UP Weather: पूरे हफ्ते बदला रहेगा मौसम का मिजाज, प्रदेश के अलग-अलग इलाकों में आंधी और बारिश के आसार

यूपी के कई जिलों में बारिश और आंधी की संभावना

यूपी के कई जिलों में बारिश और आंधी की संभावना

UP Weather Forecast Today: आज सोमवार को भी प्रदेश के कई जिलों में भोर में बारिश हुई. प्रदेश में बारिश का ज्यादा असर आज सोमवार को उन इलाकों में देखने को मिलेगा जिनकी सीमा मध्यप्रदेश और राजस्थान से लगी हुई है.

  • Share this:
लखनऊ. मौसम विभाग (Met Department) के ताजा अनुमान के मुताबिक इस पूरे हफ्ते मौसम में बदलाव (Weather Change) देखने को मिलता रहेगा. पश्चिमी यूपी से लेकर पूर्वी यूपी तक 7 मई तक आंधी बारिश की संभावना (Rain Forecast) मौसम विभाग ने जताई है. कई जिलों में कल रविवार को हवा के तेज झोंके के साथ बारिश हुई और आकाशीय बिजली गिरने से जान माल का नुकसान भी हुआ.

आज सोमवार को भी प्रदेश के कई जिलों में भोर में बारिश हुई. प्रदेश में बारिश का ज्यादा असर आज सोमवार को उन इलाकों में देखने को मिलेगा जिनकी सीमा मध्यप्रदेश और राजस्थान से लगी हुई है. मौसम विभाग के अनुमान के मुताबिक आज दोपहर तक जिन जिलों में आंधी बारिश की संभावना है वे जिले हैं - जालौन, बांदा, हमीरपुर, कानपुर नगर, कानपुर देहात, उन्नाव, लखनऊ, रायबरेली, अमेठी, अयोध्या, भदोही, सुल्तानपुर, प्रयागराज, जौनपुर, वाराणसी और मिर्जापुर. इन जिलों में 60 किलोमीटर प्रति घंटे की रफ्तार से अंधड़ चलने की भी आशंका जाहिर की गई है. इससे कच्चे मकानों के नुकसान की भी आशंका है. इसीलिए मौसम विभाग ने अंधड़ और बारिश के समय लोगों को घरों में रहने की सलाह दी है.

तापमान में आई कमी

बदले मौसम की वजह से बढ़ते तापमान में कमी आई है. रविवार से पहले प्रदेश के ज्यादातर शहरों में दिन का अधिकतम तापमान 40 डिग्री सेल्सियस के ऊपर दर्ज किया जा रहा था. वही अब इसमें 4 से 5 डिग्री सेल्सियस की गिरावट दर्ज की जा रही है. ज्यादातर शहरों का तापमान 35 डिग्री सेल्सियस के नीचे दर्ज किया जा रहा है. हालांकि बांदा में रविवार को दिन का अधिकतम तापमान 40 डिग्री सेल्सियस दर्ज किया गया. रात का तापमान ज्यादातर शहरों में 25 डिग्री सेल्सियस के आसपास दर्ज किया जा रहा है. गर्मी से तो लोगों को राहत मिल गई है लेकिन आंधी बारिश की वजह से आम की फसल को अच्छा खासा नुकसान हो रहा है. गनीमत की बात यह है कि रबी की फसल प्रदेश के लगभग सभी जिलों में कट चुकी है. इसलिए खेती को ज्यादा नुकसान नहीं हुआ है.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज