CM योगी ने पूर्व PM चंद्रशेखर के बहाने सपा पर साधा निशाना, बोले- दिख रहे हैं समाजवाद के कई ब्रांड

सीएम योगी आदित्यनाथ ने मौजूदा समाजवाद और समाजवादी नेताओं पर निशाना साधते हुए कहा कि आज परिवारवाद और जातिवाद जैसे समाजवाद के अनेकों ब्रांड देखने को मिल रहे हैं.

Rajeev P Singh | News18 Uttar Pradesh
Updated: July 8, 2019, 8:59 PM IST
CM योगी ने पूर्व PM चंद्रशेखर के बहाने सपा पर साधा निशाना, बोले- दिख रहे हैं समाजवाद के कई ब्रांड
चंद्रशेखर सिंह एक प्रखर वक्ता, लोकप्रिय राजनेता, विद्वान लेखक और बेबाक समीक्षक थे. (फाइल फोटो)
Rajeev P Singh | News18 Uttar Pradesh
Updated: July 8, 2019, 8:59 PM IST
भारत के पूर्व प्रधानमंत्री चंद्रशेखर की 12वीं पुण्यतिथि के मौके पर राजधानी लखनऊ में 'चंद्रशेखर और राष्ट्रवाद' नामक विषय पर एक संगोष्ठी का आयोजन किया गया, जिसमें बतौर मुख्य अतिथि पहुंच सूबे के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ और विधानसभा अध्यक्ष ह्रदय नारायण दीक्षित नें सबसे पहले चंद्रशेखर को अपनी भावभीनी श्रृद्धांजलि अर्पित की. इसके बाद संगोष्ठी में सीएम योगी ने पूर्व पीएम चंद्रशेखर को राष्ट्रवाद का पर्याय और समाजवादी आंदोलन की अंतिम कड़ी बताते हुए इशारे ही इशारे में मौजूदा समाजवादी पार्टी के नेताओं पर जमकर निशाना साधा.

इस कारण खास थे चंद्रशेखर
यूपी की राजधानी लखनऊ में स्थित पीडब्‍ल्‍यूडी के विश्वेश्वरैया सभागार में चंद्रशेखर ट्रस्ट के संरक्षक एमएलएसी यशवंत सिंह द्वारा आयोजित इस संगोष्ठी को संबोधित करते हुए सीएम योगी ने कहा कि 'चंद्रशेखर और राष्ट्रवाद' एक दूसरे के पर्याय हो सकते हैं. उन्‍होंने ने राष्ट्रवाद की भावना का सदैव समर्थन किया. चंद्रशेखर ने कांग्रेस में रहते हुए कांग्रेस और कांग्रेस की तानाशाही का विरोध किया.

चंद्रशेखर के बहाने सपा पर साधा निशाना

इस दौरान सीएम योगी ने मौजूदा समाजवाद और समाजवादी नेताओं पर निशाना साधते हुए कहा कि आज परिवारवाद और जातिवाद जैसे समाजवाद के अनेकों ब्रांड देखने को मिल रहे हैं. रोटी, कपड़ा और मकान जैसे लच्छेदार नारे लगाने वाले लोगों ने समाजवाद को अराजकता का पर्याय बना दिया, जबकि आज सिर्फ पीएम मोदी ने रोटी, कपड़ा और मकान के नारे को पूरा करने का काम किया. यकीनन आज समाजवाद की लड़ाई सिर्फ परिवारवाद और जातिवाद तक सीमित रह गई है.

यूपी के सीएम योगी आदित्‍यनाथ.


ऐसे थे चंद्रशेखर
Loading...

गौरतलब है कि युवा तुर्क के नाम से चर्चित चंद्रशेखर सिंह एक प्रखर वक्ता, लोकप्रिय राजनेता, विद्वान लेखक और बेबाक समीक्षक थे. वे अपने तीखे तेवरों और खुलकर बात करने के लिए जाने जाते थे. 1975 में इमरजेंसी लागू हुई तो वह उन कांग्रेसी नेताओं में से एक थे, जिन्हें विपक्षी दल के नेताओं के साथ जेल में डाल दिया गया. इमरजेंसी के बाद वे वापस आए और विपक्षी दलों की बनाई गई जनता पार्टी के अध्यक्ष बने. अपनी पार्टी की जब सरकार बनी तो चंद्रशेखर ने मंत्री बनने से इनकार कर दिया. 1990 में उन्हें प्रधानमंत्री बनने का मौका मिला. जब उनकी ही पार्टी के विश्वनाथ प्रताप सिंह की सरकार बीजेपी के सपोर्ट वापस लेने के चलते अल्पमत में आ गई और चंद्रशेखर के नेतृत्व में जनता दल में टूट हुई. एक 64 सांसदों का धड़ा अलग हुआ और उसने सरकार बनाने का दावा ठोंक दिया.

उस वक्त राजीव गांधी के नेतृत्व में कांग्रेस ने उन्हें समर्थन दिया. पीएम बनने के बाद चंद्रशेखर ने कांग्रेस के हिसाब से चलने से इंकार कर दिया. सात महीने में ही राजीव गांधी ने समर्थन वापस ले लिया. चंद्रशेखर सात महीने तक प्रधानमंत्री बने. अपने कार्यकाल में उन्होंने डिफेन्स और होम अफेयर्स की जिम्मेदारियों को भी संभाला था.

ये भी पढ़ें-

भारत में पक्षियों की तस्करी का नया रूट बने म्‍यांमार, मिजोरम और केरल, इतने करोड़ का है अवैध कारोबार

मेरठ RTO ऑफिस के बाहर रोजाना सजती है दलालों की मंडी, अधिकारी खामोश
First published: July 8, 2019, 8:18 PM IST
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...