Home /News /uttar-pradesh /

सवर्ण आरक्षण: बीजेपी के इस मास्टरस्ट्रोक से न केवल पॉलिटिकल बल्कि होगा बड़ा सोशल इम्पैक्ट

सवर्ण आरक्षण: बीजेपी के इस मास्टरस्ट्रोक से न केवल पॉलिटिकल बल्कि होगा बड़ा सोशल इम्पैक्ट

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की फाइल फोटो

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की फाइल फोटो

बीजेपी के इस मास्टरस्ट्रोक से विपक्ष कैसे निपटता है यह देखना होगा. विपक्ष को अब अपना रुख साफ करना होगा.

    लोकसभा चुनाव से पहले केंद्र की मोदी सरकार ने बड़ा दांव खेला है. आर्थिक रूप से पिछड़े ऊंची जाति को रिझाने के लिए सरकार ने आरक्षण देने की घोषणा की है. सूत्रों के मुताबिक कैबिनेट ने आर्थिक रूप से पिछड़े ऊंची जाति के लोगों को 10 फीसदी आरक्षण को मंजूरी दे दी है. इस आरक्षण का फायदा ऐसे लोगों को मिलेगा जिसकी कमाई सलाना 8 लाख से कम है. कहा जा रहा है कि 60 फ़ीसदी आरक्षण के लिए सरकार संविधान में संशोधन का विधेयक ला सकती है. अगर ऐसा हुआ तो सरकार के इस फैसले का न केवल पॉलिटिकल बल्कि सामाजिक स्तर पर भी बड़ा प्रभाव पड़ेगा.

    यूपी में गठबंधन को विस्तार देने की तैयारी में बीजेपी, गुपचुप ढंग से चल रहा काम

    न्यूज18 यूपी के पॉलिटिकल एडिटर मनमोहन राय कहते हैं कि यह एक बहुत बड़ा और ऐतिहासिक कदम है इस फैसले के दूरगामी परिणाम होंगे. उन्होंने कहा, "यह दूरगामी निर्णय है. इसका न सिर्फ पॉलिटिकल बल्कि सोशल लेवल पर भी बड़ा इम्पैक्ट होगा. लोकसभा चुनाव से पहले वोट हथियाने के लिए बीजेपी ने यह बड़ा मास्टरस्ट्रोक खेला है. क्योंकि कहीं न कहीं बीजेपी पिछले दिनों कई पॉलिटिकल मुद्दों पर उलझती जा रही थी. बीजेपी का परंपरागत वोटर अपर कास्ट वोटर रहा है. लेकिन वह एससी-एसटी एक्ट में संशोधन विधेयक लाने के बाद वह बीजेपी से खिन्न हो रहा था. उसका कहना था कि सरकार ने उसके लिए उसके वर्ग के लिए कोई कदम नहीं उठाया. संशोधन विधेयक के बाद उसकी यह पीड़ा और मुखर हो गई. इस निर्णय का विरोध किया था. इसका असर हाल ही में हुए मध्य प्रदेश, राजस्थान और छत्तीसगढ़ के विधानसभा चुनाव में देखने को भी मिला. जिसके बाद पार्टी को यह फीडबैक गया कि सवर्णों नाराजगी दूर करनी होगी."

    यूपी में फिर शुरू 'अपना दल' में घमासान, कृष्णा पटेल ने अनुप्रिया की पार्टी को बताया क्लोन

    मनमोहन राय का कहना था कि बीजेपी के इस मास्टरस्ट्रोक से विपक्ष कैसे निपटता है यह देखना होगा. विपक्ष को अब अपना रुख साफ करना होगा. सपा, बसपा और कांग्रेस को यह स्पष्ट करना होगा कि वे इसके समर्थन में हैं या विरोध में. अगर विरोध में उतारते हैं तो यह वोट उसके हाथ से फिसल जाएगा. कांग्रेस भी सवर्ण वोट बैंक को अपने पक्ष में करने की कोशिश कर रही थी. ऐसे इस फैसले से अगर कांग्रेस इसका विरोध करती है तो वे एक्सपोज होंगे. अगर वे समर्थन भी करते हैं तो फायदा बीजेपी को ही मिलेगा. क्योंकि बसपा सवर्ण आरक्षण की बात करती रही है, लेकिन इसे लागू करने का कदम बीजेपी ने उठाया है.

    एक क्लिक और खबरें खुद चलकर आएगी आपके पाससब्सक्राइब करें न्यूज़18 हिंदी  WhatsAppअपडेट्स

    ये भी पढ़ें:

    भू-माफिया, सियासत और अफसरशाही के बीच खेला जाता है अवैध खनन का खेल!

    खनन घोटाला: याचिकाकर्ता विजय द्विवेदी ने बताया जान को खतरा, मांगी 'Y' श्रेणी सुरक्षा

    शामली: भाकियू के जिलाध्यक्ष और गर्लफ्रेंड के बीच अश्लील बातचीत का ऑडियो वायरल

    BJP सांसद का विवादित बयान, 'वेतन से नहीं चलता खर्च, चोरी तो करनी ही पड़ेगी'

    राजभर और अनुप्रिया ने लखनऊ में बुलाई बैठक, 2019 चुनाव को लेकर होगा मंथन

    Tags: Lucknow news, Up news in hindi, Upper Caste Reservation

    विज्ञापन

    विज्ञापन

    टॉप स्टोरीज

    अधिक पढ़ें

    अगली ख़बर