UP Panchayat Election: दूसरे चरण के 20 जिलों में 2 लाख 33 हजार 616 प्रत्याशी मैदान में

यूपी पंचायत चुनाव में दूसरे चरण की नामांकन प्रक्रिया भी पूरी हो चुकी है.

यूपी पंचायत चुनाव में दूसरे चरण की नामांकन प्रक्रिया भी पूरी हो चुकी है.

UP Panchayat Election Second Phase: यूपी पंचायत चुनाव के दूसरे चरण में मुजफ्फरनगर, बागपत, गौतमबुद्ध नगर, बिजनौर, अमरोहा, बदायूं, एटा, मैनपुरी, कन्नौज, इटावा, ललितपुर, चित्रकूट, प्रतापगढ़, लखनऊ, लखीमपुर खीरी, सुल्तानपुर, गोंडा, महाराजगंज, वाराणसी और आजमगढ़ जिले शामिल हैं.

  • News18Hindi
  • Last Updated: April 10, 2021, 7:57 AM IST
  • Share this:
लखनऊ. उत्तर प्रदेश में पंचायत चुनाव (UP Panchayat Election) के दूसरे चरण (Second Phase) का नामांकन (Nomination) पूरा हो चुका है. राज्य निर्वाचन आयोग (State Election Commission) ने इसके आंकड़े जारी किए हैं. निर्वाचन आयोग के अनुसार प्रदेश के 20 जिलों में सभी पदों पर 2 लाख 33 हज़ार 616 उम्मीदवार मैदान में हैं. इनमें 787 जिला पंचायत वार्ड के लिए 8024 प्रत्याशी मैदान में हैं. वहीं 19653 क्षेत्र पंचायत वार्ड सदस्य के लिए 56874 प्रत्याशी मैदान में हैं. इसी तरह से 14897 प्रधान पद से लिये 99404 प्रत्याशी किस्मत आजाम रहे हैं. वहीं 187781 ग्राम पंचायत वार्ड सदस्यों के लिए 69314 पद पर नामांकन हुए हैं.

आयोग के अनुसर नामांकन पत्रों की जांच शनिवार तक होगी. 11 अप्रैल तक प्रत्याशी अपना नामांकन वापस ले सकेंगे. दूसरे चरण में जिन जिलों में चुनाव होना है, उनमें मुजफ्फरनगर, बागपत, गौतमबुद्ध नगर, बिजनौर, अमरोहा, बदायूं, एटा, मैनपुरी, कन्नौज, इटावा, ललितपुर, चित्रकूट, प्रतापगढ़, लखनऊ, लखीमपुर खीरी, सुल्तानपुर, गोंडा, महाराजगंज, वाराणसी और आजमगढ़ शामिल हैं.

कई जगह प्रधान तो चुना जाएगा लेकिन ग्राम पंचायतों का गठन नहीं जानिए क्यों

वैसे चौंकाने वाली बात ये रही कि 187781 ग्राम पंचायत वार्ड सदस्यों के लिए महज 69314 पदों पर ही नामांकन किया गया. यानी 118467 पदों पर किसी ने दिलचस्पी ही नही दिखाई. अब निर्वाचन आयोग को इन पदों के लिए उपचुनाव करवाने होंगे. कई ऐसी भी ग्राम पंचायत हैं, जहा अधिकांश वार्ड पर ग्राम पंचायत सदस्य के पदों पर नामांकन ही नहीं हुए हैं. ऐसे में इन ग्राम पंचायतों का गठन लटक गया है क्योंकि जब तक दो तिहाई ग्राम पंचायत सदस्य नहीं होंगे, वहां भले ही ग्राम प्रधान चुन लिया गया हो लेकिन वह पद पर आसीन नहीं हो सकता.
बिना लड़े ही जीते कई उम्मीदवार

बता दें इससे पहले प्रथम चरण में भी 77589 पदों के लिए नामांकन दाखिल नहीं हुए थे. इसके बाद 1505 का नामांकन रद्द हुआ और 206 उम्मीदवारों ने नामांकन वापस ले लिया, जिसके बाद अब महज एक लाख 7283 प्रत्याशी ही मैदान में हैं. गौर करने वाली बात ये है कि बड़ी संख्या में ऐसे प्रत्याशी इस बार हें जो निर्विरोध ही चुन लिए जाएंगे.

पहले चरण में 18 जिलों में कई ऐसे उम्मीदवार हैं, जो बिना लड़े जीतेंगे. इनमें एक जिला पंचायत सदस्य, 550 क्षेत्र पंचायत सदस्य, 85 ग्राम प्रधान और 69541 ग्राम पंचायत सदस्य निर्विरोध विजेता घोषित हो गए हैं.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज