Home /News /uttar-pradesh /

यूपी की इस पार्टी ने गधे ‘गर्दभ सिंह यादव’ को बनाया 'सीएम कैंडिडेट'

यूपी की इस पार्टी ने गधे ‘गर्दभ सिंह यादव’ को बनाया 'सीएम कैंडिडेट'

देश की वर्तमान राजनीतिक चुनावी व्यवस्था पर करारा तंज कसते हुए उत्तर प्रदेश की बहुजन विजय पार्टी ने एक गधे को अपना मुख्यमंत्री उम्मीदवार बनाया है.

देश की वर्तमान राजनीतिक चुनावी व्यवस्था पर करारा तंज कसते हुए उत्तर प्रदेश की बहुजन विजय पार्टी ने एक गधे को अपना मुख्यमंत्री उम्मीदवार बनाया है.

देश की वर्तमान राजनीतिक चुनावी व्यवस्था पर करारा तंज कसते हुए उत्तर प्रदेश की बहुजन विजय पार्टी ने एक गधे को अपना मुख्यमंत्री उम्मीदवार बनाया है.

देश की वर्तमान राजनीतिक चुनावी व्यवस्था पर करारा तंज कसते हुए उत्तर प्रदेश की बहुजन विजय पार्टी ने एक गधे को अपना 'मुख्यमंत्री उम्मीदवार' बनाया है. पार्टी ने गधा यानी गर्दभ सिंह यादव को कैण्ट सीट से उम्मीदवार घोषित किया है. यूपी के सत्ता के गलियारों में एक गधे को मुख्यमंत्री पद का दावेदार बनाये जाने की घटना पर खूब चटखारे लिए जा रहे हैं.

बहुजन विजय पार्टी ने कहा कि सीएम फेस के साथ ही पार्टी चुनाव मैदान में उतरेगी. गर्दभ सिंह यादव बहुजन विजय पार्टी के सर्वमान्य नेता व 'सीएम फेस' हैं. उनमें एक अच्छे नेता के सभी गुण हैं. उनकी कथनी-करनी में कोई अंतर नही है. वे राग-द्वेष व जाति-धर्म की मान्यताओं से ऊपर हैं.

इतना ही नहीं गर्दभ सिंह यादव सोमवार को कैण्ट विधानसभा से अपना पर्चा दाखिल करने भी पहुंचे. उन्होंने अपने समर्थकों के साथ दोपहर 12:00 बजे बर्लिंग्टन चौराहा स्थित बहुजन विजय पार्टी कार्यालय से अपना जुलूस लेकर कलेक्ट्रेट के लिए प्रस्थान किया. हालांकि कलेक्ट्रेट के बाहर सुरक्षाकर्मियों ने उन्हें रोक लिया और बाहर से ही लौटा दिया. अधिकारीयों ने कहा कि यह लोकतंत्र है गधातंत्र नहीं.

BVP-donkey-candidate1

इस पर पार्टी के राष्ट्रीय अध्यक्ष केशव चन्द्र ने कहा कि प्रत्याशियों की सूची जारी करने से पहले पार्टी अपना सीएम फेस घोषित करना जरूरी समझती है. उम्मीदवार गर्दभ सिंह यादव ही पार्टी के सीएम फेस भी होंगे. उन्होंने कहा कि संस्कृत में गर्दभ गधे को कहा जाता है लिहाजा इनको यह नाम दिया गया है.

पार्टी ने कहा कि गर्दभ सिंह यादव की सहनशक्ति अपार है, वे अपने कार्यों को बोझ नहीं समझते. स्वच्छ भारत अभियान में उनका युगों से खासा योगदान रहा है. राजनीतिक योग्यताएं उनमें कूट-कूट कर भरी है. विधानसभा में पहुंचकर चूंकि उन्हें जनहित में कानून बनाने हैं इसलिए वे बिल्कुल ही पढ़े-लिखे नहीं हैं, जो उनकी सबसे बड़ी योग्यता है. वे अपनी पहचान नहीं छिपाते, जबकि अन्य नेता अपनी पहचान छिपाते हैं. इनके अंधेर नगरी राज्य में टके-सेर भाजी व टके-सेर खाजा मिलेगा.

Tags: Bahujan vikas Party, Lucknow news, लखनऊ

विज्ञापन

राशिभविष्य

मेष

वृषभ

मिथुन

कर्क

सिंह

कन्या

तुला

वृश्चिक

धनु

मकर

कुंभ

मीन

प्रश्न पूछ सकते हैं या अपनी कुंडली बनवा सकते हैं ।
और भी पढ़ें
विज्ञापन

टॉप स्टोरीज

अधिक पढ़ें

अगली ख़बर