लखनऊ: बीजेपी के राज्य सभा प्रत्याशी करेंगे नामांकन, CM योगी आदित्यनाथ भी रहेंगे मौजूद

मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ (File Photo)
मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ (File Photo)

UP Rajya Sabha Election: बीजेपी के सभी आठों प्रत्याशियों की जीत तय मानी जा रही है. समाजवादी पार्टी की तरफ से प्रो रामगोपाल यादव पहले ही नामांकन कर चुके हैं. उनकी भी जीत तय है. बसपा की तरफ से रामजी गौतम ने भी सोमवार को नामांकन किया है.

  • News18Hindi
  • Last Updated: October 27, 2020, 10:39 AM IST
  • Share this:
लखनऊ. उत्तर प्रदेश (Uttar Pradesh) की रिक्त राज्यसभा (Rajya Sabha Election) की 10 सीटों के लिए मंगलवार को नामांकन (Nomination) का आखिरी दिन है. बीजेपी (BJP) के आठ प्रत्याशी मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ (CM Yogi Adityanath) की उपस्थिति में साढ़े 11 बजे नामांकन करेंगे. इस मौके पर मुख्यमंत्री के अलावा दोनों उप मुख्यमंत्री डॉ दिनेश शर्मा और केशव प्रसाद मौर्य सहित तमाम वरिष्ठ नेता मौजूद रहेंगे. बता दें कि बीजेपी के सभी आठों प्रत्याशियों की जीत तय मानी जा रही है. समाजवादी पार्टी की तरफ से प्रो रामगोपाल यादव पहले ही नामांकन कर चुके हैं. उनकी भी जीत तय है. बसपा की तरफ से रामजी गौतम ने भी सोमवार को नामांकन किया है. हालांकि बसपा के पास 18 वोट ही हैं. इअसे में माना जा रहा है कि बीजेपी ने नौवें प्रत्याशी को न उतारकर बसपा प्रत्याशी का मौन समर्थन कर दिया है. हालांकि आखिरी वक्त में अगर कोई नया नामांकन होता है तो मुकाबला दिलचस्प हो जाएगा.

बीजेपी की तरफ से इन्हें मिला टिकट

वैसे घोषित प्रत्याशियों की सूची में जो आठ नाम हैं, उसमें पार्टी ने जातीय समीकरण का पूरी तरह ख्याल रखा है. सूची में अलग- अलग जातियों से आनेवाली दो महिलाओं के नाम हैं. जौनपुर की सीमा द्विवेदी ब्राम्हण हैं तो औरैया की गीता शाक्य पिछड़े वर्ग से आती हैं. ब्राह्मण समुदाय से हरिद्वार दूबे और सीमा द्विवेदी हैं. वहीं अरुण सिंह और नीरज शेखर ठाकुर समुदाय से हैं. बी.एल.वर्मा और गीता शाक्य पिछड़े वर्ग से हैं. इसी तरह पूर्व डीजीपी बृजलाल एससी हैं और हरदीप सिंह पुरी सिख हैं.



नया नामांकन न होने पर सभी का बसपा प्रत्याशी की भी जीत तय
बीजेपी ने नौवां प्रत्याशी न उतारकर सस्पेंस खड़ा कर दिया है. ऐसे में सवाल उठने लगे हैं कि क्या बीजेपी ने बसपा प्रत्याशी को समर्थन दे दिया है. अगर आज कोई नया नामांकन नहीं होता है तो सभी का निर्विरोध चुना जाना तय माना जा रहा है.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज