होम /न्यूज /उत्तर प्रदेश /UP Election Result: पश्‍च‍िमी यूपी में मुस्‍ल‍िम बहुल सीटों का जानिये क्‍या है हाल

UP Election Result: पश्‍च‍िमी यूपी में मुस्‍ल‍िम बहुल सीटों का जानिये क्‍या है हाल

बीजेपी खेमे से उसके सहयोगी अपना दल (एस) ने केवल स्‍वार विधानसभा सीट पर मुस्लिम प्रत्याशी हैदर अली खान पर दांव खेल रखा है.

बीजेपी खेमे से उसके सहयोगी अपना दल (एस) ने केवल स्‍वार विधानसभा सीट पर मुस्लिम प्रत्याशी हैदर अली खान पर दांव खेल रखा है.

up election result 2022: उत्तर प्रदेश के सियासी नक्शे में मुस्लिम वोट बैंक (Muslim vote bank) काफी अहमियत रखता है. उत्त ...अधिक पढ़ें

लखनऊ. उत्तर प्रदेश विधानसभा चुनाव (UP Election 2022) के परिणाम आज आ रहे हैं. यूपी के चुनावों (UP Election Results) में मुस्लिम वोट बैंक काफी अहमियत रखता है. सूबे में मुस्लिम बहुल सीटों की भरमार है. लिहाजा यहां सभी पार्टियों की नजरें इस वोट बैंक पर रहती है. अगर हम उत्तर प्रदेश चुनाव (UP Vidhan Sabha Chunav Results) में केवल पश्चिमी उत्तर प्रदेश की ही मुस्लिम बहुल सीटों की बात करें तो इनकी फेहरिस्त भी काफी लंबी है. पश्चिमी यूपी में सहारनपुर, संभल, कैराना, शामली, मेरठ, रामपुर, स्‍वार, मुरादबाद, अलीगढ़ और देवबंद ऐसे विधानसभा क्षेत्र हैं जहां मुस्लिमों का बड़ा वोट बैंक हैं. इन सीटों पर बीजेपी को छोड़कर सभी पार्टियों ने मुस्लिम प्रत्याशियों पर दांव लगाया है.

सियासी मानचित्र से देखें तो पश्चिमी यूपी के 16 जिलों में कुल 136 विधानसभा सीटें हैं. इनमें से 113 सीटों पर चुनाव पहले दो चरणों में हो गये थे. पश्चिमी यूपी की कुल विधानसभा सीटों में से करीब दो दर्जन से ज्यादा सीटें मुस्लिम बाहुल्य हैं. पश्चिमी उत्तर प्रदेश में मोटे तौर पर समाजवादी पार्टी और बीजेपी में सीधा मुकाबला है. लेकिन पश्चिमी यूपी में अपना वर्चस्व रखने वाली बसपा ने यहां बड़ी संख्या में मुस्लिम उम्मीदवार उतार रखे हैं. बसपा के मुस्लिम प्रत्याशी सपा का खेल बिगाड़ सकते हैं.

UP Election Results 2022 Live Update: देखें किसने बनाई बढ़त, कौन चल रहा है पीछे

आपके शहर से (लखनऊ)

प्रमुख मुस्लिम सीटों की स्थिति

बीजेपी खेमे से उसके सहयोगी अपना दल (एस) ने केवल स्‍वार विधानसभा सीट पर मुस्लिम प्रत्याशी हैदर अली खान पर दांव खेला है. उनका मुकाबला समाजवादी पार्टी के सांसद आजम खान के बेटे अब्दुल्ला आजम से है. हैदर अली खान के पिता नवाब काजिम अली 4 बार विधायक रह चुके हैं. अहम बात यह भी है कि उत्तर प्रदेश में बीजेपी खेमे से 2014 के बाद पहली बार किसी मुस्लिम प्रत्‍याशी पर दांव खेला गया है.

स्‍वार : हैदर हाथ का साथ छोड़कर आये हैं चुनाव मैदान में

हालांकि करीब 36 वर्षीय हैदर अली खान को इस चुनाव में पहले कांग्रेस ने अपना प्रत्‍याशी बनाया था. लेकिन हैदर ने पाला बदलकर अपना दल (एस) का दामन थाम लिया. उसके बाद अपना दल (एस) ने उनको स्‍वार से टिकट देकर मैदान में उतार दिया. इस सीट का दिलचस्प पहलू यह भी है कि हैदर अली खान कांग्रेस की दिग्गज नेता नूर बानो के पोते हैं. एसेक्स यूनिवर्सिटी से स्नातक हैदर के पिता नवाब काजिम अली और सपा सांसद आजम खान के बीच लंबे समय से अदावत है.

संभल : तीन मुस्लिम और एक हिन्दू प्रत्याशी के बीच हुआ है मुकाबला

मुस्लिम बहुल संभल सीट पर लंबे समय से समाजवादी पार्टी का कब्जा है. यहां से वर्तमान में सपा के इकबाल महमूद विधायक हैं. इकबाल सपा सरकार में कैबिनेट मंत्री रह चुके हैं. सपा ने इस बार भी इकबाल पर ही भरोसा जताया है. यहां से कांग्रेस ने पूर्व पत्रकार निदा अहमद और बसपा ने यहां बहुजन समाज पार्टी ने मीट-कारोबारी शकील अहमद को टिकट देकर सपा और कांग्रेस की राह को कठिन करने का प्रयास किया है. बीजेपी ने यहां से राजेश सिंघल को मैदान में उतार रखा है.

कैराना : पलायन के मुद्दे को लेकर चर्चित है यह सीट

उत्तर प्रदेश सूबे की मुस्लिम बहुल कैराना सीट कथित तौर पर वर्ष 2017 में हुये हिन्दुओं के पलायन के मसले को लेकर देशभर में खासी चर्चित रह चुकी है. लिहाजा बीजेपी ने सपा के कब्जे वाली इस सीट से ही अपना चुनाव प्रचार अभियान शुरू किया था. इसका असर भी हुआ. यूपी में पहले चरण के चुनाव में सबसे ज्यादा मतदान इसी सीट पर हुआ है. इससे यहां बीजेपी काफी उत्साहित है. सपा ने यहां अपने मौजूदा विधायक विधायक नाहिद हसन को चुनाव मैदान में उतार रखा है. बीजेपी ने इस मुद्दे को संसद में उठाने वाले पूर्व सांसद हुकुम सिंह की बेटी मृगांका सिंह को उतारा है. बसपा ने यहां राजेंद्र स‍िंह पर दांव खेला है. नाहिद हसन जेल में बंद हैं. वे जेल से ही यह चुनाव लड़ रहे हैं. नाहिद की जगह उनकी बहन ने मोर्चो संभाल रखा है.

रामपुर सदर : आजम खान की प्रतिष्ठा है दांव पर

रामपुर की मस्लिम बाहुल्य सदर सीट पर इस बार सपा के दिग्‍गज नेता आजम खान की प्रतिष्ठा दांव पर लगी है. आजम खान का मुकाबला बीजेपी के आकाश सक्‍सेना समेत कांग्रेस के नवाब काजिम खान और बसपा के सदाकत हुसैन से हुआ है. इस सीट पर भी तीन मुस्लिम कैंडिटेड्स के एक बीच हिन्दु प्रत्याशी आकाश सक्सेना हैं. आजम के बेटे अब्दुला आजम स्वार सीट से चुनाव मैदान में हैं.

सहारनपुर नगर : उत्तर प्रदेश की चर्चित सीटों में है शुमार

मुस्लिम बाहुल्य सहारनपुर नगर सीट पर समाजवादी पार्टी ने फिर से मौजूदा विधायक संजय गर्ग को मैदान में उतार रखा है. इस क्षेत्र में मुस्लिम वोटों के बाद दूसरा नंबर पंजाबी समुदाय के वोटों का है. लिहाजा बसपा ने यहां पंजाबी प्रत्याशी मनीष अरोड़ा पर दांव लगा रखा है. यहां मुख्य मुकाबला सपा और बसपा में ही है.

सहारनपुर देहात : सपा ने फिर मौजूद विधायक पर जता रखा है भरोसा

उत्तर प्रदेश की मुस्लिम बाहुल्य सहारनपुर सीट भी हॉट सीट बनी हुई है. सपा ने यहां अपने मौजूदा विधायक मसूद अख्तर को ही फिर मौका दे रखा है. पिछली बार इस सीट पर सपा का कांग्रेस से गठबंधन था. गत बार यहां वोट गठबंधन को मिले थे. लेकिन इस बार सपा का मुकाबला बसपा से है.

देवबंद : दलित और क्षत्रिय वोटर्स के भरोसे है बीजेपी

करीब डेढ़ लाख मुस्लिम वोटर्स वाली देवबंद सीट पर अभी तक बीजेपी काबिज थी. बीजेपी ने इस बार भी अपने निवर्तमान विधायक बृजेश सिंह को ही इस क्षेत्र की बागडोर सौंप रखी है. वह इस बार भी दलित और क्षत्रिय वोटर्स के भरोसे अपनी जीत मानकर चल रही है. यहां सपा से कार्तिक राणा, कांग्रेस से राहत खलील और बसपा से चौधरी राजेंद्र प्रत्याशी हैं.

पश्चिमी उत्तर प्रदेश में मुस्लिम सीटों के ताजा हालात

विधानसभा क्षेत्र    पिछली बार ये थे विधायक

01. स्‍वार – अब्दुल्ला आजम खान सपा

02. संभल – इकबाल महमूद सपा

03. कैराना – नाहिद हसन सपा

04. देवबंद – बृजेश रावत बीजेपी

05. सहारनपुर नगर – संजय गर्ग सपा

06. सहारनपुर देहात – मसूद अख्तर कांग्रेस

07. अलीगढ़ – संजीव राजा बीजेपी

08. शामली – तेजेंद्र निर्वाल बीजेपी

09. मेरठ दक्षिण – डॉक्टर सोमेंद्र तोमर बीजेपी

10. मुरादबाद शहर – रितेश कुमार गुप्ता बीजेपी

11. बेहट – नरेश सैनी कांग्रेस

12. गंगोह – कीरत सिंह बीजेपी

13. नकुड़ – डॉक्टर धरम सिंह सैनी बीजेपी

14. बुधाना – उमेश मलिक बीजेपी

15. चरथावल – विजय कुमार कश्यप बीजेपी

16. पुरकाजी – प्रमोद उत्वल बीजेपी

17. मीरापुर – अवतार सिंह भड़ाना बीजेपी

18. खतौली – विक्रम सिंह बीजेपी

19. मुजफ्फरनगर – कपिल देव अग्रवाल बीजेपी

Tags: Lucknow News Update, UP Assembly Election Result, UP Election 2022, UP election results, Uttar Pradesh Assembly Election 2022

विज्ञापन

टॉप स्टोरीज

अधिक पढ़ें