वाराणसी हादसा: जांच कमेटी ने सीएम योगी को सौंपी रिपोर्ट, जेल जा सकते हैं आरोपी

जांच कमेटी ने हादसे के लिए उन सभी को जिम्मेदार ठहराया है जिन्होंने पिछले दो-तीन महीने के दौरान निरीक्षण किया था.

News18 Uttar Pradesh
Updated: May 18, 2018, 8:22 AM IST
वाराणसी हादसा: जांच कमेटी ने सीएम योगी को सौंपी रिपोर्ट, जेल जा सकते हैं आरोपी
वाराणसी में मंगलवार को फ्लाईओवर का हिस्सा गिरने से हुआ था दर्दनाक हादसा
News18 Uttar Pradesh
Updated: May 18, 2018, 8:22 AM IST
प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के संसदीय क्षेत्र वाराणसी में गत मंगलवार की शाम को कैंट स्टेशन के पास हुए हादसे में अपर मुख्य सचिव राज प्रताप सिंह ने अपनी जांच रिपोर्ट गुरुवार रात मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ को सौंप दी. जांच कमेटी ने सेतु निगम के प्रबंध निदेशक समेत सात अफसरों पर कठोर दंडात्मक कार्रवाई की सिफारिश की है.

बता दें जांच कमेटी की रिपोर्ट आने से पहले ही डिप्टी सीएम केशव प्रसाद मौर्य ने सेतु निगम के एमडी राजन मित्तल को पहले ही हटा दिया, जबकि चीफ प्रोजेक्ट मैनेजर समेत चार अधिकारी भी निलंबित किए जा चुके हैं. राजन मित्तल की जगह जेके श्रीवास्तव को उत्तर प्रदेश राज्य सेतु निगम का प्रबंध निदेशक बनाया गया है.

जांच रिपोर्ट में कमेटी ने स्थानीय प्रशासन को भी कटघरे में खड़ा किया है. हादसे की जांच के लिए गठित कॉमेट में राज प्रताप सिंह के अलावा सिंचाई विभाग के प्रमुख अभियंता व विभागाध्यक्ष भूपेंद्र शर्मा और जल निगम के एमडी राजेश मित्तल ने गुरुवार को लखनऊ लौटते ही सीएम को अपनी रिपोर्ट सौंपी.

इन अफसरों के खिलाफ कठोर कार्रवाई की सिफारिश

जांच कमेटी ने अपनी रिपोर्ट में सेतु निगम के एमडी राजन मित्तल, मुख्य परियोजना प्रबंधक एचसी तिवारी, पूर्व परियोजना प्रबंधक गेंदालाल, पूर्व परियोजना प्रबंधक केआर सूद, सहायक परियोजना प्रबंधक राजेंद्र सिंह, अवर परियोजना प्रबंधक लाल चंद्र, अवर परियोजना प्रबंधक राजेश पाल शामिल हैं.

जांच कमेटी ने हादसे के लिए उन सभी को जिम्मेदार ठहराया है जिन्होंने पिछले दो-तीन महीने के दौरान निरीक्षण किया था. रिपोर्ट में कहा गया है कि परियोजना में हर स्तर पर निरीक्षण बरती गई. हालांकि, रिपोर्ट में कहा गया है कि पुल के स्ट्रक्चर व क्वालिटी में कोई कमी नहीं पाई गई. लेकिन डिज़ाइन पर जरुर सवाल खड़े किए गए हैं. जांच में मामला सामने आया कि डिज़ाइन को ड्राइंग के सक्षम अधिकारी से अनुमोदन नहीं कराया गया.
पूरी ख़बर पढ़ें
अगली ख़बर