लाइव टीवी

सीएम योगी आदित्यनाथ ने किया अमित शाह का गुणगान, चाणक्य से की तुलना

भाषा
Updated: November 5, 2019, 9:50 PM IST
सीएम योगी आदित्यनाथ ने किया अमित शाह का गुणगान, चाणक्य से की तुलना
मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने कहा कि आदि शंकराचार्य की सांस्कृतिक विरासत को संभालने का भाव अमित शाह में है. (फाइल फोटो)

डॉ. अनिर्बान गांगुली और शिवानंद द्विवेदी की लिखी पुस्तक 'अमित शाह और भाजपा की यात्रा' (Amit Shah aur BJP ki Yatra) पर परिचर्चा में सीएम योगी आदित्यनाथ (Yogi Adityanath) ने अमित शाह (Amit Shah) की खूबियां बताई.

  • Share this:
लखनऊ. उत्तर प्रदेश (Uttar Pradesh) के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ (Yogi Adityanath) ने मंगलवार को कहा कि बीजेपी (BJP) अध्यक्ष अमित शाह (Amit Shah) पर आदि शंकराचार्य, चाणक्य, सावरकर और मोदी की छाप है. उन्होंने कहा कि जिस तरह भारत की गुलामी का कारण बने नंद वंश को उखाड़ने का संकल्प चाणक्य (Chanakya) ने लिया था, वैसे ही कांग्रेस (Congress) मुक्त भारत बनाने का संकल्प शाह ने लिया है.

लखनऊ के लोकभवन में 'अमित शाह और भाजपा की यात्रा' (Amit Shah aur BJP ki Yatra) पुस्तक पर आयोजित परिचर्चा में सीएम योगी ने कहा कि अमित शाह के जीवन में चार महापुरुषों की छाप देखने को मिलती है. उनमें आदि शंकराचार्य की साधना, आचार्य चाणक्य की नीति, वीर सावरकर का राष्ट्रवाद और प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की राष्ट्र के प्रति प्रतिबद्धता का भाव है. आदि शंकराचार्य की सांस्कृतिक विरासत को संभालने का भाव अमित शाह में है.

विरोधियों ने देश की कीमत पर राजनीति की

योगी ने कहा कि अन्य दलों ने देश की कीमत पर राजनीति की. भारतीय जनसंघ अकेला दल था, जिसने कहा कि दल से बड़ा देश है. 1976 में लोकतंत्र को बचाने के लिए जनसंघ ने जनता पार्टी में अपना विलय किया था. जनता पार्टी जब स्थिति नहीं संभाल पाई, तो 1980 में भारतीय जनता पार्टी ने अपनी यात्रा प्रारंभ की जिसने अपने सिद्धान्तों से समझौता किए बिना मात्र 16 वर्ष में देश में अपनी पहली सरकार बनाई. उन्होंने कहा कि सबका साथ सबका विकास का नारा सनातन धर्म की मूल भावना 'सर्वे भवन्तु सुखिनः सर्वे सन्तु निरामया' को प्रकट करने वाला है.

बीजेपी की यात्रा से निकले दो नेता

मुख्यमंत्री ने कहा कि बीजेपी की यात्रा से दो नेता निकले हैं. पहले प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और दूसरे बीजेपी के राष्ट्रीय अध्यक्ष अमित शाह हैं. उन्होंने कहा कि पीएम मोदी ने आज देश ही नहीं, बल्कि दुनिया में एक लोकप्रिय नेता के रूप में अपना विशिष्ट स्थान बनाया है. अमित शाह की यात्रा बूथ अध्यक्ष से शुरू होकर आज भारत के गृहमंत्री के रूप में देखने को मिलती है. कोई व्यक्ति अचानक बड़ा व्यक्तित्व नहीं बन जाता है. उस व्यक्ति का समाज, लोकतंत्र एवं राष्ट्र के लिए भाव और अंत:करण क्या है यह समझने की आवश्यकता है.

परिश्रम का कोई विकल्प नहीं होता
Loading...


सीएम योगी ने कहा, 'लोकसभा उपचुनाव में निराशाजनक हार के बाद मैं राष्ट्रीय अध्यक्ष अमित शाह के पास गया था. महागठबंधन के विषय में उनसे चर्चा की, तब उन्होंने कहा था कि सपा, बसपा या जो भी दल महागठबंधन में शामिल होना चाहते हैं, हो जाएं. यह सब गायब हो जाएंगे, विपरीत से विपरीत परिस्थितियों में भी बीजेपी उत्तर प्रदेश में बड़ी जीत दर्ज करेगी. बस आप परिश्रम करते रहिए, क्योंकि परिश्रम का कोई विकल्प नहीं होता.'

सीएम योगी ने कहा कि शाह, रात में दो बजे सोते थे, सुबह छह बजे प्रचार के लिए निकल जाते थे. उनमें परिश्रम की पराकाष्ठा का भाव है जिसका परिणाम आज सबके सामने है. इस दौरान कार्यक्रम में मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ के साथ उपमुख्यमंत्री केशव प्रसाद मौर्य, संगठन महामंत्री सुनील बंसल, पुस्तक के दोनों लेखक श्यामा प्रसाद मुखर्जी फाउंडेशन के निदेशक अनिर्बान गांगुली और सीनियर रिसर्च फेलो शिवानंद द्विवेदी मौजूद रहे.

ये भी पढ़ें-

मायावती ने बुधवार को बुलाई BSP की बैठक, संगठन में बड़े फेरबदल के संकेत

चिन्मयानंद केस: SIT ने दो महीने में तैयार की 4700 पेज की केस डायरी

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए लखनऊ से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: November 5, 2019, 8:21 PM IST
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...