लाइव टीवी

लखनऊ: PCS एसोसिएशन के ऑडिटर ने दिया इस्‍तीफा, अधिकारियों की बढ़ी बेचैनी
Lucknow News in Hindi

Alauddin | News18 Uttar Pradesh
Updated: January 23, 2020, 10:56 AM IST
लखनऊ: PCS एसोसिएशन के ऑडिटर ने दिया इस्‍तीफा, अधिकारियों की बढ़ी बेचैनी
PCS एसोसिएशन के ऑडिटर ने दिया इस्‍तीफा (फाइल फोटो)

उत्तर प्रदेश (Uttar Pradesh) में पीसीएस एसोसिएशन (PCS Association) का बुरा हाल है. जबकि एसोसिएशन के ऑडिटर समीर वर्मा के इस्‍तीफे से हालात और खराब हो गए हैं.

  • Share this:
लखनऊ. आईएएस लॉबी के बाद उत्तर प्रदेश (Uttar Pradesh) में सबसे मजबूत माने जाने वाली पीसीएस एसोसिएशन (PCS Association) का इन दिनों बुरा हाल है. पीसीएस एसोसिएशन के ऑडिटर समीर वर्मा ने आज अध्यक्ष को अपना इस्तीफा भेजते हुए कहा कि मौजूदा वक्त में जिस तरह के हालात हैं उससे आपात बैठक बुलाए जाने की जरूरत है. वित्त विभाग में विशेष सचिव के पद पर कार्यरत सीनियर पीसीएस अधिकारी समीर वर्मा के इस्तीफे के बाद पीसीएस अधिकारियों में हड़कंप मच गया है. मामले की गंभीरता को देखते हुए 26 जनवरी को लखनऊ में आपातकालीन विशेष सत्र बुलाए जाने का ऐलान कर दिया गया है. उत्तर प्रदेश में करीब 1300 की तादाद में काम करने वाले पीसीएस अधिकारियों को प्रशासनिक व्यवस्था में रीढ़ की हड्डी माना जाता है. अक्सर नाजुक मौकों पर पीसीएस अधिकारी ही हालात को संभालते हैं. साथ ही प्रदेश में राजस्व समेत दर्जनों मामलों में वही मजबूती से काम करते हुए दिखाई देते हैं.

पिछले कुछ दिनों के घटनाक्रम से बढ़ी नाराज़गी
दरअसल, उत्तर प्रदेश में पीसीएस अधिकारी लगातार दबाव में काम करते हुए दिखाई देते रहे हैं. सीनियर अफसर लगातार पीसीएस अधिकारियों को आदेश देते रहे और उन्होंने कभी उफ्फ नहीं की, लेकिन पिछले एक साल में छह से ज्यादा पीसीएस अधिकारियों को नौकरी से निकाल दिया गया, तो 12 से ज्यादा अधिकारी कोर्ट कचहरी के कटघरे में खड़े हो गए हैं. पीसीएस एसोसिएशन पर लगातार इन तमाम चीजों का दबाव बना रहा कि वह सरकार से इस पूरे मामले में बात करे, लेकिन हालात तब और बदतर हो गए जब एसोसिएशन ने किसी भी तरह की अपने लोगों को बचाने के लिए पहल नहीं की. कुछ लोग तो यहां तक मानने लगे कि उत्तर प्रदेश पीसीएस एसोसिएशन बिना रीढ़ की हड्डी वाला संगठन बनकर रह गया है.
वर्मा के इस्तीफे से हरकत में आया संगठन

पीसीएस अधिकारी समीर वर्मा के संगठन से इस्तीफे के बाद एसोसिएशन में तेजी से चर्चा चली कि अगर हम अपने हालात को नहीं बदल सकते तो इस तरह के एसोसिएशन का कोई फायदा नहीं है. शायद इसलिए 26 जनवरी 2020 को एसोसिएशन ने विशेष आपातकालीन सत्र बुला लिया है. उम्मीद की जा रही है कि 26 जनवरी को पीसीएस एसोसिएशन अपने खुद की भलाई का कुछ फैसला कर पाएगा.

 

ये भी पढ़ें-राम मंदिर मॉडल को लेकर विवाद, VHP-द्वारका शारदा पीठ ने ठोका अपना-अपना दावा

 

मेरठ में गरजे राजनाथ, बोले- भारत के मुसलमान को कोई चिमटे से भी नहीं छू सकता

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए लखनऊ से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: January 22, 2020, 10:27 PM IST
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर