UP Panchayat Chunav Results 2021: दो बार सांसद रहीं BJP प्रत्‍याशी की करारी शिकस्‍त, सपा समर्थित ने मारी बाजी

यूपी में जिला पंचायत चुनाव में भाजपा और सपा की टक्‍कर चल रही है.

यूपी में जिला पंचायत चुनाव में भाजपा और सपा की टक्‍कर चल रही है.

UP Panchayat Chunav Results 2021: यूपी पंचायत चुनाव के नतीजे आने का सिलसिला जारी है. इस दौरान भाजपा और समाजवादी पार्टी में जोरदार टक्‍कर देखने को मिल रही है. वहीं, लखनऊ जिला पंचायत अध्‍यक्ष की सीट पर काबिज होने की उम्‍मीद से उतरीं भाजपा प्रत्‍याशी रीना चौधरी को हार का सामना करना पड़ा है. वह मोहनलालगंज सीट से सपा से दो बार सांसद रह चुकी हैं.

  • Share this:
लखनऊ. उत्तर प्रदेश में पिछले महीने चार चरणों में हुए पंचायत चुनाव की मतगणना का सिलसिला अभी जारी है. इस बीच यूपी पंचायत चुनाव को लेकर कई जिलों से हैरान करने वाले नतीजे (UP Panchayat Chunav Results 2021) सामने आ रहे हैं. उत्‍तर प्रदेश की राजधानी लखनऊ की मोहनलालगंज सीट से दो बार सांसद रहीं भाजपा प्रत्‍याशी रीना चौधरी (Reena Chaudhary) को जिला पंचायत चुनाव में करारी हार का सामना करना पड़ा है. चौधरी को समाजवादी पार्टी समर्थित पलक रावत ने वार्ड 15 से शिकस्‍त देकर सबको चौंका दिया है.

बता दें कि दो बार सांसद रह चुकीं रीना चौधरी पहले समाजवादी पार्टी में थीं और फिर भाजपा का दामन थाम लिया. हालांकि उन्‍हें जिला पंचायत चुनाव में अपनी पुरानी पार्टी की प्रत्‍याशी से हार का सामना करना पड़ा है.

रीना चौधरी को 2099 वोट से मिली हार

जिला पंचायत के वार्ड नंबर 18 से सपा समर्थित प्रत्‍याशी पलक रावत को 8834 वोट मिले, तो भाजपा की प्रत्‍याशी रीना चौधरी के हिस्‍से 6735 वोट आए. इस तरह दो बार सांसद रह चुकीं भाजपा प्रत्‍याशी को 2099 वोट के अंतर से शिकस्‍त खानी पड़ी. दरअसल, जिला पंचायत अध्‍यक्ष की सीट इस बार एसी महिला के लिए आरक्षित थी और भाजपा उम्‍मीदवार को ये चुनाव जीतकर अध्‍यक्ष बनने की उम्‍मीद थी, लेकिन सपा समर्थित पलक रावत ने उनकी उम्‍मीदों पर पानी फेर दिया है.
बता दें कि लखनऊ में जिला पंचायत सदस्‍य के कुल 25 पद हैं, जिसके लिए भाजपा और समाजवादी पार्टी में कांटे का मुकाबला जारी है. हालांकि मोहनलालगंज से सपा विधायक अम्‍बरीश पुष्‍कर ने शासन पर मतगणना के दौरान गड़बड़ी का आरोप लगाया है. उन्‍होंने कहा कि अगर सही नतीजे सामने नहीं आए तो सपा पार्टी धरना प्रदर्शन के लिए मजबूर होगी.

बहरहाल आयोग ने अधिकृत रूप से अभी जिला पंचायत सदस्य के 181 पदों पर ही परिणाम घोषित किया है, लेकिन भारतीय जनता पार्टी ने जिला पंचायत सदस्य की 918 सीटें जीतने और 557 सीटों पर निर्णायक बढ़त का दावा किया है. वहीं, समाजवादी पार्टी ने शासन द्वारा अपने प्रत्याशी को जीत का प्रमाण नहीं दिए जाने का आरोप लगाया है.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज