिला पंचायत पद की सीटों पर अपने प्रत्याशियों की सूची जारी करेंगे.

पंचायत चुनाव के जरिये हर गांव में पहुंचेगा केजेरीवाल मॉडल 

आप नेता संजय सिंह ने बताया कि ‘इस पंचायत चुनाव के पीछे हमारा पहला मकसद पंचायतों से जुड़ी सड़क, बिजली, पानी की समस्याओं के समाधान के साथ सबसे अहम मकसद 2022 के विधानसभा चुनाव से पहले दिल्ली की केजरीवाल सरकार के कार्यों और उपलब्धियों की जानकारी यूपी के हर गांव तक पहुंचाना है. दिल्ली की केजरीवाल सरकार की जो फ्री बिजली, फ्री पानी, फ्री चिकित्सा और फ्री शिक्षा का मॉडल है, उसे हम गांव-गांव तक पहुंचाएंगे. अगर 2022 में आप आपना सपना पूरा करना चाहते हैं तो आपको केजरीवाल मॉडल के ऊपर अपनी मुहर लगाईये. हम 2022 के विधानसभा चुनाव और मौजूदा पंचायत चुनाव दोनों के लिये लोगों से अपील करेंगे.’
पंचायत चुनाव के इतिहास में पहली बार प्रचार के लिये मिले सिर्फ 5 दिन

संजय सिंह ने राज्य निर्वाचन आयोग के भी कुछ फैसलो पर सवाल उठाते हुए कहा कि कि यूपी के इतिहास में ये पहला पंचायत चुनाव होगा, जिसमें सिंबल मिलने के बाद प्रचार के लिये सिर्फ 5 दिन दिये गये है. ऐसे में कैसे कोई चुनाव लड़ा जाएगा? जिला पंचायत सदस्य के क्षेत्र में करीब 20-20 गांव होते है. 50 से 60 हजार मतदाता होते है. ऐसे में प्रत्याशी कैसे अपनी पूरा क्षेत्र इतने कम समय में कवर कर पायेगा? ऐसे में पैसे वाले प्रत्याशी तो अखबारो में प्रचार कराकर अपना प्रचार कर सकते है, लेकिन जो आर्थिक रूप से कमजोर या गरीब प्रत्याशी है, आखिर वो इतने कम समय में घर-घर जाकर कैसे अपने सिंबल या अपने नाम का प्रचार कर चुनाव जीत पायेंगे. निर्वाचन आयेग के इस फैसले से ऐसे प्रत्याशियों के सामने एक बड़ी समस्या खड़ी हो गई है.

तमिलनाडु, केरल और बंगाल में बीजेपी दिखा रही काला जादू



अंत में आप नेता संजय सिंह ने योगी सरकार और मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ पर निशाना साधते हुए कहा कि योगी सरकार को जनता ने 325 सीटे दी है. आप को रोजगार देने चाहिए. आप फ्री बिजली के बारे में सोचिए. आप गन्ना किसानों के बकाये का भुगतान के बारे में सोचिए. 2, 5, 9 रूपये का कर्ज माफकर किसानों का अपमान किया गया. तमिलनाडु, बंगाल और केरल में जाकर काला जादू दिखाया जा रहा है. बंगाल में काला जादू दिखाने के बजाय महाराज जी को उत्तर प्रदेस की चिंता करनी चाहिए. बहुत सत्यानाश हो चुका है. तंगदिली से काम मत कीजिए. आप दलितों, मुसलमानों और ब्राह्मणों के खिलाफ नफरत से भरे हुए है. ये कैसा वासुधैव कुटुंबकम् है?
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज