लाइव टीवी

योगी सरकार का 'ऑपरेशन शूटआउट', ढाई साल में 94 वॉन्टेड अपराधी ढेर

News18Hindi
Updated: September 7, 2019, 9:24 AM IST
योगी सरकार का 'ऑपरेशन शूटआउट', ढाई साल में 94 वॉन्टेड अपराधी ढेर
योगी सरकार का ऑपरेशन शूटआउट

यूपी के प्रमुख सचिव गृह अवनीश अवस्थी के अनुसार, योगी सरकार ने अपराध नियंत्रण और संगठित अपराध पर रोक लगाने में सफलता हासिल की है. पिछले ढाई साल में राज्य में कोई भी सांप्रदायिक दंगा नहीं हुआ और सभी पर्व शांतिपूर्वक मनाए गए हैं.

  • News18Hindi
  • Last Updated: September 7, 2019, 9:24 AM IST
  • Share this:
लखनऊ. 19 सितंबर को योगी आदित्यनाथ (Yogi Adityanath) सरकार के कार्यकाल के ढाई वर्ष पूरे हो रहे हैं. आंकड़ों के मुताबिक, उनके कार्यकाल के दौरान अब तक उत्तर प्रदेश (Uttar Pradesh) में 4,458 पुलिस एनकाउंटर (Police Encounter) हुए हैं. इन मुठभेड़ों में अब तक 94 अपराधी ढेर हुए हैं, जबकि 4 पुलिसकर्मी भी शहीद हुए हैं. इस दौरान पुलिस ने 9,833 अपराधियों को गिरफ्तार किया है. इसके अलावा वर्ष 2018 में डकैती, बलात्कार, हत्या, अपहरण, लूट जैसे अपराधों में उल्लेखनीय कमी आयी है. सरकार ने डकैती में 42.63 प्रतिशत, बलात्कार में 7.63 प्रतिशत, हत्या में 7.08 प्रतिशत, लूट में 22.1 प्रतिशत और फिरौती-अपहरण में 30.43 प्रतिशत की कमी का दावा किया है.

संगठित अपराध में आई कमी-प्रमुख सचिव गृह

यूपी के प्रमुख सचिव गृह अवनीश अवस्थी के अनुसार, योगी सरकार ने अपराध नियंत्रण और संगठित अपराध पर रोक लगाने में सफलता हासिल की है. उन्होंने कहा कि पिछले ढाई साल में राज्य में कोई भी सांप्रदायिक दंगा नहीं हुआ और सभी पर्व शांतिपूर्वक मनाए गए हैं. बता दें कि योगी आदित्यनाथ (Yogi Adityanath) सरकार के 19 सितंबर को ढाई साल पूरे हो रहे हैं. इस अवसर पर भव्य समारोह आयोजित करने की योजना बनाई जा रही है. वहीं पुलिस महानिदेशक (डीजीपी) ओ.पी सिंह ने कहा कि पूर्ववर्ती सरकारों के कार्यकाल के मुकाबले मौजूदा सरकार के समय अपराध कम हुए हैं.

पुलिस में बढ़ा जनता का भरोसा- यूपी DGP

पुलिस बल के काम गिनाते हुए ओ.पी सिंह ने कहा कि ऑपरेशन मुस्कान के तहत हो रही कार्रवाई के कारण लापता बच्चे सकुशल वापस अपने घर पहुंच पा रहे हैं. आत्मरक्षा से जुड़े अभियान के तहत महिलाओं को मजबूत किया जा रहा है. ऑपरेशन डेस्ट्राय के तहत अश्लील साहित्य को नष्ट किया गया है. उन्होंने बताया कि पुलिस में जनता का भरोसा बढ़ा है. पुलिस कार्रवाई के चलते अपराधी जमानत नहीं ले रहे हैं और वापस जेलों में जा रहे हैं.

1997 में हुई पहली मुठभेड़
बता दें कि पूर्वी उत्‍तर प्रदेश के गोरखपुर का 25-26 साल का शार्प-शूटर और ‘सुपारी किलर’ श्रीप्रकाश शुक्ला से पुलिस की पहली मुठभेड़ 9 सितंबर, 1997 को लखनऊ के जनपथ मार्केट में हुई थी. इस मुठभेड़ में श्रीप्रकाश शुक्ला पुलिस के हत्थे नहीं चढ़ पाया था. मगर इसमें एक सिपाही शहीद हो गया था.
Loading...

सीएम बनते ही योगी ने दिए थे आदेश

मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ पहले भी कह चुके हैं कि पुलिस को अपराधियों से निपटने के लिए पूरे अधिकार दिए जाएंगे. इसमें चाहे अपराधियों को राज्य छोड़ने के लिए कहा जाए या सरेंडर करने के लिए. इसके बाद पुलिस ने ऑपरेशन क्लीन और कुख्यात अपराधियों से निपटने के लिए ऑपरेशन चलाया था.

ये भी पढ़ें:

एक्शन में CM योगी, 7 लोगों की मौत पर कुशीनगर के CMO को किया सस्पेंड

 सपा सांसद आज़म खान की पत्नी पर ठोका 30 लाख का जुर्माना, ये रही वजह

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए लखनऊ से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: September 7, 2019, 8:43 AM IST
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...