UP Weather Alert: तराई और पूर्वी यूपी के जिलों में बारिश के आसार, उमस से मिलेगी राहत
Allahabad News in Hindi

UP Weather Alert: तराई और पूर्वी यूपी के जिलों में बारिश के आसार, उमस से मिलेगी राहत
तराई और पूर्वी यूपी के जिलों में झमाझम बारिश के आसार सांकेतिक फोटो)

बता दें कि बारिश के लिहाज से गुरुवार का दिन बहुत ही सामान्य रहा. प्रदेश में 4 जिलों को छोड़कर बाकी कहीं भी बारिश (Rain) नहीं दर्ज की गई

  • Share this:
लखनऊ. मौसम विभाग (Met Department) के ताजा अनुमान के मुताबिक शुक्रवार को पूर्वी उत्तर प्रदेश और तराई के कुछ जिलों में बारिश (Rain) की संभावना है. खासकर उन जिलों में जिनकी सीमा या तो बिहार से लगी है या फिर नेपाल से लग रही है. जिन जिलों में बारिश की संभावना जताई गई है, उनमें बहराइच, श्रावस्ती, जौनपुर, आजमगढ़, बनारस, कुशीनगर, देवरिया, बलिया, गोरखपुर और मऊ शामिल है. बादलों की आवाजाही का असर प्रयागराज तक देखने को मिल सकता है. दोपहर बाद लखनऊ और इसके आसपास के जिलों में भी मौसम में हल्का बदलाव आ सकता है.

प्रदेश के बाकी सभी जिलों में मौसम खुला रहेगा. बारिश की कोई संभावना नहीं जताई गई है. यह जरूर है कि बादलों के आने जाने से धूप और छांव का सिलसिला चलता रहेगा. पूर्वांचल और तराई के जिलों को छोड़ दिया जाए तो प्रदेश में बाकी जगहों पर तेज धूप निकलने से गर्मी और उमस का सामना करना पड़ेगा. मौसम विभाग के अभी तक के अनुमान के मुताबिक अगले 3 से 4 दिनों तक मौसम की यही रफ्तार बनी रहेगी. ज्यादा बारिश की संभावना नहीं है. यही वजह है कि मौसम विभाग ने किसी भी जिले के लिए कोई अलर्ट जारी नहीं किया है.

ये भी पढे़ं- 69000 शिक्षक भर्ती मामला: लोहा सिंह पटेल की याचिका पर आज होगी HC में सुनवाई



बता दें कि बारिश के लिहाज से गुरुवार का दिन बहुत ही सामान्य रहा. प्रदेश में 4 जिलों को छोड़कर बाकी कहीं भी बारिश नहीं दर्ज की गई. वहीं सबसे ज्यादा 39 मिलीमीटर बारिश दर्ज की गई. रायबरेली में 6.4 मिलीमीटर जबकि प्रयागराज में 5.3 मिलीमीटर बारिश दर्ज की गई. इसके अलावा वाराणसी में 1.8 मिलीमीटर बारिश दर्ज की गई. प्रदेश के बाकी किसी भी जिले में बारिश नहीं दर्ज की गयी. बारिश में आई कमी का लाभ पूर्वी और तराई के बाढ़ ग्रस्त जिलों को मिला है. ज्यादातर जिलों से पानी लगभग उतर गया है. बाढ़ ग्रस्त जिलों की सूची में अब सिर्फ 10 जिले ही शामिल हैं. अगले कुछ दिनों तक मौसम का यही मिजाज रहा तो जल्द ही इन सभी 10 जिलों से भी जलभराव की समस्या खत्म हो सकती है.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज