Choose Municipal Ward
    CLICK HERE FOR DETAILED RESULTS

    खुशखबरी! ग्राम विकास बैंक से किसानों के बच्‍चों को पढ़ाई के लिए 4 % ब्‍याज पर मिलेगा कर्ज, बस करना होगा ये काम

    राज्‍य में उत्तर प्रदेश सहकारी ग्राम विकास बैंक की 323 शाखाएं हैं.
    राज्‍य में उत्तर प्रदेश सहकारी ग्राम विकास बैंक की 323 शाखाएं हैं.

    किसानों के बच्‍चों को पढ़ाई के लिए 4 प्रतिशत ब्‍याज पर कर्ज (Loan) देने का उत्तर प्रदेश सहकारी ग्राम विकास बैंक ( UP Sahkari Gram Vikas Bank) ने ऐलान किया है. हालांकि इस दौरान सामान्‍य और पिछड़े वर्ग का अधिक ब्‍याज चुकता करनी होगी.

    • Share this:
    लखनऊ. उत्तर प्रदेश सहकारी ग्राम विकास बैंक ( UP Sahkari Gram Vikas Bank) बच्‍चों की पढ़ाई के लिए किसानों को 4 प्रतिशत ब्‍याज पर कर्ज (Loan) देगा. बैंक के सभापति संतराज यादव ने मंगलवार को यह बात कही. उन्होंने कहा कि यह बैंक किसानों की आय दोगुनी करने के प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के संकल्‍प को पूरा करने की दिशा में सक्रिय हैं.

    पिछड़े वर्ग के किसान को 6 प्रतिशत और...
    हाल में उत्तर प्रदेश सहकारी ग्राम विकास बैंक के सभापति चुने गये यादव ने कहा कि सहकारिता आंदोलन के जरिये किसानों को समृद्ध बनाने के लिए वह लगातार पहल कर रहे हैं. ग्राम विकास बैंक सामान्‍य वर्ग के किसानों को खेती के विकास और संसाधनों के लिए 13.50 प्रतिशत, पिछड़े वर्ग के किसान को 6 प्रतिशत और अनुसूचित वर्ग के किसानों को 4 प्रतिशत ब्‍याज पर कर्ज दे रहा है. उन्‍होंने कहा कि आर्थिक अभाव में बच्‍चों की पढ़ाई बाधित हो जाती है. इसलिए उनकी कोशिश है कि सभी वर्ग के किसानों को बच्चों की पढ़ाई के लिए कर्ज मिले. इसके लिए उनके पास सिर्फ अपनी खेती के दस्‍तावेज होने चाहिए.

    इसके अलावा उन्‍होंने कहा कि 2018-19 के ऑडिट में बैंक को ‘सी’ श्रेणी मिलने से कारोबार प्रभावित हुआ है. हालांकि उनका प्रयास है कि 2019-20 की ऑडिट रिपोर्ट में ‘बी’ श्रेणी मिले ताकि बैक को फिर से राष्‍ट्रीय कृषि और ग्रामीण विकास बैंक (नाबार्ड) की गारंटी मिलनी शुरू हो जाए. नाबार्ड की गारंटी मिलने से कर्ज बांटने की क्षमता बढ़ जाएगी.आपको बता दें कि राज्‍य में उत्तर प्रदेश सहकारी ग्राम विकास बैंक की 323 शाखाएं हैं, जिससे अच्‍छी खासी संख्‍या में किसान जुड़े हुए हैं.
    बहरहाल, समाजवादी कुनबे के बीच पिछले चार साल से चली आ रही कलह और भारतीय जनता पार्टी की रणनीति से करीब तीन दशक से उत्तर प्रदेश सहकारी ग्राम विकास बैंक में चला आ रहा मुलायम सिंह यादव परिवार का तिलिस्म टूट गया. वर्ष 1999 में बीजेपी के शासनकाल को छोड़ दें तो 1991 से लेकर अप्रैल 2020 तक इस बैंक पर मुलायम सिंह यादव परिवार का कब्जा रहा या प्रशासक नियुक्त हुए. ऐसा पहली बार है जब बैंक की 323 शाखाओं में से मात्र 19 पर ही विपक्ष काबिज हो सका. कुल दस जगह चुनाव निरस्त और 11 पर निर्वाचन प्रक्रिया नहीं हो सकी. यानी 293 स्थानों पर बीजेपी का परचम फहराया. सहकारिता की सियासत में सिरमौर माने जाने वाले शिवपाल यादव व उनकी पत्नी अपनी सीट बचाने में कामयाब रहीं, लेकिन पूरब से लेकर पश्चिम तक उनके सभी सिपहसलार मैदान में टिके नहीं रह सके. यूपी सहकारी ग्राम विकास बैंक के सभापति और उपसभापति पद पर अब बीजेपी का.कब्जा हो गया है. लखनऊ सहकारी ग्राम्य विकास बैंक के सभापति पद पर संतराज यादव निर्विरोध चुने गए हैं. केपी मलिक भी उपसभापति पद के लिए निर्विरोध चुने गए हैं. दोनों पदों पर बीजेपी का कब्जा हुआ. अब तक शिवपाल यादव सहकारी ग्राम्य विकास बैक के सभापति थे.
    अगली ख़बर

    फोटो

    टॉप स्टोरीज