vidhan sabha election 2017

देश में पहली बार Bitcoin की ट्रेडिंग के नाम पर ठगी का पर्दाफाश, मास्टरमाइंड गिरफ्तार

Ajayendra Rajan | News18Hindi
Updated: December 7, 2017, 11:12 PM IST
देश में पहली बार Bitcoin की ट्रेडिंग के नाम पर ठगी का पर्दाफाश, मास्टरमाइंड गिरफ्तार
एसटीएफ की गिरफ्त में गिरोह का मास्टरमाइंड मोहम्मद अजहद उर्फ अशरफ. News 8 Hindi
Ajayendra Rajan | News18Hindi
Updated: December 7, 2017, 11:12 PM IST
उत्तर प्रदेश स्पेशल टास्क फोर्स ने बिटकॉइन और अन्य वर्चुअल करेंसी की ट्रेडिंग करने के नाम पर ठगी करने वाले गिरोह का पर्दाफाश किया है.

एसटीएफ ने ​गिरोह के मास्टरमाइंड मोहम्मद अजहद उर्फ अशरफ को राजधानी लखनऊ से गिरफ्तार किया है. एसटीएफ के अनुसार ये देश का अपने आप में पहला मामला है, जिसमें बिटकॉइन व अन्य वर्चुअल करेंसी की ट्रेडिंग के नाम पर ठगी उजागर हुई है.

एसटीएफ को कई दिनों से सूचना मिल रही थी कि कुछ लोग बिटकॉइन ट्रेडिंग के नाम पर धोखाधड़ी करके अवैध वसूली कर रहे हैं.

बता दें कि बिटकॉइन एक वर्चुअल करेंसी है, जो लीगल टेंडर के रूप में आरबीआई द्वारा अधिकृत नहीं है. लेकिन बिटकॉइन के कई एक्सचेंज बने हुए हैं, जिनसे लोग आपस में एक-दूसरे से बिटकॉइन व अन्य वर्चुअल करेंसी की खरीद फरोख्त करते हैं.

अकाउंट में पैसा जमा करा रिलीज नहीं करता था बिटकॉइन  

इसी खरीद फरोख्त की आड़ में लोकलबिटकॉइन डॉट कॉम पर फर्जी आईडी बनाकर लोगों को बिटकॉइन आदि के नाम पर फर्जी अकाउंट में पैसा जमा करा लिया जाता है. फिर बिटकॉइन को रिलीज नहीं किया जाता है.

इस हरियाणा के फतेहाबाद निवासी पंकज गर्ग ने पिछले दिनों लखनऊ स्थित एसटीएफ की साइबर क्राइम थाने में शिकायत दर्ज कराई. उन्होंने बताया कि उनके साथ ही ऐसी ही धोखाधड़ी हुई है.

मामले की जांच में एसटीएफ एसएसपी अभिषेक सिंह ने अपर पुलिस अधीक्षक त्रिवेणी सिंह को लगाया.
त्रिवेणी सिंह ने जांच की तो पता चला कि इसी तरह के गिरोह ने इलाहाबाद में भी ठगी की है. यह भी जानकारी हुई कि इस गिरोह का मास्टरमाइंड मोहम्मद अजहद उर्फ अशरफ इलाहाबाद का ही रहने वाला है.

जांच के दौरान एसटीएफ को पता चला कि वह लखनऊ आने वाला है. इसके बाद गुरुवार को टीम ने लखनऊ के चारबाग रेलवे स्टेशन से अशरफ को गिरफ्तार कर लिया.

पूछताछ में अशरफ ने बताया कि उसका एक संगठित गिरोह है, जो बिटकॉइन और अन्य वर्चुअल करेंसी के नाम पर लोगों से विभिन्न फर्जी बैंक खातों में आॅनलाइन पैसा जमा कराकर अवैध वसूली करता है.

अपर पुलिस अधीक्षक त्रिवेणी सिंह कहते हैं कि ये बड़ा रैकेट है. कई और लोगों की जानकारी उनकी हुई है, जिनकी जांच की जा रही है. जल्द ही और भी गिरफ्तारियां हो सकती हैं. उन्होंने कहा कि इसका दायरा देश भर में फैला हो सकता है.

आरबीआई लगातार बिटकॉइन के जोखिमों के प्रति चेता रहा है

बता दें कि वर्चुअल करंसी बिटकॉइन के नई ऊंचाई पर पहुंचने से इसको लेकर निवेशकों में आकर्षण बढ़ रहा है. इसी के मद्देनजर भारतीय रिजर्व बैंक (आरबीआई) ने जनता को बिटकॉइन के जोखिमों के प्रति चेताया है.

आरबीआई ने दूसरी बार इस संबंध में चेतावनी जारी की है. उसने कहा है कि कई वर्चुअल करंसी (वीसी) के मूल्य में तेज वृद्धि के मद्देनजर हम अपनी चिंता को फिर दोहराते हैं.

गौरतलब है कि 1 बिटकॉइन का दाम पिछले सप्ताह 11,000 डॉलर के ऊंचे स्तर पर पहुंच गया, जिसने सबको हैरान कर दिया था. भारत सहित दुनियाभर के निवेशक लगातार इसकी ओर आकर्षित हो रहे हैं.

बिटकॉइन की कीमत में जबर्दस्त उछाल के बाद इसके बारे में जानने वालों की भीड़ लग गई है. लोग बिटकॉइन में निवेश और इसके बारे में जानकारी लेने के लिए कोर्सेज़ की मदद ले रहे हैं.

'बिटक्वाइन को मान्यता देने का सरकार का कोई इरादा नहीं'

हाल ही में बिटक्वाइन को लेकर सरकार ने बड़ा बयान दिया. वित्त मंत्री अरुण जेटली ने साफ कर दिया है कि फिलहाल बिटक्वाइन को मान्यता देने का सरकार कोई इरादा नहीं है. वित्त मंत्री ने कहा कि अभी तक सरकार का रुख यहीं है कि वर्चुअल करंसी बिटकॉइन को कानूनी मान्यता नहीं है.

वित्त मंत्री ने साफ कहा कि बिटकॉइन पर बनाई गई वित्त मंत्रालय के तत्कालीन अतिरिक्त सचिव दिनेश शर्मा कमेटी ने रिपोर्ट सौंप दी है. रिपोर्ट की समीक्षा की जा रही है, जिसके बाद जल्द फैसला लिया जाएगा.
पूरी ख़बर पढ़ें
अगली ख़बर