Kanpur Shootout: पुलिसवालों की हत्या, विकास दुबे की फरारी और सरेंडर, 10 प्‍वाइंट में जानें कब-कब क्या हुआ
Ujjain News in Hindi

Kanpur Shootout: पुलिसवालों की हत्या, विकास दुबे की फरारी और सरेंडर, 10 प्‍वाइंट में जानें कब-कब क्या हुआ
विकास दुबे उज्जैन में गिरफ्तार हो गया है.

7 दिन तक यूपी पुलिस (UP Police) नेपाल, हरियाणा, दिल्ली, राजस्थान की खाक छानती रही, आखिरकार मध्य प्रदेश में विकास दुबे (Vikas Dubey) मिला. इस सर्च अभियान के दौरान यूपी पुलिस ने ताबड़तोड़ एनकाउंटर में विकास दुबे के 5 साथी मार गिराए.

  • Share this:
लखनऊ: उत्तर प्रदेश (Uttar Pradesh) के कानपुर (Kanpur) में विकरू गांव में 8 पुलिसवालों की हत्या कर फरार गैंगस्टर विकास दुबे (Gangster Vikas Dubey) ने मध्य प्रदेश के उज्जैन (Ujjain) में सरेंडर कर दिया है. 7 दिन की फरारी की बाद विकास दुबे अब सलाखों के पीछे है. यूपी पुलिस उसे लेने के लिए मध्य प्रदेश रवाना हो चुकी है. 2/3 जुलाई की रात हुई इस घटना ने पूरी यूपी सरकार को हिलाकर रख दिया था. विकास दुबे के इस दुस्साहस से सभी भौंचक्के रह गए थे.

7 दिन तक यूपी पुलिस ने प्रदेश के साथ ही नेपाल, हरियाणा, दिल्ली, राजस्थान की खाक छानी और आखिरकार मध्य प्रदेश में विकास दुबे मिला. इस सर्च अभियान के दौरान यूपी पुलिस ने ताबड़तोड़ एनकाउंटर भी किए, जिसमें विकास दुबे के 5 साथी मार गिराए गए. यही नहीं उसके कई साथियों को गिरफ्तार भी किया गया. अभी भी पुलिस को विकास दुबे के अन्य साथियों की तलाश है, वहीं घटना के बाद पुलिस से लूटी गई 3 पिस्टल तो यूपी पुलिस अब तक बरामद कर चुकी है लेकिन एके-47 और एक इंसास रायफल की खोज जारी है.





पुलिसकर्मियों का अपराध से गठजोड़ उजागर
वैसे इस पूरे कांड ने अपराधियों के साथ राजनेताओं और पुलिसकर्मियों के गठजोड़ को भी उजागर किया. मामले में एक एसओ और एक चौकी प्रभारी गिरफ्तार हैं, वहीं दर्जनों पुलिसकर्मी लाइन हाजिर किए गए हैं. पूरा चौबेपुर थाना बदला जा चुका है.

कानपुर शूटआउट केस में कब क्या-क्या हुआ?
कानपुर में 2 जुलाई को विकास दुबे को गिरफ्तार करने 3 थानों की पुलिस ने बिकरू गांव में दबिश दी, विकास की गैंग ने 8 पुलिसकर्मियों की हत्या कर दी. 6 पुलिसकर्मी घायल हो गए, 1 अन्य शख्स भी घायल हुआ.
3 जुलाई को पुलिस ने सुबह 7 बजे विकास के मामा प्रेमप्रकाश पांडे और सहयोगी अतुल दुबे को एनकाउंटर में मार गिराया. पूरे केस में 20-22 नामजद समेत 60 लोगों के खिलाफ एफआईआर दर्ज की गई. विकास पर 2.5 लाख, अमर पर 25 हजार और दूसरे लोगों पर 18-18 हजार रुपए का इनाम घोषित किया गया. विकास दुबे का विकरू गांव स्थित मकान गिराया गया. विकास दुबे के नेपाल भागने की सूचना आती है, एक टीम रवाना की जाती है
कानपुर कांड को लेकर यूपी के पुलिसवालों की भूमिका पर सवाल उठते हैं. 4 जुलाई को कई पुलिसकर्मियों पर कार्रवाई शुरू होती है.
पुलिस ने 5 जुलाई को विकास के नौकर और खास सहयोगी दयाशंकर उर्फ कल्लू अग्निहोत्री को घेर लिया. पुलिस की गोली लगने से दयाशंकर जख्मी हो गया. उसने खुलासा किया कि विकास ने पहले से प्लानिंग कर पुलिसकर्मियों पर हमला किया था.
6 जुलाई को पुलिस ने अमर की मां क्षमा दुबे और दयाशंकर की पत्नी रेखा समेत 3 को गिरफ्तार किया. शूटआउट की घटना के वक्त पुलिस ने बदमाशों से बचने के लिए क्षमा दुबे का दरवाजा खटखटाया था, लेकिन क्षमा ने मदद करने की बजाय बदमाशों को पुलिस की लोकेशन बता दी. रेखा भी बदमाशों की मदद कर रही थी.
7 जुलाई को फरीदाबाद में विकास दुबे का सीसीटीवी फुटेज सामने आया. इसमें वह ऑटो पकड़ता दिखा. उसकी 3 सहयोगियों को फरीदाबाद से गिरफ्तार किया गया. गिरफ्तार होने वालों में कार्तिकेय उर्फ प्रभात, अंकुर, और अंकुर के पिता श्रवण के नाम शामिल हैं.
 कानपुर के चौबेपुर थाने में तैनात सभी पुलिसकर्मियों को लाइनहाजिर किया गया, उनकी मोबाइल कॉल डिटेल की भी जांच शुरू.
यूपी एसटीएफ ने 8 जुलाई को विकास के करीबी अमर दुबे को मार गिराया. विकास दुबे पर इनाम की राशि बढ़ाकर 5 लाख की गई. विकास दुबे गैंग का मेम्बर श्यामू बाजपेयी एनकाउंटर में गिरफ्तार किया गया. पुलिस ने 25 हजार का इनाम घोषित कर रखा था. मुखबिरी के आरोप में चौबेपुर के एसओ विनय तिवारी और चौकी प्रभारी केके शर्मा निलंबित किए गए. पूरे चौबेपुर थाने को बदला गया, यहां 55 नए पुलिसकर्मी तैनात किए गए
विकास दुबे के दो साथी प्रभात मिश्रा और बव्वन 9 जुलाई को पुलिस मुठभेड़ में ढेर. प्रभात मिश्रा को पुलिस ने फरीदाबाद से पकड़ा था वो भागने की कोशिश में मारा गया. इटावा में पुलिस ने प्रवीण उर्फ़ बव्वन दुबे को पुलिस ने एनकाउंटर में मार गिराया.
मध्य प्रदेश के उज्जैन में स्थित महाकाल मंदिर में गैंगस्टर विकास दुबे ने किया सरेंडर.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज

corona virus btn
corona virus btn
Loading