UP Panchayat Chunav: चुनाव में 'पंचायत से पार्लियामेंट तक' के नारे पर खरा उतरने के लिए भाजपा ने लगाया दम, जानें प्‍लान

भाजपा ने पंचायत चुनाव के सहारे अपना बूथ मजबूत किया है.  (सांकेतिक तस्वीर)

भाजपा ने पंचायत चुनाव के सहारे अपना बूथ मजबूत किया है. (सांकेतिक तस्वीर)

UP Panchayat Election 2021: बीजेपी (BJP) ने पंचायत से पार्लियामेंट तक की टैगलाइन को सही साबित करने के लिए पूरा दम लगा रखा है. जबकि यूपी पंचायत चुनाव प्रभारी विजय बहादुर पाठक (Vijay Bahadur Pathak) ने कहा कि हमारा मकसद कार्यकर्ताओं की नेतृत्व क्षमता को विकसित करना है.

  • Share this:
लखनऊ. भारतीय जनता पार्टी (BJP) 2014 के लोकसभा चुनाव के बाद से लगातार अपनी जीत की रफ्तार लगभग कायम रखे हुए है. उत्तर प्रदेश में पहली बार पंचायत चुनाव (UP Panchayat Elections) में अपने अधिकृत प्रत्याशियों को उतारकर बीजेपी ने ये संदेश देने की कोशिश की है कि ये टैगलाइन (पंचायत से पार्लियामेंट तक) उनके नेताओं ने यूं ही नहीं दी है. बीजेपी के यूपी पंचायत चुनाव प्रभारी विजय बहादुर पाठक (Vijay Bahadur Pathak) ने कहा,'इस टैगलाइन के पीछे उद्देश्य है कि पंचायत से पार्लियामेंट तक भारतीय जनता पार्टी का कार्यकर्ता नेतृत्व करता हुआ दिखे. उसी क्रम में इस बार पंचायत चुनाव में पार्टी ने उत्तर प्रदेश में सहभागिता की है.'

इसके अलावा यूपी पंचायत चुनाव प्रभारी विजय बहादुर पाठक ने कहा कि कार्यकर्ताओं ने स्थानीय स्तर पर कोरोनाकाल में कोविड गाइडलाइन का पालन करते हुए अथक परिश्रम किया है, जिसका परिणाम भी सुखद रहेगा.

बीजेपी को मिलता नजर आ रहा है फायदा

वरिष्ठ पत्रकार अनिल भारद्वाज कहते हैं कि बीजेपी का इस टैगलाइन का फायदा भी मिलता नजर आ रहा है. उनकी मानें तो बीजेपी की जीत हार से ज्यादा हर बूथ पर कार्यकर्ताओं की टीम तैयार कर लेना आने वाले विधानसभा चुनाव की नींव तैयार करने जैसा है. जहां दूसरे दल केवल पंचायत चुनाव के लिहाज से लगे थे, वहीं बीजेपी संगठनात्मक तैयारी के बदौलत अधिकृत प्रत्याशी उतारकर कार्यकर्ताओं को जागृत कर पा रही है. बीजेपी इससे ये भी अंदाजा लगाएगी कि किस बूथ पर उनकी कितनी पकड़ है. पंचायत चुनाव का परिणाम चाहे जो हो लेकिन इस कोरोनाकाल में विपक्षी दलों के संगठनों में छाई उदासीनता से अलग बीजेपी अपने सबसे निचले कार्यकर्ता को जगाने में तो जरूर सफल रही और इस तरह पंचायत से पार्लियामेंट तक के टैगलाइन की सफलता भी इसी में है.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज