Uttar Pradesh News: यूपी में डाक विभाग को हो गया 20 लाख रुपए का नुकसान, जानें कैसे

डाक विभाग की सारी सेवाएं पिछले 20 दिनों से बंद है.

डाक विभाग की सारी सेवाएं पिछले 20 दिनों से बंद है.

Uttar Pradesh News: यूपी में फैसिलिटी आईडी प्रॉफिट सेंटर को अपडेट नहीं कर पाया है, जिसकी वजह से स्पीड पोस्ट रजिस्ट्री पार्सल इलेक्ट्रॉनिक मनी ऑर्डर जैसी 20 दिनों से सेवाएं बंद है और डाक विभाग को लगभग 20 लाख रुपए से ज्यादा का नुकसान हो चुका है.

  • Share this:
उत्‍तर प्रदेश में मुख्य डाकघर तेतरी बाजार को प्रधान डाकघर सिद्धार्थनगर में बदलने से जिले भर में प्रधान डाकघर 20 उप डाकघर एवं 255 शाखाओं पर डाक विभाग की सारी सेवाएं पिछले 20 दिनों से बंद है. मेन ब्रांच मैसूर ऑफिस अभी तक जिले की सेवाएं संचालित करने के लिए फैसिलिटी आईडी प्रॉफिट सेंटर को अपडेट नहीं कर पाया है, जिसकी वजह से स्पीड पोस्ट रजिस्ट्री पार्सल इलेक्ट्रॉनिक मनी ऑर्डर जैसी 20 दिनों से सेवाएं बंद है और डाक विभाग को लगभग 20 लाख रुपए से ज्यादा का नुकसान हो चुका है.

1 अप्रैल से मुख्य डाकघर तेतरी बाजार को प्रधान डाकघर सिद्धार्थनगर में बदलना था तभी से लोगों को दिक्कतों का सामना करना पड़ रहा है. डाक विभाग ने जिला मुख्यालय के तेतरी बाजार को मुख्य डाकघर अपग्रेड करते हुए 1 अप्रैल को प्रधान डाकघर सिद्धार्थनगर में तब्दील कर दिया था. इसकी वजह से अकाउंट सेक्शन पोस्टल, लाइफ इंश्योरेंस, ग्रामीण डाक जीवन बीमा भुगतान, जमा नियंत्रण सर्विस बुक एवं कंट्रोल इंफॉर्मेशन जैसी सुविधाएं उपलब्ध कराई गई. इसके अलावा 20 उप डाकघर जो पहले से बांसी से संचालित होती थी उन्हें भी मुख्य डाकघर से अटैच किया गया. इन सुविधाओं को बेहतर तरीके से संचालित करने के लिए फैसिलिटी आईडी और प्रॉफिट सेंटर सॉफ्टवेयर का अपडेट होना जरूरी है, जो पिछले 20 दिनों से नहीं हो पाया.

क्या फैसिलिटी आईडी और प्रॉफिट सेंटर

फैसिलिटी आईडी एक प्रकार का सॉफ्टवेयर है जिससे डाक विभाग का सिस्टम चलता है और प्रॉफिट सेंटर पैसे के लेनदेन का सॉफ्टवेयर है, जिससे ऑनलाइन ट्रांजेक्शन जैसे लाइफ इंश्योरेंस मनी ऑर्डर एवं एफडी से जुड़े पैसों का लेन-देन का हिसाब रखा जाता है.
डाकघर की सेवाएं बंद होने से स्पीड पोस्ट रजिस्ट्री पार्सल इलेक्ट्रॉनिक मनी ऑर्डर की सेवाएं उपभोक्ताओं को नहीं मिल पा रही है. इन सेवाओं से मिलने वाले लगभग 1 लाख रुपए से ज्यादा प्रतिदिन का नुकसान होता है और उपभोक्ताओं को रजिस्ट्री व पार्सल के लिए प्राइवेट कोरियरों को 3 गुना से ज्यादा पैसा देना पड़ रहा है. वह भी कोविड-19 के समय में जरूरतें सही समय पर पूरी नहीं हो पा रही है. प्रधान डाकघर के पोस्ट मास्टर शिवबालक वर्मा ने बताया कि तेतरी बाजार मुख्य डाकघर के प्रधान डाकघर में तब्दील हो जाने से फैसिलिटी आईडी प्रॉफिट सेंटर अपडेट किया जा रहा है.

यह बदलाव मैसूर से होना है अधिकारियों ने अभी सॉफ्टवेयर अपडेट होने में 1 हफ्ते से ज्यादा समय लगने की बात कही है. फैसिलिटी आईडी अपडेट ना होने से जितना नुकसान डाक विभाग को हो रहा है उससे ज्यादा नुकसान उनके उपभोक्ताओं को हो रहा है जिसकी वजह से जरूरी सामान सही समय पर सही जगह नहीं पहुंच पा रहा है समय के साथ पैसों का भी व्यय हो रहा है.

जिले में डाकघर



प्रधान डाकघर 01

उप डाकघर 20

शाखा 55

उप डाकघर शाखा की संख्या

बढ़नी 08

शोहरतगढ़ 12

उदयराजगंज 08

बर्डपुर 08

शिवपति नगर 16

नौगढ़ 02

उसका बबाजा 12

बांसी 36

दलदला 21

इटवा 23

डुमरियागंज 19

हल्लौर 07

बयारा 07

भनवापुर 09

धर्मसिंहवा (संतकबीर नगर) 13

साथा (संतकबीर नगर) 07

मेहदावल (संतकबीर नगर) 16

बखिरा (संतकबीर नगर) 11

दुधारा (संतकबीर नगर) 20

कुल टोटल 255

अगर फैसिलिटी और प्रॉफिट अपडेट होने में 1 हफ्ते से ज्यादा का समय लग रहा है तो निश्चित रूप से यह नुकसान 30 लाख से ज्यादा का होगा इससे होने वाली परेशानी राजस्व विभाग को तो होगी ही इसके साथ ही उपभोक्ताओं को ही भी इसका खामियाजा भुगतना पड़ेगा.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज