UP Weather Update: आज भी छिटपुट बारिश की संभावना, 8 अगस्त से पूर्वी यूपी में मॉनसून पकड़ेगा रफ्तार
Aligarh News in Hindi

UP Weather Update: आज भी छिटपुट बारिश की संभावना, 8 अगस्त से पूर्वी यूपी में मॉनसून पकड़ेगा रफ्तार
यूपी में 8 अगस्त से मॉनसून फिर से रफ्तार पकड़ेगा

मौसम विभाग (Met Department) के अनुमान के मुताबिक शनिवार 8 अगस्त से पूर्वी यूपी, तराई और मध्य यूपी के जिलों में थोड़ी ज्यादा बारिश की संभावना जताई गई है. 9 अगस्त को प्रदेश के लगभग सभी स्थानों पर बारिश की संभावना जताई गई है.

  • Share this:
लखनऊ. मौसम विभाग (Met Department) ने आज शुक्रवार के लिए ताजा अनुमान जारी कर दिया है. इसके मुताबिक उत्तर प्रदेश (Uttar Pradesh) में छिटपुट बारिश (Rainfall) की ही संभावना है. कुछ एक जिलों में हल्की बूंदाबांदी को छोड़कर बाकी प्रदेश में मौसम साफ ही रहेगा. बादलों की आवाजाही तो लगी रहेगी लेकिन बारिश की गुंजाइश कम ही है. हां यह जरूर है कि तेज हवाओं के चलते गर्मी और उमस भरे माहौल से राहत मिलती रहेगी.

8 अगस्त से तेज होगा बारिश का सिलसिला

मौसम विभाग के अनुमान के मुताबिक कल शनिवार से मॉनसून रफ्तार पकड़ सकता है. पूर्वी यूपी, तराई और मध्य यूपी के जिलों में थोड़ी ज्यादा बारिश की संभावना जताई गई है. 8 अगस्त को पश्चिमी यूपी में बारिश का जोर कम ही रहेगा लेकिन 9 अगस्त को प्रदेश के लगभग सभी स्थानों पर बारिश की संभावना जताई गई है. यह सिलसिला अगले एक-दो दिनों तक जारी रहेगा. हालांकि अभी तक के जारी इस अनुमान में समय बीतने के साथ परिवर्तन भी हो सकता है.



गुरुवार को झांसी, उरई, अलीगढ़ और कानपुर में ही बारिश
इससे पहले गुरुवार का दिन बारिश के लिहाज से प्रदेश में मिला-जुला ही रहा. झांसी, उरई, अलीगढ़ और कानपुर को छोड़कर बाकी जिलों में बारिश नहीं दर्ज की गई. झांसी में 11 जबकि अलीगढ़ में 9 मिलीमीटर बारिश दर्ज की गई. कानपुर में 3 मिलीमीटर बारिश दर्ज की गई. उरई में 5 मिलीमीटर बारिश दर्ज की गई.

प्रदेश में 17 जिलों में बाढ़ की स्थिति

बारिश की रफ्तार में आई इस कमी से सबसे ज्यादा राहत उन 17 जिलों को पहुंची है जहां बाढ़ की स्थिति बनी हुई है. पूर्वांचल और तराई के 17 जिलों के सैकड़ों गांव पानी में डूबे हुए हैं. इन इलाकों से बहने वाली नदियों का जल स्तर काफी ऊंचा है. ऐसे में जमा हुआ पानी निकल नहीं पा रहा है. बारिश कम होने से नदियों का जलस्तर घट रहा है और उम्मीद है कि जल्दी ही जलभराव की समस्या से निजात भी मिल सकती है.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज